फुटबॉल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(फ़ुटबॉल से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
फुटबॉल
Football iu 1996.jpg
एक खिलाड़ी (सं. 10) गोलरक्षक को छका कर गोल करने के प्रयास में
सर्वोच्च नियंत्रण निकाय फीफा
उपनाम फुटबॉल, पादकन्दुक,सॉकर
सबसे पहले खेला गया इंग्लैंड में 19वीं सदी के मध्य में
विशेषताएँ
अनुबंध हाँ
दल के सदस्य 11 प्रति दल
मिश्रित लिंग हाँ, अलग प्रतियोगिताएं
वर्गीकरण सामूहिक खेल, गेंद का खेल
उपकरण फुटबॉल
स्थल फुटबॉल पिच
ओलंपिक 1900

एसोसिएशन फुटबॉल जिसे आमतौर पर सिर्फ फुटबॉल (अंग्रेजी: फुट: पाद या पग, बॉल: गेंद) या सॉकर कहा जाता है, दुनिया के सबसे लोकप्रिय खेलों मे से एक है. यह एक सामूहिक खेल है और इसे ग्यारह खिलाड़ियों के दो दलों के बीच खेला जाता हैं. फुटबॉल को सामान्यत: एक आयताकार घास या कृत्रिम घास के मैदान पर खेला जाता है जिसके दोनों छोरों पर एक एक गोल होता है. खिलाड़ियों द्वारा विरोधी दल के गोल मे चालाकी से गेंद को डालना ही इस खेल का उद्देश्य है. खेल में गोलरक्षक ही एक मात्र ऐसा खिलाड़ी होता है जिसे गेंद को रोकने के लिए अपना हाथ इस्तेमाल करने की अनुमति होती है; दल के बाकी खिलाड़ी आमतौर पर गेंद को मारने (किक या पदाघात) के लिये अपने पैर का इस्तेमाल करते हैं तथा कभी कभी हवा में गेंद को रोकने के लिए वे अपने धड़ या फिर सिर का इस्तेमाल करते हैं. जो दल खेल के अंत या समय समाप्ति तक ज्यादा गोल करता है, विजयी रहता है. खेल के अंत यानि समय समाप्ति तक यदि स्कोर बराबर रहे तो उस मुकाबले को बराबर या ड्रा घोषित करना, या खेल को अतिरिक्त समय मे ले जाना और/या पेनाल्टी शूट आउट के द्वारा हार जीत का फैसला करना सब प्रतियोगिता के स्वरुप पर निर्भर करता है.

आधुनिक फुटबॉल को इंग्लैंड मे द फुटबॉल एसोसिएशन (फुटबॉल संघ) के गठन के साथ कूटबद्ध किया गया और जिसके 1863 में बने लॉज़ ऑफ द गेम (खेल के कानून ) के आधार पर ही आज फुटबॉल खेली जाती है. अंतरराष्ट्रीय आधार पर फुटबॉल का नियंत्रण Fédération Internationale de Football Association (फेडरेशन इंटरनेशनेल डी फुटबॉल एसोसिएशन) या एसोसिएशन फुटबॉल का अंतरराष्ट्रीय महासंघ जिसे संक्षेप में FIFA या फीफा कहा जाता है, करता है. फुटबॉल की सबसे प्रतिष्ठित अंतरराष्ट्रीय और लोकप्रिय प्रतियोगिता फीफा विश्व कप है, जिसका आयोजन हर चौथे वर्ष किया जाता है. इस प्रतियोगिता को व्यापक रूप से पूरे विश्व में देखा जाता है, और इसके दर्शक ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक खेलों को मिले दर्शकों से लगभग दुगने होते हैं.

खेल की प्रकृति[संपादित करें]

फीफा U-20 विश्व कप 2007 (2007 FIFA U-20 World Cup) में

आस्ट्रिया के सामने (forward) खेलने वाले खिलाड़ी रुबिन ओकोतिए (Rubin Okotie) ने कांगो के गोल कीपर डेस्टिन ओंका को पार करते हुए गोल मारने की कोशिश की थी. ओंका ने गोल को बचाया ( यह गोल एडमण्टन (Edmonton) अल्बेर्ता (Alberta) के कॉमनवेल्थ मैदान (Commonwealth Stadium),कनाडा में मारा गया था)
गोल कीपर ने घुसते हुए बॉल/गेंद को गिरते हुए रोका

फुटबॉल कुछ नियमों के अनुसार खेला जाता है जिसे खेल का नियम (Laws of the Game) कहा जाता है यह खेल एक गोल गेंद का उपयोग करते हुए खेला जाता है, जो फुटबॉल (football) के नाम से जाना जाता है ग्यारह खिलाड़ियों की दो टीमें होती है जिसमें प्रत्येक खिलाड़ी दूसरी टीम के गोल पोस्ट में गेंद डालने की कोशिश करती है जिससे गोल प्राप्त किए जाते हैं ( पोस्ट और रेखा के अन्दर)जो टीम खेल के अंत तक ज्यादा गोल करती है वह टीम विजेता होती है, अगर दोनों ही टीमें समान गोल करते हैं तो खेल ड्रा हो जाती है.

