भेड़ पालन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
भेड़ों का झुण्ड

भेड़ का मनुष्य से सम्बन्ध आदि काल से है तथा भेड़ पालन एक प्राचीन व्यवसाय है। भेड़ पालक भेड़ से ऊन तथा मांस तो प्राप्त करता ही है, भेड़ की खाद भूमि को भी अधिक ऊपजाऊ बनाती है। भेड़ कृषि-अयोग्य भूमि में चरती है, कई खरपतवार आदि अनावश्यक घासों का उपयोग करती है तथा उंचाई पर स्थित चरागाह जोकि अन्य पशुओं के अयोग्य है, उसका उपयोग करती है। भेड़ पालक भेड़ों से प्रति वर्ष मेमने प्राप्त करते हैं।[1]

विश्व में भेड़ पालन[संपादित करें]

संयुक्त राष्ट्र खाद्य और कृषि संगठन के डाटाबेस के अनुसार, भेड़ के प्रमुख (1993 से 2013 तक की औसत) शीर्ष पांच देश: मुख्य भूमि चीन (146.5 मिलियन), ऑस्ट्रेलिया (101.1 मिलियन), भारत (62.1 मिलियन), ईरान (51.7 मिलियन), और पूर्व सूडान (46.2 मिलियन)।

2013 में, भेड़ संख्या के प्रमुख पांच देशों में मुख्य भूमि चीन (175 मिलियन), ऑस्ट्रेलिया (75.5 मिलियन), भारत (53.8 मिलियन), पूर्व सूडान (52.5 मिलियन), और ईरान (50.2 मिलियन) थे। 2013 में, भेड़ों की संख्या इस प्रकार थी : एशिया में 44%, अफ्रीका में 28.2%; यूरोप में 11.2%, ओशिनिया में 9.1%, अमेरिका में 7.4%।

भेड़ के मांस के शीर्ष उत्पादक (1993 से 2013 तक की औसत) इस प्रकार थे: मुख्य भूमि चीन (1.6 मिलियन); ऑस्ट्रेलिया (618,000), न्यूजीलैंड (519,000), यूनाइटेड किंगडम (335,000), और तुर्की (288,857)। [2] 2013 में भेड़ मांस के शीर्ष पांच उत्पादक मुख्य भूमि चीन (2 मिलियन), ऑस्ट्रेलिया (660,000), न्यूजीलैंड (450,000), पूर्व सूडान (325,000), और तुर्की (295,000) थे। [2]

भेड़ पालन व्यवसाय[संपादित करें]

भेड़ ग्रामीण अर्थव्यवस्था और सामाजिक संरचना से जुड़ा हुआ है यह व्यवसाय मांस, दूध, ऊन, कार्बनिक खाद और अन्य उपयोगी सामग्री देता है। भेड़ पालको को इनके परवरिश के कई फायदे हैं इसलिए, निम्नलिखित बिंदुओं पर ध्यान देना चाहिए-

प्रजनन और नस्ल[संपादित करें]

अच्छे नस्लों की देशी, विदेशी और संकर प्रजातियों का चयन उनके उद्देश्य के अनुसार किया जाना चाहिए।

  • मांस के लिए मालपुरा, जैसलमेरी, मंडिया, मारवाड़ी, नाली शाबाबाद और छोटानागपुरी और बीकानेरी, मैरिनो, कोरीडायल, रामबुतू आदि का चयन किया जाना चाहिए।
  • दरी ऊन के लिए मुख्य रूप से मालापुरा, जैसलमेरी, मारवाड़ी, शहाबाबाद और छोटानागपुरी हैं उपयुक्त है।
  • मौसम के अनुसार इनका प्रजनन किया जाना चाहिए। भेड़ के प्रजनन के लिए 12-18 महीनों की आयु उचित माना गया है।
  • अधिक गर्मी और बरसात के मौसम में प्रजनन नहीं होना चाहिए। इससे मृत्यु दर बढ़ जाती है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. A Beginner's Guide to Raising Sheep भेड़ : भेड़ पालन करने के लिए शुरुआती गाइड.
  2. FAOSTAT डाटाबेस .