बेसल समस्या

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

बेसल समस्या संख्या सिद्धान्त से सम्बद्ध गणितीय विश्लेषण की समस्या है जो सर्वप्रथम पिएत्रो मंगोली ने १६४४ में दी और १७३४ में लियोनार्ड आयलर ने हल की।[1] यह सर्वप्रथम द सेंट पीटर्सबर्ग एकेडेमी ऑफ़ साइंसेज (रूसी : Петербургская Академия наук) में ५ दिसम्बर १७३५ को प्रकाशित हुई।[2]

बेसल समस्या प्राकृत संख्याओं के वर्ग के व्युत्क्रम के संकलन के बारे में है अर्थात अनन्त श्रेणी के योग का यथार्थ मान:

श्रेणी का लगभग मान 1.644934 A013661 के बराबर है। १७३४ में आयलर ने सिद्ध किया कि इसका मान π2/6 के बराबर है

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Ayoub, Raymond (1974). "Euler and the zeta function". Amer. Math Monthly,. 81: 1067–86.
  2. E41 -- De summis serierum reciprocarum