खिलाड़ी खेलने के दौरान (गोल कीपर (goalkeepers) को छोड़ कर) जान बुझकर अपने हाथ या बाह से गेंद को हेंडल नही कर सकता यह खेल का प्राथमिक नियम है ( हालाँकि वे अपने हाथो का इस्तेमाल गेंद को बाहर से अन्दर फेंकने (throw-in) के दौरान कर सकते हैं)हालाँकि खिलाड़ी आम तौर पर गेंद को स्थानांतरित करने के लिए अपने पैरों का इस्तेमाल करते हैं, वे हाथों को छोड़ कर अपने शरीर के किसी भी अंग का इस्तेमाल कर सकते हैं [1]

इस विशिष्ट खेल में खिलाड़ी अपने व्यक्तिक नियंत्रण जैसे ड्रिब्लिंग (dribbling), अपने टीम के खिलाड़ियों को गेंद देना और गोल पोस्ट में गोल मारना जहाँ विरोधी टीम का गोल कीपर के द्वारा रक्षा किया जाता है के माध्यम से गोल स्कोरिंग अवसरों का निर्माण करता है.विरोधी खिलाड़ी गेंद को एक दुसरे को देते समय गेंद को अपने कब्जे लेने की कोशिश तथा प्रतिद्वंदी से निबटने के माध्यम से गेंद पर नियंत्रण कर सकते हैं, लेकिन विरोधियों से शारीरिक संपर्क सीमाबद्ध है आम तौर पर फुटबॉल न रुकने वाला खेल है यह खेल तभी रूकती है जब गेंद मैदान से बाहर न जाए या रेफरी (referee) के द्वारा खेल को न रोका जाए ठहराव के बाद खेल निर्दिष्ट समय के लिए फिर से शुरू होती है [2]

एक पेशेवर स्तर पर अधिकतर मैचों में कुछ ही गोल बन पाते हैं.उदाहरण स्वरुप, वर्ष 2005 -06 के मौसम (2005–06 season) में इंग्लिश प्रेमिएर लीग (Premier League) एक मैच[3] में 2.48 के औसत से गोल बना सकी खेल के नियमों में गोल कीपर[4] को छोड़ कर किसी भी खिलाड़ी का स्थान निर्धारित नही है, लेकिन अनेक नंबरों में विशेष भूमिकाओं (specialised roles) को दिखाया है मोटे तौर पर मुख्य रूप से इसमें तीन श्रेणियां शामिल है; स्ट्राइकर (striker), या आगे, जिसका मुख्य कार्य गोल मारना होता है; रक्षक (defenders), जो विशेष रूप से अपने विरोधियों को गोल स्कोर करने से रोकता है; और बीच का खिलाड़ी (midfielder) जो विपक्षी के गेंद के ऊपर से अधिकार छीन कर अपने आगे खेलने वाले खिलाड़ियों को गेंद देने का कार्य करता है.इस प्रकार के खिलाड़ियों को आउटफील्ड खिलाड़ी के रूप में उल्लेख किया जाता है, जो गोल कीपर के साथ पहचाना जाता है मैदान के क्षेत्र के अनुसार इन स्थानों को प्रतिभाग किया जाता है जहाँ खिलाड़ी ज्यादातर समय बिताते हैं.उदाहरण के लिए, वहाँ केन्द्रिये रक्षक, और बाएं और दायें के मध्यस्थ खिलाड़ी रहते हैं.इस दस आउटफिल्ड खिलाड़ियों का संयोजन किसी भी व्यस्था में किया जा सकता है.प्रत्येक स्थान के अनेक खिलाड़ी टीम के खेलने की शैली को अपनाते हैं; अधिकतर आगे के खिलाड़ी और कुछ रक्षक खिलाड़ी उत्तेजित और आक्रामक- दिमागी खेल की रचना करते हैं, जब विपक्षी धीरे तथा आत्मरक्षक शैली को अपनाते हैं जब एक खिलाड़ी अधिकतर खेलों में एक विशिष्ट स्थान में खेलता है, तक खिलाड़ी के चाल में कुछ प्रतिबन्ध होते हैं, और खिलाड़ी को किसी भी समय उस स्थान को छोड़ना पड़ता है.[5] टीम के खिलाड़ियों की क्षैतिज रूपरेखा को बनावट/निर्माण (formation) के रूप में जाना जाता है.आम तौर पर टीम का गठन और रणनीति पर टीम के प्रबंधक (manager)[6] का विशेष अधिकार होता है.

