वान झील

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
वान झील
वान झील - अंतरिक्ष से, सितंबर 1996 (छवि का शीर्ष उत्तर-पश्चिम में है)
अंतरिक्ष से, सितंबर 1996
(छवि का शीर्ष उत्तर-पश्चिम में है)
निर्देशांक 38°38′N 42°49′E / 38.633°N 42.817°E / 38.633; 42.817निर्देशांक: 38°38′N 42°49′E / 38.633°N 42.817°E / 38.633; 42.817
झील का प्रकार टेक्टोनिक झील, खारी झील
मुख्य अंतर्वाह करासु, होसाप, गुसेलसू, बेंदीमही, ज़िलान और येनिकोप्रु धाराएँ[1]
मुख्य बहिर्वाह none
जलसम्भर क्षेत्र 12,500 कि॰मी2 (4,800 वर्ग मील)[1]
अपवहन द्रोणी देश तुर्की
अधिकतम लम्बाई 119 कि॰मी॰ (74 मील)
सतह क्षेत्र 3,755 कि॰मी2 (1,450 वर्ग मील)
औसत गहराई 171 मी॰ (561 फीट)
अधिकतम गहराई 451 मी॰ (1,480 फीट)[2]
जल क्षमता 607 कि॰मी3 (146 घन मील)[2]
तट रेखा1 430 कि॰मी॰ (270 मील)
सतह की ऊँचाई 1,640 मी॰ (5,380 फीट)
द्वीप अकड़मार, अर्पनक (कुट्ट्स), एड्र (लिम), कुसे (आर्ट्टर)
तटीय बसेरे वान, तातवान, अहलात, इरसीस
1 तटीय रेखा (तट की लम्बाई) आँकने की कोई एक मानक विधि नहीं है

वान झील (तुर्कीयाई : Van Gölü, आर्मेनियाई: Վանա լիճ‎, वाना; कुर्दिश: गोला वाने), आनातोलिया की सबसे बड़ी झील, और तुर्की के वान और बिट्लिस के प्रांतों के पूर्व में स्थित है। यह एक खारी झील है, जो आसपास के पहाड़ों से निकलने वाली कई छोटी धाराओं से जल प्राप्त करती हैं। वान झील दुनिया की सबसे बड़ी बन्द झीलों (कोई निर्गम नहीं है) -एक ज्वालामुखी विस्फोट ने प्रागैतिहासिक समय में बेसिन से मूल निर्गम को अवरुद्ध कर दिया था- में से एक है। झील 1,640 मी॰ (5,380 फीट) की ऊंचाई में एक कठोर सर्दी वाले क्षेत्र में स्थित है, हालांकि इसकी उच्च लवणता इसे जमने से बचाती है, और यहां तक कि उत्तरी खंड के केवल उथला हिस्सा ही शायद कभी जमता हो।[3]

जल विज्ञान और रसायन विज्ञान[संपादित करें]

अकदमार द्वीप और पवित्र क्रॉस कैथेड्रल, 10वीं शताब्दी का अर्मेनियाई चर्च और मठ का परिसर। आर्टोस पर्वत पृष्ठभूमि में दिखाई दे रहा है।

वान झील अपने सबसे विस्तृत बिंदु पर 119 किलोमीटर (74 मील) चौडी है, 451 मीटर (1,480 फीट) की अधिकतम दर्ज गहराई के साथ याहां की औसत गहराई 171 मीटर (561 फीट) की है। झील की सतह समुद्र तल से 1,640 मीटर (5,380 फीट) ऊपर है और किनारे की लंबाई 430 किलोमीटर (270 मील) है। झील का क्षेत्रफल 3,755 किमी2 (1,450 वर्ग मील) और मात्रा 607 घन किलोमीटर (146 घन मील) की है।[2]

झील का पानी दृढ़ता से क्षारीय (पीएच 9.7-9.8) और सोडियम कार्बोनेट और अन्य लवणों में समृद्ध है, जिन्हें वाष्पीकरण द्वारा निकाला जाता है और डिटर्जेंट के रूप में उपयोग किया जाता है।[4]

भूगोल[संपादित करें]

वान झील मुख्य रूप से एक टेक्टोनिक झील है, जो पूर्वी अनातोलिया के इस हिस्से के माध्यम से चलने वाले कई प्रमुख प्लेटों पर संचालन के कारण पृथ्वी की पपड़ी के एक बड़े ब्लॉक के क्रमिक उपखंड द्वारा 600,000 से अधिक साल पहले बनी थी। झील का दक्षिणी किनारा बिट्लिस मासिफ की मेटामॉर्फिक चट्टानों और नेओजीन और क्वाटर्नेरी अवधियों से ज्वालामुखीय क्षेत्रों के बीच की सीमा को चिह्नित करता है। झील के पश्चिमी भाग की गहराई, एक गुंबद के आकार का बेसिन है जो सामान्य और स्ट्राइक-स्लिप फ़ॉल्टिंग और थ्रस्टिंग के संयोजन द्वारा गठित टेक्टोनिक अवसाद से बना है।[5]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Coskun & Musaoğlu 2004.
  2. Degens et al. 1984.
  3. "Lake Van" 1998.
  4. Sarı 2008.
  5. Toker et al. 2017, पृ॰ 166.