राजीव कुमार जून

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

मेजर राजीव कुमार जून, एसी, एससी भारतीय सेना में एक उच्च सज्जित अधिकारी थे। उन्हें भारत का सर्वोच्च शांति-काल सैन्य अलंकरण अशोक चक्र मरणोपरांत से सम्मानित किया गया था। [1] उन्हें पहले शांति के समय का तीसरा सबसे बड़ा सैन्य अलंकरण है शौर्य चक्र से अलंकृत किया गया था। [2]

प्रारंभिक जीवन और शिक्षा[संपादित करें]

राजीव का जन्म ५ दिसंबर १९६९ को हरियाणा के रोहतक जिले के गद्दी खीरी गांव में धर्म सिंह जून और शांति देवी के घर हुआ था, जो उनके छह बच्चों में सबसे बड़े थे - २ लड़के और ४ लड़कियां। १९८० में, धर्म सिंह जून की मृत्यु के साथ, ११ वर्षीय राजीव ने परिवार की जिम्मेदारी संभाली। उन्होंने रोहतक के सर छोटू राम मेमोरियल पब्लिक स्कूल में पढ़ाई की और बाद में सैनिक स्कूल, कुंजपुरा से अपनी स्कूली शिक्षा पूरी की। १९८७ में, वह राष्ट्रीय रक्षा अकादमी, पुणे में शामिल हो गए। [3]

सेना कैरियर[संपादित करें]

राजीव ने १९९१ में भारतीय सैन्य अकादमी से स्नातक की उपाधि प्राप्त की और २२ वीं बटालियन द ग्रेनेडियर्स (२२ ग्रेनेडियर्स) में ८ जून १९९१ को द्वितीय लेफ्टिनेंट नियुक्त किया गया [4] सितंबर १९९२ में, २२ ग्रेनेडियर्स को काउंटर इंसर्जेंसी ऑपरेशन के लिए जम्मू और कश्मीर में शामिल किया गया था। ८ जून १९९३ को जून को लेफ्टिनेंट पदोन्नत किया गया था। [5]

१६ अप्रैल १९९४ को, एक युवा कप्तान के रूप में, राजीव ने एक घातक पल्टन का नेतृत्व किया और एक मुठभेड़ में 3 आतंकवादियों का सफाया कर दिया। इस ऑपरेशन के लिए उन्हें शौर्य चक्र से नवाजा गया था। [6]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "RAJIV KUMAR JOON, SC | Gallantry Awards". gallantryawards.gov.in.
  2. "RAJIV KUMAR JOON | Gallantry Awards". gallantryawards.gov.in.
  3. Reddy, Kittu. Bravest of the brave : heroes of the Indian Army. Ocean Books. पपृ॰ 105–106. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788187100003.
  4. "Part I-Section 4: Ministry of Defence (Army Branch)" (PDF). The Gazette of India. 21 November 1992. पृ॰ 2094.
  5. "Part I-Section 4: Ministry of Defence (Army Branch)" (PDF). The Gazette of India. 4 March 1995. पृ॰ 354.
  6. "Major Rajiv Joon — a modest but daring officer".