इतिहास और परिणाम[संपादित करें]

पुरे विश्व में फुटबॉल की लोकप्रियता को

मानचित्र दिखाता है.जिस देश में फुटबॉल सबसे लोकप्रिय खेल है वहाँ हरा रंग जबकि जहाँ यह लोकप्रिय नही है वहाँ लाल रंग है.विभिन्न प्रकार के हरा और लाल रंग प्रति 1,000 निवासियों में खिलाड़ियों के अंक को सूचित करते हैं.

गेंद को मारने वाला खेल पर विचार करने पर मालूम पड़ता है कि अनेक देशों में यह खेला गया है फीफा (FIFA) के अनुसार "खेल का प्रारंभिक शैली जहाँ वैज्ञानिक सबूत है कि यह कुशल तकनीक चाइना में ईसा पूर्व दूसरी तथा तीसरी सदी मेंघ ख्स्य्त्ग्स् पाया गया है" ( कुजू (cuju) का खेल)[7] इसके अतिरिक्त रोमन खेल हर्पस्तम (harpastum) फुटबॉल का दूर का पूर्वज हो सकता है.मध्यकालीन यूरोप में फुटबॉल को अनेक रूपों में खेला गया है (football were played in medieval Europe), यद्यपि समय और स्थान दोनों के आधार पर नियम अलग अलग होते थे. मध्य १९ वीं शताब्दी में व्यापक रूप से फुटबॉल के विभिन्न रूप के साथ इंग्लैंड के पब्लिक स्कूल में खेला गया था, फुटबॉल के आधुनिक नियम पर आधारित था।

कैंब्रिज नियम (Cambridge Rules) सबसे पहले 1848 में कैंब्रिज विश्वविद्यालय में तैयार किया गया था, जो विशेष रूप से बाद के कोड के विकास में प्रभावशाली रहे जिसमें फुटबॉल संस्था भी शामिल थी. केम्ब्रिज नियम को ट्रिनिटी कॉलेज, केम्ब्रिज (Trinity College, Cambridge) में लिखा गया, एक बैठक में एटन (Eton), हर्रो (Harrow),रग्बी (Rugby),विनचेस्टर (Winchester) और श्रेव्स्बुरी (Shrewsbury) स्कूलों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया था.उन्हें सर्वगत अपनाया नहीं गया था 1850s,के दौरान अनेक क्लब स्कूल या विश्वविद्यालय से संबद्ध नही थे उन्होंने अंग्रेजी बोलने वाली विश्व में फुटबॉल खेलने के विभिन्न रूपों को बनाया था.कुछ अपने नियमों के विशिष्ट कोड के साथ आए सबसे खासकर शेफिल्ड फुटबॉल क्लब (Sheffield Football Club) था जो पूर्व पब्लिक स्कूल के द्वारा 1857,[8] में गठित हुआ था जो 1867 शेफिल्ड ऍफ़ ऐ (Sheffield FA) का गठन का नेतृत्व किया. 1862 में उप्पिन्ग्हम स्कूल (Uppingham School) के जॉन चार्ल्स थ्रिंग (John Charles Thring) ने प्रभाव जनक नियमों का जत्था बनाया.[9]

