भैषज्य कल्पना

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

आयुर्वेद में भैषज्य कल्पना का अर्थ है औषधि के निर्माण की डिजाइन (योजना)। [1]आयुर्वेद में रसशास्त्र का अर्थ 'औषध (भेषज) निर्माण' है और यह मुख्यतः खनिज मूल के औषधियों से सम्बन्धित है।रसशास्त्र और भैषज्य कल्पना मिलकर आयुर्वेद का महत्वपूर्ण अंग बनाते हैं।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]