वार्ता:नाड़ी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

यह पृष्ठ नाड़ी लेख के सुधार पर चर्चा करने के लिए वार्ता पन्ना है। यदि आप आप अपने संदेश पर जल्दी सबका ध्यान चाहते हैं, तो यहाँ संदेश लिखने के बाद चौपाल पर भी सूचना छोड़ दें।

लेखन संबंधी नीतियाँ

संस्कृत में नुक़्ता[संपादित करें]

कृपया ध्यान दीजिये कि संस्कृत श्लोकों में नाड़ी लिखना ग़लत प्रतीत होता है । इसे नाडी (बिना नुक्ते के) लिखा जाता है । ठीक उसी प्रकार जैसे कि उड़ने को संस्कृत में उड्डयन कहते हैं, उड़यन नहीं । नुक्तों का संस्कृत में कोई स्थान नहीं है ।

   दर्शनस्पर्शनप्रश्नैः परीक्षेताथ रोगिणम्।
   रोगांश्च साध्यान्निश्चत्य ततो भैषज्यमाचरेत्।।
   दर्शनान्नेत्रजिह्वादेः स्पर्शनान्नाड़िकादितः
   प्रश्नाहू1 तादिवचनैः रोगाणां कारणादिभिः।। (नाड़ीज्ञान तरंगिणी)  

--अमित प्रभाकर 09:11, 1 जनवरी 2015 (UTC)