मिताक्षरा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

मिताक्षरा याज्ञवल्क्य स्मृति पर विज्ञानेश्वर की टीका है जिसकी रचना 11वीं शताब्दी में हुई। यह ग्रन्थ 'जन्मना उत्तराधिकार' (inheritance by birth) के सिद्धान्त के लिए प्रसिद्ध है।

हिंदू उत्तराधिकार संबंधी भारतीय कानून को लागू करने के लिए मुख्य रूप से दो मान्यताओं को माना जाता है- पहला है दायभाग मत, जो बंगाल और असम में लागू है। दूसरा है मिताक्षरा, जो शेष भारत में मान्य है। मिताक्षरा के अनुसार, प्रत्येक व्यक्ति को जन्म से ही अपने पिता की संयुक्त परिवार सम्पत्ति में हिस्सेदारी हासिल हो जाती है। इसमें 2005 में कानून में हुए संशोधन के बाद लड़कियों को भी शामिल किया गया। [1]

मिताक्षरा विधि की शाखा पांच उप-शाखाओं में विभाजित है। दत्तकग्रहण तथा दाय के संबंध में परस्पर मतभेद होने के कारण इन उपशाखाओं की उत्पत्ति हुई। ये सभी उप-शाखाएं मिताक्षरा को ही सर्वोपरि प्रमाण मानते हैं, परन्तु कुछ परिस्थितियों में मतभेद होने पर किसी मूल भाष्य या ग्रंथ विशेष को प्राथमिकता देते हैं।

ये पांच उप-शाखाएं है-

  • (१) बनारस शाखा
  • (२) मिथिला शाखा
  • (३) मद्रास शाखा
  • (४) बम्बई शाखा
  • (५) पंजाब शाखा

सन्दर्भ[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • दायभाग (जीमूतिवाहन द्वारा रचित ग्रन्थ)

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]