भग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
भग

भग स्तनधारी मादा (मनुष्यों मे महिला) के एक शरीर का हिस्सा है। भग का अर्थ बाहर से दिखाई देने वाले मादा जननांग है। मारवाडी भाषा मे भोसिया, सिसिया, भोसरा, भोल, वारसा और अतार कहते है। भग की रचना मे सामान्य रूप से दिखाई देने वाले दो मांसल संरचनायें होती हैं जिन्हें भगोष्ट (भग+होठ) (लेबिया) कहते है। बाहरी भगोष्ट (लेबिया मेजोरा) जो गद्देदार होते हैं आंतरिक जननांग संरचनाओं को सुरक्षा प्रदान करते हैं। भीतरी भगोष्ट (लेबिया माइनोरा) भगशेफ के हुड से जुड़े हुए होते हैं और यह योनि को आवरण प्रदान करते हैं और संभोग के दौरान शिश्न के स्नेहन में सहायता करते हैं। बहुत से लोगों समझते हैं कि भग ही योनि होती है पर योनि शब्द उस नलिका को परिभाषित करता है जो गर्भाशय से भग को जोड़ती है।

समाज और संस्कृति में[संपादित करें]

अपने गुप्तांग दिखाती महिलाएँ

यह सभी समाज और संस्कृति में मुख्य रूप से छुपाने और ढंकने का हिस्सा होता है। कई स्त्री अपने पति के सामने अच्छे दिखने हेतु इसके ऊपर के बाल को हटा देते हैं। कुछ तैराकी के दौरान कपड़े के आसपास दिखने वाले बालों को हटा देते हैं ताकि किसी प्रकार की शर्मिंदगी न हो। लेकिन यह अंग केवल यौन क्रिया के समय ही स्त्री अपने पति के सामने दिखाती है। हालांकि कुछ स्त्री पैसे के लिए अपने सारे गुप्तांग दिखा देती हैं। जिसमें मुख्यतः यूरोप के लोग होते हैं।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]