भूसम्पर्कन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
भुसम्पर्कन के लिये लगाया गया एक सामान्य एलेक्ट्रोड (भूरा रंग)

विद्युत इंजीनियरी में भूमि (ground या earth) के सन्दर्भ में ही वोल्टेज मापे जाते हैं, भूमि ही से होकर विद्युत धारा वापस लौटती है। विद्युत शक्ति वितरण तन्त्र में सुरक्षात्मक भूसम्पर्कन चालक (protective ground conductor), सुरक्षा की दृष्टि से परम आवश्यक है।

विद्युत परिपथों को धरती से जोड़ना, भूसम्पर्कन (ग्राउण्डिंग) कहलाता है। विद्युत परिपथों को धरती से विद्युत सम्पर्क बनाने के कई कारण हैं। जैसे-

  • व्यक्ति को बिजली का झटका लगने से सुरक्षा,
  • स्थैतिक आवेश का जमा होना सीमित करने के लिये, (विद्युतस्थतिक संवेदनशील युक्तियों के लिये महत्वपूर्ण)
  • कुछ परिपथों में धरती ही एक चालक के रूप में प्रयोग कर ली जाती है जिससे अलग से तार या केबल लगाने की आवश्यकता नहीं पड़ती।
Earth Ground.svg

भूसम्पर्कन (अर्थिंग) का प्रतीक]]

विद्युत आपूर्ति प्रणाली में अर्थिंग प्रणाली सभी चालकों का पृथ्वी के तल के सापेक्ष विभव निश्चित करता है। प्रयोग की गयी अर्थिंग प्रणाली से ही विद्युत आपूर्ति तंत्र की सुरक्षा और विद्युतचुम्बकीय कम्पेटिबिलिटी आदि प्रभावित होती हैं। एक देश से दूसरे देश में अर्थिंग प्रणाली में पर्याप्त भिन्नता पायी जाती है।

रक्षात्मक अर्थ तंत्र (protective earth (PE)) से यह सुनिश्चित होता है कि सभी खुले हुए चालकों के तल धरती के विभव पर ही हैं। इससे यदि किसी उपकरण में विद्युत इन्सुलेशन कट गया हो या खराब हो गया हो और उपकरण के शरीर से वह तार सम्पर्क बना रहा हो तो उस उपकरण को छूने पर विद्युत का झटका लगने की सम्भावना नहीं रहती क्योंकि जैसे ही 'जीवित' तार उपकरण के शरीर को छूता है, शॉर्ट सर्किट की स्थिति बन जार्ती है और बहुत अधिक धारा बहने के कारण फ्यूज तुरन्त उड़ जाता है या सर्किट ब्रेकर/एमसीबी आदि बन्द हो जाते हैं। स्वस्थ स्थिति में रक्षात्मक अर्थ प्रणाली में प्राय: बहुत कम या नहीं के बराबर धारा बहती है, चाहे उपकरण चालू हो या बन्द। जब कोई विद्युतीय उपकरण चलता है तो उस उपकरण में एक अलग विद्युतीय धारा बहती है जिसे हम ई.एम एफ (इलेक्ट्रो मोटिव फोर्स) कहते हैं।और इसमें कभी-कभी बहुत अधिक मात्रा में विद्युत धारा प्रवाहित होती रहती है जिससे हमें आघात लगने की संभावना रहती है,ऐसी अवस्था में भी अर्थिंग काफी कारगर सिद्ध होता है। इसके विपरीत कार्यशील अर्थ प्रणाली (functional earth connection) में जब युक्ति/उपकरण चालू हो तो कुछ धारा भी बह सकती है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]