इन चल रहे प्रयासों ने 1863 में फुटबॉल असोसिएशन/संस्थाओं (The Football Association) के निर्माण में योगदान दिया, जो सबसे पहले 26 अक्टूबर (26 October) 1863 के सुबह में ग्रेट कुईन स्ट्रीट (Great Queen Street) के फ्री मेसन,तवेर्ण लन्दन में आयोजन हुआ.[10] इस अवसर पर प्रतिनिधित्व करने वाला चार्टर हाउस (Charterhouse) एकमात्र स्कूल था.फ्री मेसन तवेर्ण ने अक्टूबर और दिसम्बर के बीच पॉँच और बैठकों का आयोजन किया जो अंततः पहला नियमों का जत्था बनाया.अन्तिम बैठक में पहला ऍफ़ ऐ कोषाध्यक्ष, ब्लैकहिथ (Blackheath) के प्रतिनिधि ने पिछले बैठक में दो प्रारूप नियमों को हटाने के कारण ऍफ़ ऐ से अपना क्लब वापस ले लिया, पहला जो हाथ में गेंद लेकर दौड़ने की अनुमति तथा दूसरा अनधिकृत प्रवेश, ठोकर मारना तथा पकड़ते हुए दौड़ना में प्रतिबन्ध लगाना अन्य इंग्लिश रग्बी फुटबॉल क्लब ने इस नेतृत्व (English rugby football clubs followed this lead) का पालन किया और ऍफ़ ऐ में सम्मिलित नही हुए, या ऍफ़ ऐ को छोड़ दिया और 1871 में रग्बी फुटबॉल संघ (Rugby Football Union) का गठन किया. शेष के ग्यारह क्लब जो एबेनेज़र कब मोर्ले (Ebenezer Cobb Morley) के तहत थे वे खेल के मूल तेरह नियमों की पुष्टि करने के लिए चले गए.[10] गेंद को चिन्ह के स्थान से हाथ से फेकने का नियम विक्टोरियन फुटबॉल नियम (Victorian rules football) के समान ही नियम बनाया गया जो उस समय ऑस्ट्रेलिया में विकसित था. शेफिल्ड ऍफ़ ऐ ने 1870 तक अपने नियमों के आधार पर खेलते रहे, ऍफ़ ऐ ने इसके कुछ नियम आत्मसात कर लिए जिससे खेल में थोड़ा ही अन्तर रह गया.

वर्तमान में खेल के नियम अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल एसोसिएशन बोर्ड (International Football Association Board) के द्वारा निर्धारित है.मेनचेस्टर (Manchester) फुटबॉल असोसिएशन, स्कॉटिश फुटबॉल असोसिएशन (Scottish Football Association), वेल्स फुटबॉल असोसिएशन (Football Association of Wales) और आयरिश फुटबॉल असोसिएशन (Irish Football Association) के आपसी बैठक के बाद 1886[11] में इस बोर्ड का गठन हुआ.ऍफ़ ऐ कप (FA Cup) विश्व की सबसे पुरानी प्रतियोगिता है जिसकी स्थापना सी डब्लू अल्कोक्क (C. W. Alcock) ने किया था और 1872 से इंग्लिश टीमों में यह प्रतियोगिता हो रही है पहला आधिकारिक अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल मैच (first official international football match) फिर से सी डब्लू अल्कोक्क के परिक्षण में 1872 में स्कॉट्लैंड और इंग्लैंड के बीच ग्लासगो में खेला गया. इंग्लैंड दुनिया में पहला फुटबॉल लीग (football league) का घर है जिसकी स्थापना 1888 में अस्तों (Aston Villa) विल्ला निर्देशक विलियम मक ग्रेजोर (William McGregor) द्वारा बिर्मिन्ग्हम (Birmingham) में हुई थी.[12] मूल स्वरुप मिडलैंड और उत्तरी इंग्लैंड के बारह क्लब में अंतर्विष्ट है. फेडरेशन इंटरनेशनल द फुटबॉल असोसिएशन (फीफा), अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल संस्था का गठन 1904 में पेरिस में हुआ था और घोषणा की गई थी कि फुटबॉल असोसिएशन[13] खेल के नियमों का पालन करना होगा. 1913 में फीफा अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल असोसिएशन बोर्ड (International Football Association Board) के प्रतिनिधित्व के प्रवेश के कारण अंतरराष्ट्रीय खेल में लोकप्रियता बढ़ी.वर्तमान में फीफा के चार प्रतिनिधि और चारों ब्रिटिश असोसिएशन का एक प्रतिनिधि बोर्ड में शामिल है.

आज फुटबॉल व्यवसायिक स्तर पर पुरी दुनिया में खेला जाता है.अपने पसंदीदा टीमों[14] का अनुकरण करने के लिए लाखो लोग नियमित रूप से फुटबॉल मैदान जाते हैं जबकि अरबों लोग टेलिविज़न[15] पर इस खेल को देखते हैं लोगों कि एक बढ़ी संख्या अपने शौक के स्तर पर फुटबॉल खेलते हैं.फीफा के द्वारा आयोजित एक सर्वेक्षण में तक़रीबन दो सौ देशों के दो सौ चालीस से भी ज्यादा लोग नियमित रूप से फुटबॉल खेलते हैं जो 2001 में प्रकाशित हुई थी.[16] इसमें कोई संदेह नहीं इसके साधारण नियम तथा कम उपकरण कि आवश्यकताओं के कारण इसके प्रसार तथा लोकप्रियता में वृद्धि हुई है.

