भाषाई सापेक्षता

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भाषाई सापेक्षता या भाषागत सापेक्षतावाद (linguistic relativity) की परिकल्पना के अनुसार किसी भाषा की संरचना, उस भाषा के बोलने वालों की विश्वदृष्टि (world view) या को प्रभावित करती है। दूसरे शब्दों में, भाषा विचारों की अभिव्यक्ति का माध्यम नहीं है वरन् विचार के स्वरूप को नियन्त्रण करने वाली है। इस परिकल्पना को सापिर-होर्फ परिकल्पना (Sapir–Whorf hypothesis) कहते हैं।