वार्ता:सौर विकिरण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

पार्थिव विकिरण[संपादित करें]

पृथ्वी द्वारा प्राप्त प्रवेशी सौर विकिरण, जो लघु तरंगों के रूप में होता है, पृथ्वी की सतह को गर्म करता है । पृथ्वी स्वयं गर्म होने के बाद एक विकिरण पिंड बन जाती है और वायुमंडल में दीर्घ तरंगो के रूप में ऊर्जा का विकिरण करने लगती है ।यह ऊर्जा वायुमंडल को नीचे से गर्म करती है । इस प्रक्रिया को " पार्थिव विकिरण कहा जाता है । Aashish kumar pradhan (वार्ता) 06:12, 20 जनवरी 2019 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]