विश्व के अनेक भागों में फुटबॉल व्यक्ति के जीवन, प्रशंसक (fan), स्थानीय सम्मुदायों और देशों में भी में एक जूनून पैदा करता है तथा महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है; इसीलिए इसे दुनिया का सबसे लोकप्रिय खेल माना जाता है.इएसपीएन (ESPN) ने यह डेव के साथ कहा था कि कोटे देल्वोइरे राष्ट्रीय फुटबॉल टीम (Côte d'Ivoire national football team) ने थोड़े समय के लिए 2005 में देश की नागरिक युद्ध को विराम देने में मदत कि थी.इसके विपरीत, 1969 में एल सल्वाडोर और होंदुरास के बीच जो फुटबॉल युद्ध (Football War) हुआ था उसे फुटबॉल जो व्यापक तौर पर फैला हुआ है, अन्तिम आसन्न कारण माना जाता है [17] यह खेल 1990 के युगोस्लाव युद्ध (Yugoslav wars) के शुरुआत में तनाव पैदा कर दिया था, जब दिनमो ज़गरेब (Dinamo Zagreb) और रेड स्टार बेलग्रेड ([[en:Red Star Belgrade|Red Sta

  1. अनुप्रेषित लक्ष्य पृष्ठ नाम

r Belgrade]]) के मध्य मैच खेला जा रहा था जिसके कारण मार्च 1990 में दंगा हुआ.[18]

खेल के नियम[संपादित करें]

आधिकारिक खेल के नियमों (Laws of the Game) में सत्रह नियम हैं. फुटबॉल के सभी स्तर में वही नियम लागु होते हैं जबकि कुछ समूहों जैसे जूनियर, बुजुर्ग या महिलाओं के लिए कुछ संशोधन की अनुमति दी जाती है. अक्सर नियम व्यापक दृष्टि के लिए बने होते हैं, जो खेल के स्वरुप के आधार पर लचीलापन प्रदान करता है. सत्रह नियमों के आलावा आईऍफ़ऐबी की कई फैसलें और अन्य निर्देश फुटबॉल के नियमन में योगदान देता है.फीफा के द्वारा खेल के नियम प्रकाशित किए गए हैं लेकिन फीफा के द्वारा ही नही बल्कि अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल असोसिएशन बोर्ड (International Football Association Board) के द्वारा बनाये रखा गया है [19]

खिलाड़ी, उपकरण और कर्मचारी[संपादित करें]

प्रत्येक टीम में अधिकतम ग्यारह खिलाड़ी होते हैं ( अतिरिक्त खिलाड़ी (substitute) को छोड़कर) उसमें से एक खिलाड़ी गोलकीपर (goalkeeper) होना चाहिए.प्रतियोगिता कानून बता सकता है की एक टीम को बनाने में कितने खिलाड़ियों की आवश्यकता होती है; आमतौर पर सात होते हैं. गोल कीपर एकमात्र ऐसा खिलाड़ी होता है जो अपने हाथ या बांह में गेंद पकड़ कर खेलने की अनुमति होती है लेकिन वह अपने गोल के सामने पेनाल्टी क्षेत्र (penalty area) तक ही ऐसा कर सकता है. यद्यपि इसमें कई पोजीशन (positions) होते हैं जिसमें कोच के द्वारा रणनीति के अनुसार उनको वह पोजीशन मिलता है किसी कानून[4] में इन पोजीशनों का उल्लेख नही है और न उसकी आवश्यकता है.

बुनियादी उपकरण या कीट (kit) की जो  आवश्यकता है उसमें शर्ट्स,शोर्ट्स,मोजे, जूते और पिंडली गार्ड (shin guard)  आदि  इसमें  शामिल है. बुनियादी उपकरण में सर गार्ड (Headgear) की आवश्यकता नही है, लेकिन खिलाड़ी अपने सर की चोट से सुरक्षा के लिए इसका इस्तेमाल कर सकते हैं खिलाड़ी ऐसा कुछ  पहनने  या इस्तेमाल करना  वर्जित  हैं जिससे ख़ुद को या अन्य खिलाड़ी के लिए खतरनाक साबित हो जैसे गहने या घड़ी गोल कीपर को ऐसे कपड़े पहनने चाहिए जिससे अन्य खिलाड़ियों तथा अधिकारीयों द्वारा आसानी से अलग पहचाना जाना चाहिए.[20] 

