बाणसागर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
बाणसागर बाँध
Bansagar3.JPG
नीचे से देखने पर बाँध का दृश्य
आधिकारिक नामBansagar Dam
स्थानदेवलोंद, शहडोल ज़िला, मध्य प्रदेश
निर्देशांक24°11′30″N 81°17′15″E / 24.19167°N 81.28750°E / 24.19167; 81.28750निर्देशांक: 24°11′30″N 81°17′15″E / 24.19167°N 81.28750°E / 24.19167; 81.28750
निर्माण आरम्भ14 मई 1978
आरम्भ तिथि25 सितम्बर 2006
संचालकजल संसाधन मन्त्रालय, मध्य प्रदेश
बाँध एवं उत्प्लव मार्ग
घेरावसोन नदी
~ऊँचाई67 मी॰ (220 फीट)
लम्बाई1,020 मी॰ (3,350 फीट)
जलाशय
बनाता हैबाणसागर जलाशय
बाणसागर जलाशय

बाणसागर (Bansagar) या बाणसागर बाँध (Bansagar Dam) मध्य प्रदेश राज्य के शहडोल ज़िले के देवलोंद नामक स्थान पर निर्मित अंतर्राज्यीय बहुउद्देशीय बृहद नदी घाटी परियोजना है। यह बान्ध मध्य प्रदेश में सोन नदी (सोनभद्रशिला) पर बनाया गया है। देवलोंद रीवा से लगभग ५४ कि॰मी॰ दूरी पर रीवा-शहडोल मार्ग पर स्थित है। इस बांध की उँचाई 67 मीटर है।

बाणसागर बाँध और जलाशय के आँकड़े[संपादित करें]

  • जलग्रहण क्षेत्र (आवाह क्षेत्र) : 18648 किमी² {4608021.15 एकड़}
  • बाँध की उँचाई : 67 मीटर
  • बाँध की लम्बाई : 1020 मीटर
  • बाँध का प्रकार : ईंट/मिट्टी
  • अधिप्लव क्षमता : 47,742 घन मीतर प्रति सेकेण्ड
  • जल संचय : 5.41 घन किमी
  • डूब क्षेत्रफल : 587.54 वर्ग किमी
  • प्रभावित जनसंख्या : 250,000 लोग (54,686 परिवार)
  • कितने गाँव डूबे : 336
  • आरम्भ होने का वर्ष : 14मई1978
  • पूर्ण होने का वर्ष :25 सितम्बर 2006
  • लाभान्वित लोग : किसान

परियोजना से लाभ[संपादित करें]

सिंचाई[संपादित करें]

इस बाँध से जल का वितरण निम्नलिखित प्रकार से होता है-

बाणसागर से मध्यप्रदेश के 2,490  वर्ग किलोमीटर क्षेत्र की, उत्तर प्रदेश के 1,500  वर्ग किलोमीटर क्षेत्र की तथा बिहार के 940 वर्ग किमी क्षेत्र की सिंचाई होगी।

विद्युत उत्पादन[संपादित करें]

इससे 405 मेगावाट विद्युत का भी उत्पादन होगा।

बाणसागर नहर परियोजना[संपादित करें]

बाणसाग नहर परियोजना 1978 में आरम्भ हुई थी तथा 25 सितंबर 2006 को प्रधानमन्त्री स्वर्गीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा राष्ट्र को समर्पित की गयी। इससे निम्नलिखित नहरें निकाली जा रहीं हैं:

नहर प्रणाली का नाम लम्बाई (किमी) वार्षिक सिंचाई (हेक्टेयर)
Common Water Carrier 36.57 इससे सीधे सिंचाई नहीं होगी
दाहिने किनारे की नहर 30.80 5059
भीतरी नहर 11.20 2730
सिहावल नहर 75.30 27143
केवटी नहर 90.00 45528
पूर्वा नहर 128.90 74084
गुढ मउगंज नहर 65.00 24654
त्योंथर उत्थापित नहर 40.96 14161

राष्ट्र को समर्पित[संपादित करें]

बाणसागर परियोजना की आधारशिला 14 मई 1978 को स्वर्गीय प्रधान मंत्री मोरारजी देसाई द्वारा रखी गई थी। परियोजना का निरीक्षण किया गया और मध्य प्रदेश के पूर्व वित्त मंत्री पंडित राम किशोर शुक्ला के अंतहीन प्रयासों से हर पंचवर्षीय योजना में पर्याप्त धन आवंटित किया गया। बाणसागर बांध 25 सितंबर 2006 को स्वर्गीय प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा देश को समर्पित किया गया।[1]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. विवेक पाठक (१५ जुलाई २०१८). "39 साल में पूरी हो पाई बाणसागर परियोजना, एशिया में नहीं ऐसी दूसरी मिसाल". आजतक. मूल से 7 नवंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 6 नवंबर 2018.