मूरिश किला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
द मूरिश कासल
जिब्राल्टर
The Moorish Castle's Tower of Homage in Gibraltar flying the Union flag.
मूरिश कासल टावर जो जिब्राल्टर को समर्पित है।
मूरिश किला is located in Gibraltar
मूरिश किले कि जगहHomage.
प्रकार किला
निर्देशांक 36°08′38″N 5°20′59″W / 36.143882°N 5.349857°W / 36.143882; -5.349857
निर्माण c. 711
ऊंचाई लगभग 100 मीटर
प्रयोग में c.711-1945
वर्तमान स्थिति आधा टुटा हुआ
वर्तमान स्वामित्व जिब्राल्टर कि सरकार
जनता के लिये खुला
हाँ
अधिकृत है मूर्स: 711-1309
कास्टील का साम्राज्य: 1309-1333
मूर्स: 1333-1462
कास्टीलियनस: 1462-1704
हाउस ऑफ़ हैबसबर्ग: 1704-1713
ग्रेट ब्रिटेन साम्राज्य: 1713-वर्तमान

मूरिश किला जिब्राल्टर में स्थित एक एतिहासिक मध्ययुगीन किला है। इसमें कई इमारतें, द्वार, किलेबंद दीवारें व मशहूर टावर ऑफ़ होमेज व गेट हाउस शामिल है। इसमें स्थित टावर ऑफ़ होमेज जिब्राल्टर आने वाले यात्रियों को दूर से ही दिख जाता है। मूरिश किले का जिब्राल्टर में निर्माण मिरिनिद वंश ने करवाया था जिससे यह इबिरियाई पेनिज्वेला कि एक अद्वितीय वास्तु बन गया।[1]

किले के एक हिस्से में जिब्राल्टर का एच एम कारागृह भी स्थित था परन्तु उसे २०१० में स्थानांतरित कर दिया गया।

इतिहास[संपादित करें]

रानी शेर्लोट कि बैटरी मूरिश किले में।

जिब्राल्टर हमेशा से ही कई सभ्यताओं व व्यक्तियों के लिए एक आकर्षण का स्थान रहा है। इनमें ननिन्दर्थाल काल से मूरिश, स्पेनी व वर्तमान ब्रिटिश साम्राज्य शामिल है।

जिब्राल्टर के इतिहास में मूरिश साम्राज्य सबसे लम्बा चला आ रहा है जो ७११ से १३०९ तक चला व उसके पश्च्यात १३५० से १५६२ तक कायम रहा जो कुल ७१० वर्ष का हो गया।[2] जिब्राल्टर का मुस्लिम व इसाई, दोनों संस्कृतियों में महत्वपूर्ण स्थान है।

स्पेन पर मूरिश कि चढ़ाई तारिक इबिन ज़ियाद व मूसा इबिन नसीर ने कि थी। इस कारण वश जिब्राल्टर स्पेन कि चढ़ाई में एक मिल का पत्थर व फ्रांस का एक हिस्सा बन गया। यह चढ़ाई केवल बाईस दिनों में कि गई।[3] रणनीति कि दृष्टी से जिब्राल्टर का महत्त्व मूरिश साम्राज्य के अंतिम दिनों में बढ़ा जब ईसाईयों ने सफलतापूर्वक गुअदाल्कुविर घाटी पर अधिकार कर लिया जो ग्रानाडा के साम्राज्य व उत्तरी अफ्रीका में स्थित मूरिश हिस्सों को जोड़ने वाली महत्वपूर्ण घाटी थी।

मूरिश किले का निर्माण आठवीं शताब्दी ईसापूर्व में शुरू हुआ परन्तु इसका कोई प्रमाण नहीं है कि इसका कार्य पूर्ण कब हुआ था।

सन्दर्भ[संपादित करें]