भारतीय सब्जी अनुसंधान संस्थान, वाराणसी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भारतीय सब्जी अनुसंधान संस्थान, वाराणसी, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, नई दिल्ली का एक घटक संस्थान है। सब्जियों की महत्ता को देखते हुए वर्ष 1992 में सातवीं पंचवर्षीय योजना के अंतगर्त सब्जी अनुसंधान परियोजना निदेशालय के रूप में इसकी स्थापना वाराणसी में की गई। निदेशालय के वृहद कार्य क्षेत्र, उपलब्धियां एवं सब्जी पर अनुसंधान की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए, 17 अगस्त, 1999 को इसे राष्ट्रीय संस्थान “भारतीय सब्जी अनुसंधान संस्थान” के रूप में मान्यता प्रदान की गई।

यह संस्थान, 150 एकड़ में वाराणसी से दक्षिण-पश्चिम दिशा में शहँशाह पुर (अदलपुरा के निकट) में वाराणसी स्टेशन से 20 तथा बाबतपुर हवाई अड्डे से लगभग 40 कि॰मी॰ की दूरी पर स्थित है।

प्रमुख कार्य[संपादित करें]

भारत में पूरी तरह सब्जी अनुसंधान पर समर्पित यह अकेला संस्थान है जहां सब्जी की नई उन्नतशील किस्मे, उनकी सस्य प्रोद्योगिकी एवं कीट तथा बीमारियों के प्रभावकारी नियंत्रण के लिए अनुसंधान कार्य किया जा रहा है। इसके साथ-साथ सब्जियों की अनुमोदित किस्मों का प्रजनक बीज का उत्पादन भी किया जा रहा है l संस्थान द्रारा विकसित इन तकनीकों को अग्रिम पंक्ति प्रदर्शन, किसान गोष्ठी, प्रशिक्षण, किसान मेला आदि के माध्यम से किसानों तक पहुंचाया जाता है।

  • सब्जी उत्पादकता को बढ़ाने एवं नयी तकनीकी विकसित करने के लिए मूलभूत, योजनबद्ध तथा व्यावहारिक अनुसंधान कार्य करना ,
  • स्थान विशेष की समस्याओ को हल करना व अनुमोदित किस्मों के प्रजनक बीज उत्पादित करना,
  • देश में सब्जी अनुसंधान के कार्य को वैज्ञानिक नेतृत्व प्रदान करना,
  • सब्जी अनुसंधान से संबन्धित वैज्ञानिक सूचनाओ के लिए राष्ट्रीय स्तर पर प्रशिक्षण सहित विभिन्न प्रसार कार्य करना, एवं
  • उपरोक्त लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए संबन्धित राष्ट्रीय व अंतरर्शत्रीय शोध सस्थानों के साथ मिलकर कार्य करना।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]