भौतिक प्रकाशिकी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
हाइगेन्स के सिद्धान्त के अनुसार द्वारक पर विवर्तन ; पीले बिन्दु नयी तरंगों के लिए आरम्भ-बिन्दु के रूप में लिए गये हैं।

भौतिकी में भौतिक प्रकाशिकी या तरंग प्रकाशिकी (physical optics या wave optics) प्रकाशिकी की वह शाखा है जो व्यतिकरण, विवर्तन, ध्रुवण तथा अन्य परिघटनाओं का अध्ययन करती है जिनके लिये ज्यामितीय प्रकाशिकी सही परिणाम नहीं देती।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]