भूसम्पर्कन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
भुसम्पर्कन के लिये लगाया गया एक सामान्य एलेक्ट्रोड (भूरा रंग)

विद्युत इंजीनियरी में भूमि (ground या earth) के सन्दर्भ में ही वोल्टेज मापे जाते हैं, भूमि ही से होकर विद्युत धारा वापस लौटती है। विद्युत शक्ति वितरण तन्त्र में सुरक्षात्मक भूसम्पर्कन चालक (protective ground conductor), सुरक्षा की दृष्टि से परम आवश्यक है। चरण और तटस्थ तार दीपक से जुड़े हुए हैं। इसलिए कुछ को गलत समझ है कि तटस्थ अर्थपूर्ण हैइस चरण और न्यूट्रल के संयोजन के लिए तीसरा तत्व बहुत महत्वपूर्ण है। वही समझ में आता है। इस अर्थ के लिए बहुत अधिक देखभाल नहीं है। तीन पिन सॉकेट में काले और लाल तार शुरू होने वाले उपकरण से जुड़ते हैं। कुछ भी तीसरे तार को हरा जोड़ने की जहमत नहीं उठाते। लेकिन यह जानलेवा हो सकता है। विद्युत परिपथों को धरती से जोड़ना, भूसम्पर्कन (ग्राउण्डिंग) कहलाता है। विद्युत परिपथों को धरती से विद्युत सम्पर्क बनाने के कई कारण हैं। जैसे-

  • व्यक्ति को बिजली का झटका लगने से सुरक्षा,
  • स्थैतिक आवेश का जमा होना सीमित करने के लिये, (विद्युतस्थतिक संवेदनशील युक्तियों के लिये महत्वपूर्ण)
  • कुछ परिपथों में धरती ही एक चालक के रूप में प्रयोग कर ली जाती है जिससे अलग से तार या केबल लगाने की आवश्यकता नहीं पड़ती।

भूसम्पर्कन क्यों करते हैं[संपादित करें]

  • बिजली का झटका तब होता है जब एक चालक (जैसे इस्त्री, कूलर, पंखा, वाशिंग मशीन, टेबल लैंप, इलेक्ट्रिकल हेयर रिमूवर, गीजर) का एक कंडक्टर (लाइव वायर) धातु के हिस्से या उसके ऊपरी शरीर से जुड़ा होता है। इस तरह से कि घरों,कारखानों,छोटी दुकानों को वैज्ञानिक रूप से सार्थक किया जाता है ताकि आकस्मिक सदमे का कारण न हो।
  • बिजली हमेशा एक सामग्री से कम विद्युत दबाव के प्रतिरोध के साथ बह रही है। 2.जमीन के वोल्टेज को 0 (शून्य) माना जाता है। इसलिए, बिजली का रिसाव, मनुष्य को बिजली के झटके से पहले, पृथ्वी के तारों से जमीन तक गुजरता है और आगे की दुर्घटनाओं से बचा जाता है।
Earth Ground.svg

भूसम्पर्कन (अर्थिंग) का प्रतीक]]

विद्युत आपूर्ति प्रणाली में अर्थिंग प्रणाली सभी चालकों का पृथ्वी के तल के सापेक्ष विभव निश्चित करता है। प्रयोग की गयी अर्थिंग प्रणाली से ही विद्युत आपूर्ति तंत्र की सुरक्षा और विद्युतचुम्बकीय कम्पेटिबिलिटी आदि प्रभावित होती हैं। एक देश से दूसरे देश में अर्थिंग प्रणाली में पर्याप्त भिन्नता पायी जाती है।

रक्षात्मक अर्थ तंत्र (protective earth (PE)) से यह सुनिश्चित होता है कि सभी खुले हुए चालकों के तल धरती के विभव पर ही हैं। इससे यदि किसी उपकरण में विद्युत इन्सुलेशन कट गया हो या खराब हो गया हो और उपकरण के शरीर से वह तार सम्पर्क बना रहा हो तो उस उपकरण को छूने पर विद्युत का झटका लगने की सम्भावना नहीं रहती क्योंकि जैसे ही 'जीवित' तार उपकरण के शरीर को छूता है, शॉर्ट सर्किट की स्थिति बन जार्ती है और बहुत अधिक धारा बहने के कारण फ्यूज तुरन्त उड़ जाता है या सर्किट ब्रेकर/एम॰सी॰बी॰ आदि बन्द हो जाते हैं। स्वस्थ स्थिति में रक्षात्मक अर्थ प्रणाली में प्राय: बहुत कम या नहीं के बराबर धारा बहती है, चाहे उपकरण चालू हो या बन्द। जब कोई विद्युतीय उपकरण चलता है तो उस उपकरण में एक अलग विद्युतीय धारा बहती है जिसे हम ई॰एम॰एफ॰ (इलेक्ट्रो मोटिव फोर्स) कहते हैं। और इसमें कभी-कभी बहुत अधिक मात्रा में विद्युत धारा प्रवाहित होती रहती है जिससे हमें आघात लगने की संभावना रहती है, ऐसी अवस्था में भी अर्थिंग काफी कारगर सिद्ध होता है। इसके विपरीत कार्यशील अर्थ प्रणाली (functional earth connection) में जब युक्ति/उपकरण चालू हो तो कुछ धारा भी बह सकती है।

भूसम्पर्कन के प्रकार[संपादित करें]

पाईप भूसम्पर्कन[संपादित करें]

यह पाइप का उपयोग करता है। जस्ता भंग लोहे की नली (जी॰आई॰ पाइप) को गड्ढे में डाला जाता है। प्लेट शमन में मोटे कोयले और मोटे नमक का उपयोग होता है, जैसा कि प्लेट में होता है। यह पाइप के ऊपरी छोर पर एक तार संलग्न करके मुख्य स्विच से जुड़ा हुआ है।

प्लेट भूसम्पर्कन[संपादित करें]

  1. प्लेट का अर्थ बनाते समय 60 सेंटीमीटर मोटी और 5 मिलीमीटर मोटी 60 सेंटीमीटर की तांबे या कच्चा लोहे की एक प्लेट ली जानी चाहिए। चूंकि तांबा बहुत महँगा है, इसलिए इसे आर्थिक बनाने के लिए बीड़ी प्लेटों का उपयोग करते हैं। यदि संभव हो तो केवल तांबे का उपयोग करना बेहतर है।
  2. उपयुक्त स्थान पर घर से दो से तीन मीटर की दूरी पर गड्ढा खोदें। इसमें प्लेट रखें और गड्ढों के बाहर प्लेट के केंद्र से तार को जोड़ देवें। फिर आटे को बुझाने के लिए आटे में चारकोल और गाढ़ा नमक की एक परत मिलाएं।
  3. सबसे ऊपरी परत मिट्टी। यह सुनिश्चित करने के लिए ध्यान रखा जाता है कि बैठने की जगह संभवतः नम हो।
  4. प्लेट से जुड़े तारों को मुख्य मेनू से जोड़ा जाना चाहिए।
  5. फैक्ट्री में सेंस वायर के लिए कॉपर वायर के खुलने से आपको मनचाहे मशीन की बॉडी का बोध कराना आसान हो जाता है।
  6. इस सार्थक तार की समय-समय पर जाँच की जानी चाहिए। इसका मतलब है कि अगर यह टूट गया है तो इसे तुरंत मरम्मत में जोड़ा जा सकता है।

संदर्भ[1][संपादित करें]

  1. "Learning While Doing". learningwhiledoing.in. अभिगमन तिथि 2020-04-27.