यक्षगान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

यक्षगान कर्णाटक प्रदेश की एक संप्रदायिक नाटक और नृत्य शैली है। यह आट, बयलाट कि नाम्सेभि जानिजाति है।

यक्षगान एक रंगमंच का रूप है। यह एक अनूठी शैली और रूप के साथ नृत्य, संगीत, संवाद, पोशाक, मेकअप और मंच तकनीकों को जोड़ती है। यह थिएटर शैली पश्चिमी ओपेरा की तरह है और मुख्य रूप से तटीय जिलों और भारत के मलेनडू क्षेत्र में पाई जाती है। यक्षगान परंपरागत रूप से शाम से सुबह तक प्रस्तुत किया जाता है।