फाइमोसिस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

शिश्न के आगे की त्वचा संकरी हो जाती है। फाइमोसिस से ग्रस्त शिश्न के खड़ा होने पर भी शिश्न मुण्ड से त्वचा पीछे नहीं आ पाती

फाइमोसिस (phimosis) या निरुद्धप्रकाश शिश्न का एक विकार है। इस्से ग्रस्त शिश्न के मुण्ड की त्वचा पीछे नहीं खींची जा पाती जिससे शिश्नमुंड बाहर नहीं निकल पाता।

बच्चे में फाइमोसिस होना सामान्य बात है। इसके लिए किसी उपाय की जरूरत नहीं होती। समय के साथ यह स्वयं समाप्त हो जाती है। किन्तु युवाओं में फाइमोसिस असामान्य होती है जो किसी संक्रमण या उत्तेजना अथवा सामने की चमड़ी के इन्फेक्शन से हो सकती है। इससे यह चमड़ी पीछे नहीं जाती।

पैराफामोसिस जब शिश्न के शीर्ष से त्वचा सदा ही पीछे हटी रहती है तो उसे पैराफाइमोसिस कहते हैं। यह अपने स्थान पर नहीं आ पाती और शिश्न मुण्ड को नहीं ढक पाती। ऐसी स्थिति में शिश्न का शीर्ष फंस सकता है और रक्त संचार कम होने के कारण गंभीर समस्या हो सकती है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]