राष्‍ट्रीय उद्यमशीलता और लघु कारोबार विकास संस्‍थान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

राष्‍ट्रीय उद्यमशीलता और लघु कारोबार विकास संस्‍थान (National Institute for Entrepreneurship and Small Business Development / एन आई ई एस बी यू डी) सूक्ष्‍म लघु और मझौले उद्यम मंत्रालय के अंतर्गत एक प्रमुख संस्‍थान है, जो उद्यमशीला और विकास, विशेष रूप से लघु उद्योग और लघु कारोबार में उद्यमशीलता और विकास के क्षेत्र में लगे विभिन्न संस्‍थानों और एजेंसियों में तालमेल, प्रशिक्षण और निरीक्षण के क्षेत्र में कार्यरत है। एन आई ई एस बी यू डी ने पश्चिम बंगाल, उत्‍तराराण्‍ड, उत्‍तर प्रदेश, मध्‍यप्रदेश, हरियाणा, दिल्‍ली, राजस्‍थान, ओड़ीशा, बिहार, झारखण्‍ड, छत्‍तीसगढ़, पंजाब, जम्‍मू कश्‍मीर, गुजरात और केन्‍द्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ में दिसंबर 2011 तक 35000 युवकों के लिए उद्यमशीलता और कौशल विकास की एक बड़ी परियोजना शुरू की है। देशभर में उद्यमशीलता संस्‍कृति फैलाने के लिए सूक्ष्‍म लघु और मझौले उद्यम मंत्रालय को राष्‍ट्रीय सूक्ष्‍म, लघु और मझौले उद्योग संस्‍थान हैदराबाद और भारतीय उद्यमशीलता संस्‍थान गुवाहाटी द्वारा सहायता दी जाती है।

अधिकतम रोजगार के लिए कौशलों की पहचान[संपादित करें]

बाजार की जरूरतों के आधार पर कौशलों की पहचान की गई है, ताकि ज्‍यादा से ज्‍यादा लोगों को रोजगार मिल सके। संस्‍थान को आशा है कि भागीदारों में कम से कम 25 प्रतिशत को इसी वित्‍त वर्ष के अंदर रोजगार मिल जाएगा। जिन कौशलों की पहचान की गई है, वे हैं- होटलों में कमरों का रख-रखाव और अतिथियों का सत्‍कार, खुदरा व्‍यापार प्रबंधन, सूचना प्रौद्योगिकी और सूचना प्रौद्योगिकी से चलने वाली सेवाएं, हल्‍की इंजीनियरी, फैशन डिजाइन, कृत्रिम जवाहरात और शृंगार तथा सौंदर्य प्रसाधिका। इनमें से ज्‍यादा प्रशिक्षण कार्यक्रम ‘प्रशिक्षण संस्‍थानों को सहायता’ कार्यक्रम के तहत मंत्रालय द्वारा प्रायोजित किये जा रहे हैं। भाग लेने वालों को स्‍व-रोजगार के लिए प्रोत्‍साहित किया जाता है या उन्‍हें राजीव गांधी उद्यमी मित्र योजना के तहत सहायता दी जाती है। राजीव गांधी उद्यमी मित्र योजना को भी मंत्रालय चला रहा है। जिला प्रशासन, उद्योग और कारोबार एसोसिएशनों, बैंकों और नौकरी दिलाने वाली एजेंसियों को भी इन कार्यक्रमों के साथ जोड़ा जाता है।

विचारों के आदान-प्रदान के लिए राष्‍ट्रीय और अंतरराष्‍ट्रीय फोरम[संपादित करें]

एन आई ई एस बी यू डी राष्‍ट्रीय और अंतरराष्‍ट्रीय भागीदारों के लिए 1983 से प्रशिक्षण कार्यक्रम चला रहा है। इसके अलावा ये संस्‍थान अनुसंधान पाठयक्रम चलाता है और नये तथा सूक्ष्‍म, लघु और मझौले उद्योगों के क्षेत्र में वर्तमान और नये उद्यमियों का मार्गदर्शन भी करता है और उन्‍हें परामर्श सेवाएं भी उपलब्‍ध कराता है। एन आई ई एस बी यू डी श्रम और रोजगार, ग्रामीण विकास, सामाजिक न्‍याय और अधिकारिता जैसे मंत्रालयों के साथ मिलकर काम कर रहा है और उन्‍हें उनके उद्देश्‍यों की प्राप्ति में सहायता दे रहा है।

उद्यमशीलता को बढ़ावा[संपादित करें]

एन आई ई एस बी यू डी ने केन्‍द्र और राज्‍य सरकारों और उनकी एजेंसियों को उद्यमशीलता को बढ़ावा देने में सहायता की है। इस संस्‍थान ने एशिया और अफ्रीका के विभिन्‍न देशों को समर्थन और मार्गदर्शन भी प्रदान किया है।

एन आई ई एस बी यू डी ने हाल ही में उद्यमशीलता के महत्‍व को छात्रों और शिक्षकों में दर्शाने के लिए विभिन्‍न्‍इंजीनियरिंग कॉलेजों, प्रबंधन संस्‍थानों और अन्‍य संस्‍थानों में 100 से ज्‍यादा वर्कशॉप आयोजित कीं। हजारों छात्रों और सैकड़ों शिक्षकों ने यह महसूस किया कि देश की असली जरूरत और कर्मचारी पैदा करना नहीं है, बल्कि और उद्यमी पैदा करना है, जो अनेक लोगों को रोजगार दे सकेंगे।

2010-2011 तक इस संस्‍थान ने 75000 लोगों को प्रशिक्षण प्रदान किया है, जिनमें 2100, सवा सौ देशों के थे। ये संस्‍थान 2011-2012 में 25 देशों के 200 लोगों को प्रशिक्षित करने के लिए 8 अंतरराष्‍ट्रीय प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करेगा। संस्‍थान रोजगार का कौशल बढ़ाने के लिए 40000 हजार लोगों को प्रशिक्षण देगा और 10000 लोगों को स्‍व-रोजगार शुरू करने के लिए प्रेरित करने का प्रयास करेगा।

बाहरी कडियाँ[संपादित करें]