रोमनीकरण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

भाषाविज्ञान में रोमनीकरण , एक भिन्न लेखन प्रणाली से रोमन (लैटिन) लिपि में लिखने को रोमनीकरण कहते हैं।

रोमनीकरण के माध्यमों में लिखित पाठ का लिप्यन्तरण, और बोले गए शब्द का प्रतिलेखन, या दोनों हैं। प्रतिलेखन विधियों को ध्वन्यात्मक प्रतिलेखन में उप-विभाजित किया जा सकता है, जो भाषण में ध्वनि या अर्थ की इकाइयों को रिकॉर्ड करता है, और अधिक सख्त ध्वन्यात्मक प्रतिलेखन, जो सटीक रूप से भाषण ध्वनियों को रिकॉर्ड करता है।


विशिष्ट लेखन प्रणालियों (लिपियों) का रोमनीकरण[संपादित करें]

भारतीय (ब्राह्मी परिवार) लिपियाँ[संपादित करें]

भारतीय उपमहाद्वीप और दक्षिण-पूर्व एशिया की अधिकांश लिपियाँ ब्राह्मी लिपि से जन्मी हैं। रोमन लिप्यन्तरण में संस्कृत और अन्य भारतीय ग्रन्थों का अध्ययन करने के लिए पश्चिम में एक पुरानी परम्परा है। सर विलियम जोन्स के समय से भारतीय लिपियों के लिए विभिन्न लिप्यन्तरण प्रणालियों का उपयोग किया गया है। [1]

  • आई॰एस॰ओ॰ 15919 (2001) : आईएसओ 15919 मानक में एक मानक लिप्यन्तरण प्रणाली को संहिताबद्ध किया गया था। यह रोमन/लैटिन लिपि में ब्राह्मी व्यंजनों और स्वरों के बहुत बड़े सेट को मैप करने के लिए विशेषक (diacritics) का उपयोग करता है। देवनागरी-विशिष्ट भाग अकादमिक मानक, आईएएसटी: " अन्तरराष्ट्रीय संस्कृत लिप्यन्तरण वर्णमाला" और संयुक्त राज्य कांग्रेस पुस्तकालय मानक, एएलए-एलसी (ALA-AC) के समान है, हालाँकि कुछ अन्तर है।
  • कोलकाता में राष्ट्रीय पुस्तकालय रोमनीकरण , जिसका उद्देश्य सभी भारतीय लिपियों का रोमनीकरण कलने के लिए एक मानक तैयार करना है।
  • हार्वर्ड-क्योटो  : यह मानक विशेषक के उपयोग से बचने के लिए, और रेञ्ज को 7-बिट ASCII तक सीमित रखने के लिए अपर और लोअर केस और अक्षरों के दोहरीकरण का उपयोग करता है।
  • आईट्रांस(ITRANS): अविनाश चोपडे द्वारा बनाई गई 7-बिट ASCII में एक लिप्यन्तरण योजना जो यूजनेट पर प्रचलित हुआ करती थी।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Gabriel Pradīpaka. "A comparison of some of them". Sanskrit-sanscrito.com.ar. मूल से 2004-03-15 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2013-04-25.