माणिक सरकार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
माणिक सरकार
PM meets CMs of Northeastern states ahead of NITI Aayog meeting (15870511693) (cropped).jpg
माणिक सरकार

त्रिपुरा के 10वें मुख्यमंत्री
पद बहाल
11 मार्च 1998 – 4 मार्च 2018
राज्यपाल तथागत राय
पूर्वा धिकारी दशरथ देब
उत्तरा धिकारी बिप्लब देव
चुनाव-क्षेत्र धनपुर

जन्म 22 जनवरी 1949 (1949-01-22) (आयु 71)
राधाकिशोरपुर, त्रिपुरा
राजनीतिक दल भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी)
जीवन संगी पाँचाली भट्टाचार्य
निवास अगरतला, त्रिपुरा
धर्म नास्तिक
जालस्थल chiefminister.html

माणिक सरकार (जन्म: 22 जनवरी 1949) एक भारतीय राजनीतिज्ञ हैं, जो मार्च 1998 से मार्च 2018 तक त्रिपुरा के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। वे भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) से संबद्ध हैं तथा पार्टी पोलितब्यूरो के सदस्य भी हैं।[1][2] 2013 के विधानसभा चुनावों के बाद वे लगातार चौथी बार मुख्यमंत्री बने। वर्तमान में, वह त्रिपुरा विधान सभा में विपक्ष के नेता हैं।

श्री सरकार अपना मुख्यमंत्री पद का वेतन व भत्ते पार्टी को दान देते हैं जो कि उन्हे 5,000 (US$73) रुपये गुजारा भत्ता देती है।[3] 2013 के त्रिपुरा विधानसभा चुनावों के समय दायर शपथपत्र से पता चलता है कि वे भारत के सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों में सबसे कम धनी व्यक्ति हो सकते हैं।[4][5]

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

माणिक सरकार का जन्म एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ था। वह एक भारतीय कम्युनिस्ट राजनीतिज्ञ हैं। उनके पिता, अमूल्य सरकार, एक दर्जी के रूप में काम करते थे, जबकि उनकी माँ, अंजलि सरकार, पहले राज्य, और बाद में केंद्र सरकार में कर्मचारी थीं। सरकार अपने छात्र दिनों में छात्र आंदोलनों में सक्रिय हो गये, और 1968 में, 19 वर्ष की आयु में, वह भारत के प्रमुख राजनीतिक दलों में से एक, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्य बन गये। वह एमबीबी कॉलेज में अपने शैक्षणिक जीवन के दौरान छात्र संघ के उम्मीदवार थे, जहां से उन्होंने बी कॉम के साथ स्नातक किया। कॉलेज में अपने पहले वर्ष के दौरान, 1967 के भोजन आंदोलन के अशांत समय में, त्रिपुरा की तत्कालीन कांग्रेस सरकार की नीति के खिलाफ अभियान चला - सरकार भी इस छात्र संघर्ष में शामिल हुए। इस जन आंदोलन में उनकी जोरदार भूमिका ने उन्हें कम्युनिस्टों में शामिल कर दिया। अपने शुरुआती राजनीतिक प्रदर्शन के कारण, वह एमबीबी कॉलेज छात्र संघ के महासचिव भी बने और उन्हें छात्र संघ के भारत का उपाध्यक्ष भी बनाया गया। 1972 में, 23 वर्ष की कम उम्र में, वे कम्युनिस्ट (मार्क्सवादी) पार्टी की राज्य समिति में शामिल हो गए।

राजनीतिक कैरियर[संपादित करें]

माकपा की राज्य समिति में चुने जाने के छह साल बाद, सरकार को 1978 में पार्टी राज्य सचिवालय में शामिल किया गया था। यही वह वर्ष भी था, जब पहली वामपंथी सरकार ने त्रिपुरा में सत्ता संभाली थी।

1980 में, 31 साल की उम्र में, उन्हें अगरतला निर्वाचन क्षेत्र से विधान सभा के सदस्य के रूप में चुना गया था। यह त्रिपुरा में माणिक सरकार के नेतृत्व की शुरुआत थी। लगभग उसी समय, उन्हें सीपीआई (एम) के मुख्य सचेतक के रूप में नियुक्त किया गया था। 1983 में विधान सभा के सदस्य के रूप में उनकी पहली सफलता आयी, जब वह कृष्णानगर, अगरतला से विधानसभा के लिए चुने गए। 1993 में जब वाम मोर्चा सरकार ने सत्ता संभाली, सरकार को माकपा के राज्य सचिव के रूप में नियुक्त किया गया था।

1998 में सरकार को सबसे बड़ी सफलता मिली। 49 साल की उम्र में, वह माकपा के पोलित ब्यूरो के सदस्य बन गए, जो एक कम्युनिस्ट पार्टी में प्रमुख नीति-निर्माण और कार्यकारी समिति है। उसी वर्ष, वह त्रिपुरा राज्य के मुख्यमंत्री बने। तब से, उन्हें 20 वर्षों में लगातार पांच बार उसी पद के लिए चुना गया। वह भारत के उन गिने-चुने मुख्यमंत्रियों में एक हैं, जो इतने लंबे समय तक इस पद पर रह चुके हैं। उनकी पार्टी ने 2018 के चुनावों में बहुमत खो दिया और परिणामस्वरूप उन्हें पद छोड़ना पड़ा।

निजी जीवन[संपादित करें]

सरकार की शादी पंचाली भट्टाचार्य से हुई है, जो 2011 में सेवानिवृत्त होने तक केंद्रीय समाज कल्याण बोर्ड में कार्यरत थीं। सरकार और उनकी पत्नी बहुत ही सादा जीवन जीती हैं। सरकार एकमात्र भारतीय मुख्यमंत्री हैं, जिसके पास अपनी निजी गाड़ी या घर नहीं है। वह एक पुराने और बहुत छोटे घर में रहना पसंद करता है जो उनके परदादा का था। वह अपना पूरा वेतन, जो उन्हें एक मुख्यमंत्री के रूप में मिलता था, अपनी पार्टी के लिए दान करते थे, और बदले में उन्हें भत्ते के रूप में हर महीने 10,000 रुपये मिलते थे।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. List of Politburo Members from the 7th (1964) to the 18th Congress(2005)
  2. List of Politburo and Central Committee members elected on the 19th Congress
  3. "?Manik Sarkar, the frugal CM". The Hindu. 25 जनवरी 2013. अभिगमन तिथि 2013-01-25.
  4. "Manik Sarkar 'cleanest and poorest' CM". Deccan Herald. 26 जनवरी 2013. अभिगमन तिथि 27 जनवरी 2013.
  5. "Manik Sarkar: Poorest CM in the country". Times of India. 26 जनवरी 2013. अभिगमन तिथि 27 जनवरी 2013.