बेटी बेटे

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
बेटी बेटे
बेटी बेटे.jpg
फ़िल्म का पोस्टर
निर्देशक एल॰ वी॰ प्रसाद
निर्माता एल॰ वी॰ प्रसाद
लेखक इन्दर राज आनन्द
संगीतकार शंकर-जयकिशन
प्रदर्शन तिथि(याँ) 1964
देश भारत
भाषा हिन्दी

बेटी बेटे 1964 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। इसे एल॰ वी॰ प्रसाद ने निर्मित और निर्देशित किया था। इसकी मुख्य भूमिकाओं में सुनील दत्त, सरोजा देवी और जमुना हैं। संगीत शंकर-जयकिशन का है।

संक्षेप[संपादित करें]

तीन छोटे बच्चों के साथ एक विधुर खुद को कर्ज में पाता है। वह अंधा हो जाता है और अपनी नौकरी खो देता है और अस्पताल में भर्ती हो जाता है। घर लौटने पर, वह हृदयहीन जमींदार की आलोचना करता है कि वह "केवल" अंधा हुआ और इसकी बजाय उसे मर जाना चाहिये था।

क्योंकि यदि वह मर चुका होता, तो बच्चों को अनाथालय में छोड़ा जा सकता था। वह घर में प्रवेश नहीं करने का फैसला करता है और गायब हो जाता है। बच्चों को घर से निकाल दिया जाता है। वे एक दूसरे के साथ संपर्क खो देते हैं। साल बीत जाते हैं। बच्चे अलग-अलग परिस्थितियों में अलग-अलग घरों में बड़े होते हैं। लेकिन भाग्य ने फैसला किया है कि परिवार हमेशा के लिए अलग नहीं रहेगा।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी शंकर-जयकिशन द्वारा संगीतबद्ध।

क्र॰शीर्षकगीतकारगायकअवधि
1."आज कल में ढल गया"शैलेन्द्रमोहम्मद रफ़ी5:42
2."नैनों वाली तेरे नैना जादू"शैलेन्द्रमोहम्मद रफ़ी3:26
3."राधिके तूने बँसुरी चुराई"शैलेन्द्रमोहम्मद रफ़ी3:27
4."आज कल में ढल गया" (II)शैलेन्द्रलता मंगेशकर3:30
5."गोरी चलो ना हँस की चाल"हसरत जयपुरीमोहम्मद रफ़ी, आशा भोंसले3:34
6."आदमी वो है जो खेला करे"हसरत जयपुरीमोहम्मद रफ़ी4:06
7."अगर तेरी जलवा नुमाई ना होती"हसरत जयपुरीमोहम्मद रफ़ी, सुमन कल्याणपुर4:54

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]