भारतीय भागीदारी अधिनियम 1932

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भारतीय भागीदारी अधिनियम या 'भारतीय साझेदारी अधिनियम' ( Indian Partnership Act, 1932) भारत की संसद द्वारा १९३२ में पारित एक अधिनियम है जो सझेदारी फर्मों का नियमन करती है। इसके पारित होने के पहले सहभागिता भारतीय अनुबन्ध अधिनियम १८७२ की कुछ धाराओं के द्वारा शासित थी। यह अधिनियम निगम कार्य मंत्रालय के द्वारा अधिशासित है।

साझेदारी अधिनियम के अंतगत साझेदारी यदि साझेदारी अधिनियम किसी भी घटना के हल अथ्वा उस पर किये जाने वाले सजा अथवा उसके परिणाम के प्रति कुछ नहीं बताता है तो Indian Contract Act 1872, में दिये गए आदेशों का पालन किया जाता है।