अनेक खिलाड़ी खेल के बीच में स्थानापन्न के द्वारा बदले जा सकते हैं.अधिकतर अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता और घरेलु लीग खेलों में अधिकतम तीन खिलाड़ी को बदलने की अनुमति प्राप्त है हालाँकि अन्य प्रतियोगिताओं या दोस्ताना मैचों में इसकी संख्या अलग हो सकती है.खिलाड़ी को बदलने के पीछे सामान्यतः कारण चोट, थकान, युद्ध क्षमता कम हो जाना, एक तकनीक, या असमंजस खेल के अंत में समय की व्यर्थता (timewasting) के लिए आदि होते हैं. आदर्श व्यस्क मैचों में जो खिलाड़ी एक बार बदल जाते हैं वे मैच का हिस्सा नही रहते हैं.[21]

मैच के लिए जिस रेफरी (referee) को नियुक्त किया जाता है उस मैच में उसके पास खेल के नियमों को लागु करने का पूर्ण अधिकार होता है (नियम 5), और उसका निर्णय अन्तिम होता है. रेफरी दो सहायक रेफरी (assistant referee) के द्वारा सहायता ग्रहण करता है.उच्च स्तरीय खेलों में एक चौथा अधिकारी (fourth official) भी होता है जो रेफरी को सहायता प्रदान करता है और जरुरत के अनुसार उसके बदले दूसरा अधिकारी भी आ सकता है.[22]

पिच[संपादित करें]

आदर्श पिट्च मापन (पुराने संस्करण देखें)

जैसा की नियम इंग्लैंड में बने थे और आरम्भ में आई ऍफ़ ऐ बी (IFAB) के भीतर चारों ब्रिटिश फुटबॉल असोसिएशन ने प्रशासित किया, फुटबॉल पिच का एक आदर्श आयाम मूल रूप से शाही यूनिट (imperial units) में व्यक्त किया गया. अब नियम को अनुमानित माप के साथ आयामों को अभिव्यक्त किया गया ( कोष्ठक में पारंपरिक इकाइयों द्वारा), हाल के मापिये (metrication) का इतिहास के साथ इंग्लिश बोलने वाले देशों में लोकप्रिय का प्रयोग पारंपरिक इकाइयों को ध्यान में रखने के लिया किया गया जैसे ब्रिटेन.[23]

अंतरराष्ट्रीय मैचों के लिए पीच की लम्बाई १००-110&न मीटर की श्रेणी में है ( 110-120 यार्ड) और चौडाई 64-75&n मीटर की श्रेणी में है ( 70-80 यार्ड) गैर अंतरराष्ट्रीय मैचों के लिए 91-120 मीटर लम्बाई हो सकता है (100-130यार्ड) और चौडाई 45-91मीटर ( हो सकता है अगर पीच एक वर्ग नही बनता है. सबसे बड़ी सीमा रेखाएं टच रेखाएं या किनारे की रेखाएं हैं जबकि छोटी सीमा (जहाँ से गोल मारा जाता है)गोल की रेखाएं हैं. आयताकार गोल प्रत्येक गोल रेखा के मध्य पर स्थित होती है.[24] पुरी मैदान में ऊर्ध्वाधर गोल पोस्ट का भीतरी किनारा 7.३ मीटर अवश्य होता है ( 8 यार्ड) इसके आलावा क्षैतिज क्रॉसबार जो गोल पोस्ट द्वारा समर्थित होती, का निचला छोर 2.44 मीटर होना चाहिए.(8 फीट ) आम तौर पर जाल गोल के पीछे रखा जाता है, लेकिन कानून के अनुसार उसकी कोई आवश्यकता नहीं है.[25]

प्रत्येक गोल के सामने का क्षेत्र पेनाल्टी क्षेत्र (penalty area) के रूप में जाना जाता है.यह क्षेत्र गोल रेखा के द्वारा चिन्हित रहती है, दो रेखाएं गोल पोस्ट से शुरू होती और जो गोल पोस्ट से 16.5 मीटर की दुरी तक होती हैं (18 यार्ड) और पीच की पंक्ति ओर 16.5 मीटर बढती जाती हैं, और रेखा वहाँ मिलती है. इस क्षेत्र का अनेक कार्य है, सबसे प्रमुख कार्य यह है की गोल कीपर गेंद को कहाँ पकड़ता है और कहाँ बचाव दल के सदस्यों द्वारा पेनाल्टी फौल होती है जिससे पेनाल्टी किक (penalty kick) की सजा मिलती है. अन्य चिन्हें गेंद के पोजीशन या खिलाड़ी का किक मारने, गोल किक, पेनाल्टी किक और कोर्नोर किक को परिभाषित करती हैं.[26]

अवधि और टाई को तोड़ने की विधि[संपादित करें]

एक आदर्श फुटबॉल मैच 45 मिनिट का दो अवधि का होता है जिसे हाल्व (आधा) कहते हैं.प्रत्येक आधा निरंतर चलती रहती है अर्थात घड़ी तब भी नहीं रूकती जब गेंद खेल से बाहर चली जाती है.सामान्यतः दो आधा के बीच में पन्द्रह मिनिट का आधे समय में विराम होता है मैच का अंत पुरा समय कहलाता है.

