वाष्प

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

किसी पदार्थ के क्रांतिक बिन्दु से कम ताप पर उस पदार्थ के गैस प्रावस्था को उस पदार्थ का वाष्प (vapor) कहते हैं। इसका अर्थ है कि वाष्प का दाब बढ़ाकर, बिना ताप कम किये ही, उसे द्रव या ठोस में बदला जा सकता है।

उदाहरण के लिये, पानी का क्रांतिक ताप 374 °C (647 K) है। इसका मतलब है कि इससे अधिक ताप पर किसी भी दशा में पानी द्रव अवस्था में नहीं रह सकता। अतः वायुमण्डल में, सामान्य तापों पर पानी की वाष्प द्रव में बदल जायेगी यदि इसका आंशिक दाब पर्याप्त बढ़ा दिया जाय।

वाष्प और द्रव (या ठोस) का सह-अस्तित्व सम्भव है।

द्रव-वाष्प साम्य[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]


[[चित्र:|right|thumb|300px|X]]

सन्दर्भ[संपादित करें]

साँचा:State of matter