रांझणा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
रांझणा
चित्र:Dhanush-Hindi-Debut-Movie-Raanjhanaa-First-Look-Posters.jpg
नाट्य रिलीज पोस्टर
निर्देशक आनंद एल॰ राय
निर्माता कृशिका लुल्ला[1]
पटकथा हिमांशु शर्मा
कहानी हिमांशु शर्मा
अभिनेता धनुष
सोनम कपूर
अभय देयोल
संगीतकार ए आर रहमान
छायाकार नटराजन सुब्रमण्यम
विशाल सिन्हा
संपादक हेमन्त कोठारी
वितरक इरोस इंटरनेशनल
प्रदर्शन तिथि(याँ)
  • जून 21, 2013 (2013-06-21)
(हिन्दी)
  • जून 28, 2013 (2013-06-28)
(तमिल)[2]
समय सीमा 140 मिनट
भाषा हिन्दी
लागत भारतीय रुपया35 करोड़ (US$5.11 मिलियन)
कुल कारोबार भारतीय रुपया120 करोड़ (US$17.52 मिलियन)

रांझणा आनंद एल॰ राय द्वारा निर्देशित और कृशिका लुल्ला द्वारा निर्मीत, २०१३ में प्रदर्शित हिन्दी फ़िल्म है। यह फ़िल्म धनुष, सोनम कपूर, अभय देयोल आदि कलाकारों द्वारा अभिनीत है।[3] इरोस इंटरनेशनल की यह फिल्म एक प्रेम कहानी है। जिसमें कुंदन शंकर (धनुष) एक दक्षिण भारतीय हिंदू है जो वाराणसी में अपने मां-बाप के साथ रहता है। उसके पिता (विपिन शर्मा) एक मंदिर में पुजारी हैं। इसके तमिल संस्करण को छोड़कर फ़िल्म २१ जून २०१३ को सिनेमाघरों में प्रदर्शित हुई। इसका तमिल संस्करण का नाम अंबिकापथी है।[4]

पात्र[संपादित करें]

पटकथा[संपादित करें]

कुंदन शंकर (धनुष) एक दक्षिण भारतीय हिंदू है और भगवान में प्रबल विश्वास रखता है। चूँकि वह बचपन से ही पड़ोस में ही रहने वाली एक मुस्लिम लड़की ज़ोया हैदर (सोनम कपूर) को चाहता है जो वारणसी में रहते हैं और उसके पिता प्रोफेसर हैं। विद्यालयी शिक्षा के दौरान वह कुंदन हमेशा ज़ोया के साथ ही घुमना फ़िरना करता है। इस प्रकार वह अपने प्यार का इज़हार ज़ोया से कर देता है लेकिन ज़ोया उसे गंभीरता से नहीं लेती। लेकिन एक दिन जब कुंदन अपने प्यार का प्रमाण देने के लिए अपनी कलाई काट लेता है तो ज़ोया सबके सामने उसे गले लगा लेती है। इस घटना से ज़ोया के घर में हंगामा मच जाता है और उसे आगे की पढ़ाई के लिए अलीगढ़ भेज दिया जाता है जिसके बाद वो कॉलेज की पढ़ाई के लिए दिल्ली आ जाती है। दिल्ली में उसकी मुलाक़ात एक तेज तर्रार छात्र नेता अक़रम ज़ैदी (अभय देओल) से होती है और वो दोनों एक दूसरे को चाहने लगते हैं। इस बीच बिंदिया (स्वरा भास्कर) बचपन से ही कुंदन को चाहती है और उससे शादी करना चाहती है। आठ वर्ष बाद ज़ोया अपने घर वाराणसी पहुंचती है। कुंदन एक बार फिर उससे मिलता है और अपने प्यार का इज़हार करता है लेकिन वो मना कर देती है क्योंकि वह तो अक्रम से प्यार करती है। ज़ोया अपने घरवालों को अपने प्यार के बारे में बताती है। आगे क्या होता है इसके लिए आपको फ़िल्म देखनी होगी।[5]

संगीत[संपादित करें]

ए आर रहमान द्वारा दिया गया संगीत कर्णप्रिय है। फ़िल्म में बनारसिया, तुम तक, टाइटल ट्रैक और तू मन शुद्धि गाने हैं। इरशाद क़ामिल ने बोल दिये हैं और बॉस्को-सीज़र द्वारा कोरियोग्राफी की गई है।[5]

टिकट खिड़की[संपादित करें]

घरेलू[संपादित करें]

विदेशी[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. दिब्योज्योती बक्सी. "जया बच्चन'ज परफॉरमेंस इन गुड्डी इंस्पायर्ड मी: सोनम कपूर". हिन्दुस्तान टाईम्स. Retrieved 24 जून 2013.  Check date values in: |access-date= (help)
  2. "'अम्बिकापथी' रिलीज़ पोस्टपोन्ड". सिफी (Sify). 14 जून 2013. Retrieved 14 जून 2013.  Check date values in: |access-date=, |date= (help)
  3. "धनुष टु रोमांस सोनम कपूर". वन इंडिया एंटरटेनमेंट. 5 मार्च 2012. Retrieved 24 जून 2013.  Check date values in: |access-date=, |date= (help)
  4. "रांझाणा बिकम्स अंबिकापथी इन तमिल". द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया. Retrieved 2013-06-24. 
  5. कोमल नाहटा (वरिष्ठ फ़िल्म समीक्षक) (21 जून 2013 को 17:36 भारतीय मानक समय). "फ़िल्म रिव्यू: दर्शकों को रिझा पाएगी 'रांझणा'?". बीबीसी हिन्दी. Retrieved 24 जून 2013.  Check date values in: |access-date=, |date= (help)

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]