महिला सशक्तीकरण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(महिला सशक्तिकरण से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search

महिला सशक्तीकरण के अंतर्गत महिलाओं से जुड़े सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक और कानूनी मुद्दों पर संवेदनशीलता और सरोकार व्यक्त किया जाता है।[1] सशक्तीकरण की प्रक्रिया में समाज को पारंपरिक पितृसत्तात्मक दृष्टिकोण के प्रति जागरूक किया जाता है, जिसने महिलाओं की स्थिति को सदैव कमतर माना है। वैश्विक स्तर पर नारीवादी आंदोलनों और यूएनडीपी आदि अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं ने महिलाओं के सामाजिक समता, स्वतंत्रता और न्याय के राजनीतिक अधिकारों को प्राप्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है।[2] महिला सशक्तीकरण, भौतिक या आध्यात्मिक, शारिरिक या मानसिक, सभी स्तर पर महिलाओं में आत्मविश्वास पैदा कर उन्हें सशक्त बनाने की प्रक्रिया है।[3]

भारत में महिला सशक्तीकरण[संपादित करें]

महिला एवं बाल विकास विभाग, महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा बच्चों के लिए राष्ट्रीय स्तर पर जानकारी प्राप्त होती है। प्रयोक्‍ता जीवन, अस्तित्व और स्वतंत्रता के अधिकार की तरह एक बच्चे के विभिन्न अधिकारों के बारे में पता लगा सकते हैं, खेलने और अवकाश, मुफ्त और अनिवार्य प्राथमिक शिक्षा पाने के अधिकार, माता पिता की जिम्मेदारी के बारे में सूचना आदि, विकलांग बच्चों की सुरक्षा आदि के लिए भी सूचना प्रदान की गई है।

Hindi Abstract: महिला सृस्टी निर्माता कि अद्रितय कृति है, महिलाओ के अधिकार हेतु सरकार द्वारा विभिन्न प्रयास किये जा रहे है, एवं महिलाएं भी अधिकारों के प्रति जागरूक हो रही है. परन्तु इस सबके वाबजूद स्थिति विपरीत बनी हुई है, महिलाओ के प्रति अपराधों में लगातार इजाफा हुआ है. अत आवश्यकता इस बात की है कि महिलाओ को अधिकारों की जानकारी होनी चाहए. प्राथमिक स्तर पर उन्हें शिक्षित किया जाना जरुरी है, दूसरे, आर्थिक स्वतंत्रता; तीसरे क़ानून एवं धर्म के अधीन महिलाओं के अधिकारों की जानकारी दी जानी चाहए. चोथे उन्हें सरकार के हर स्तर पर उपयुक्त स्थान/भागीदारी मिलनी चाहए.

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

महिला सशक्तीकरण

शिक्षा में छिपा है महिला सशक्तीकरण का रहस्य

आदिवासी महिला सशक्तीकरण योजना