वाष्प शीतक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
वाष्प शीतक, जो विश्व के शुष्क भागों में कम खर्चीली ठन्डक प्रदान करने के लिये प्रयुक्त होता है।

वाष्प शीतक (अंग्रेजी: Evaporative cooler) एक युक्ति है जो जल के वाष्पन का उपयोग करके हवा को ठण्डा करती है। इसको 'डेजर्ट कूलर' भी कहते हैं। इस शीतक की क्रियाविधि आमतौर से उपयोग आने वाले वातानुकूलन यंत्रों से भिन्न होती है जो वाष्प-संपीडन (vapor-compression) या शोषण प्रशीलन चक्रों के प्रयोग पर आधारित होती हैं।

जल के वाष्पन की तापीय धारिता बहुत अधिक होती है और वाष्प शीतक इसी का सदुपयोग करता है। जब जल (द्रव) को वाष्प में बदलते हैं तो यह आसपास की शुष्क हवा से ऊष्मा का शोषण करती है जिससे हवा ठण्डी हो जाती है। इस क्रिया में प्रशीतन (refrigeration) की अपेक्षा बहुत कम ऊर्जा की आवश्यकता होती है। ठण्डा करने के अलावा यह हवा में आर्द्रता की मात्रा को भी बढ़ाता है जो अति शुष्क क्षेत्रों में अतिरिक्त आराम देती है।

वाष्प शीतक में बन्द-चक्र प्रशीतन नहीं होता बल्कि इसमें जल का लगातार ह्रास होता है।

एयर वाशर और वेट-कूलिंग टॉवर भी इसी सिद्धान्त पर काम करते हैं।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]