रेफरी मैच का आधिकारिक समय का ध्यान रखने वाला होता है और खिलाड़ी को बदलते समय, खिलाड़ी को चोट लगने के कारण खेल रुक जाती है या अन्य ठहराव के कारण रेफरी भत्ता के रूप में और समय दे सकता है सामान्यतः जोड़ा गया समय को ठहराव समय या चोट समय कहा जाता है और यह पूर्ण रूप से रेफरी के विवेकाधिकार पर निर्भर होती है.रेफरी का एक संकेत से मैच का अंत होता है.जहाँ मैच में चौथा अधिकारी होता है, आधे के अंत में रेफरी संकेत देता है की ठहराव समय कितना जोड़ना चाहिए. उसके बाद चौथा अधिकारी खिलाड़ी और दर्शकों को पकड़े हुए बोर्ड से सूचित करता है.उसके बाद भी रेफरी उस समय को बड़ा सकता है.[27] अत्यधिक समय जोड़ने का कार्य 1891 में एक मैच के दौरान स्टोक (Stoke) और अस्तों विल्ला (Aston Villa) के बीच एक घटना की वज़ह से हुई थी. मैच का केवल 1-० मिनिट बाकी था और स्टोक को पेनाल्टी मिला था.गोल कीपर विल्ला गेंद को मैदान के बाहर मार दिया और जब तक गेंद वापस आती तब तक 90 मिनिट समाप्त हो गए थे और खेल समाप्त हो गया.[28]

लीग प्रतियोगिताओं में खेल का समापन ड्रा के साथ हो सकता है, लेकिन कुछ नोक आउट प्रतियोगिताओं में अगर खेल निर्धारित समय तक टाई रहा तो वह मैच अतिरिक्त समय तक चल सकता है, जो पन्द्रह मिनिट का दो अवधि होता है. अगर स्कोर अतिरिक्त समय के बाद भी टाई रहता है तो कुछ प्रतियोगिताओं में पेनाल्टी शूट आउट (penalty shootouts) ( अधिकारिक रूप में खेल के नियम के अनुसार पेनाल्टी चिन्ह से किक मारना कहा जाता है) का प्रयोग किया जाता है जिसमें जो टीम आगे आएगी वह टीम प्रतियोगिता के अगले चरण में जायेगी.अतिरिक्त समय के दौरान जो गोल की जाती है वह खेल का अन्तिम स्कोर होता है लेकिन पेनाल्टी चिन्ह से जो किक मारा जाता है उसका प्रयोग केवल यह निर्णय करने के लिए होता है की कौन सी टीम प्रतियोगिता के अगले चरण में जायेगी.( पेनाल्टी शूट आउट के दौरान जो गोल स्कोर किए जाते हैं वह अन्तिम स्कोर का हिस्सा नहीं होता).

दो पैरों के प्रतियोगिता में ( जिसमें प्रत्येक टीम अपने देश में एक बार खेलेगा) खेल में समान स्कोर वाले बनाने वाले टीमों के आगे ले जाने के लिए देश के बाहर के गोल वाला नियम (away goals rule) का प्रयोग कर सकते हैं, और विजेता वही होता है जो देश से बाहर पैर से खेलने वाला होता है.यदि परिणाम फिर भी बराबर हो तो आम तौर पर पेनाल्टी चिन्ह से किक मारना आवश्यक है हालाँकि कुछ प्रतियोगिताओं में टाई होने से खेल को फिर से खेला जाना आवश्यक है.

1990s के अंत से  2000,के शुरुआत तक  आई ऍफ़ ऐ बी (IFAB)  ने  पेनाल्टी शूट आउट की आवश्यकता के बिना ही जीत हासिल करने की तकरीब बनाये जो अक्सर  अवांछनीय तरीके से मैच का समापन होना देखा गया.इसमें अतिरिक्त समय के शुरुआत में ही खेल को समाप्त कर देना शामिल है, जब अतिरिक्त समय में जब  पहला गोल स्कोर होता है (स्वर्ण गोल (golden goal)) या यदि एक टीम अतिरिक्त समय के अंत तक स्कोर में आगे होता है (सिल्वर/चांदी गोल (silver goal)).    स्वर्ण/गोल्डन गोल का प्रयोग 1998 (1998) aur 2002 (2002)के विश्व कप में हुआ था. 1998. के विश्व कप में गोल्डन/स्वर्ण गोल के द्वारा पहला खेल निर्णय पारागुए (Paraguay) पर फ्रांस (France) की विजय हुई थी. जर्मनी (Germany) पहला ऐसा राष्ट्र था जिसने प्रमुख प्रतियोगिता Euro 1996 (Euro 1996)में च्ज़ेच रेपुब्लीक (Czech Republic) को फाइनल में गोल्डन/स्वर्ण गोल के द्वारा स्कोर करके हराया था.यूरो 2004 (Euro 2004) में सिल्वर/चांदी का प्रयोग हुआ था.आई ऍफ़ ऐ बी[29] के द्वारा दोनों ही प्रयोगों को बंद कर दिया गया.

गेंद खेल के भीतर और बाहर[संपादित करें]

नियम के तहत खेल के दौरान गेंद जब भीतर हो तब का खेल और गेंद जब बाहर हो तब का खेल यह खेल के दो बुनियादी तत्त्व हैं प्रत्येक खेल अवधि के शुरुआत किक मारने (kick-off) के साथ होती है ( केन्द्र से एक टीम के द्वारा किक का जत्था मारना) और खेल के समय के अंत तक गेंद के साथ हर समय खेलते रहना होता है जब तक गेंद मैदान के बाहर न चला जाए या रेफरी के द्वारा खेल को रोका न जाए. जब गेंद खेलने के लायक नही रहता तब खेल आठ रिस्टार्ट विधि के एक विधि के द्वारा खेल फिर से शुरू होती है जो कैसे यह खेल लायक नही है पर निर्भर करती है.

चित्र:FreekickatLincoln.JPG
एक खिलाड़ी फ्री किक

लेने ही वाला है

  • गेंद मारना; विरोधी टीम के द्वारा गोल मारना या प्रत्येक अवधि का खेल शुरू करना.[2]
  • अन्दर फेंकना (Throw-in); जब गेंद पुरी तरह से रेखा पार कर जाती है तब उस विरोधी टीम को इनाम मिलता जो गेंद अन्तिम बार छूता है.[30]
  • गोल किक (Goal kick); जब गेंद पुरी तरह गोल रेखा को पार कर जाती है गोल के बिना ही स्कोर होता है और हमलावर के द्वारा गेंद को अन्तिम बार छूने के कारण रक्षा करने वाली टीम को इनाम मिलता है.[31]
  • कोर्नोर किक (Corner kick); जब गेंद बिना गोल के ही गोल रेखा को पार कर जाती है और रक्षा करने वाली टीम के द्वारा गेंद को अन्तिम बार छूने के कारण हमलावर टीम[32] को इनाम में मिलता है.
  • अप्रत्यक्ष मुफ्त किक (Indirect free kick); गैर दंड फौल के रूप में विरोधी टीम को इनाम में मिलती है, जब कुछ तकनीकी अतिलंघन या प्रतिद्वंदी को बिना किसी विशेष फौल के बाहर भेज दिया जाए और खेल रुक जाए. अप्रत्यक्ष फ्री किक से सीधे गोल प्राप्त नहीं किया जा सकता [33]
  • प्रत्यक्ष मुफ्त किक (Direct free kick); बेईमानी करने के कारण सूचीबद्ध दंड मिलती है.[33]
  • पेनाल्टी किक (Penalty kick); बैमानी करने के कारण प्रत्यक्ष मुफ्त किक मिलती है लेकिन पेनाल्टी क्षेत्र में बेईमानी करने के कारण विरोधी टीम को इनाम के रूप में पेनाल्टी किक मिलती है.[34]
  • ड्रोप गेंद (Dropped-ball); जब रेफरी किसी अन्य कारण के लिए खेल को रोक दे जैसे खिलाड़ी को गंभीर चोट लगने से, बाहरी पार्टी के द्वारा हस्तक्षेप या गेंद का ख़राब हो जाने कि वजह से यह होता है. व्यस्क खेलों में फिर से शुरू करना असामान्य है.[2]

बेईमानी और दुर्व्यहार[संपादित करें]

खेल के नियम में यह सूचीबद्ध है की फौल (foul) तभी होता है जब खिलाड़ी खेलते समय कोई अपराध करता है.फौल/बेईमानी जो एक अपराध है कानून १२ में सूचीबद्ध है.जान बुझ कर गेंद को हाथ से छूना, प्रतिद्वंदी को पकड लेना या प्रतिद्वंदी को धक्का मारना इत्यादि दंड योग्य फौल होते हैं और फौल कहाँ पर होता है उसके आधार पर प्रत्यक्ष मुफ्त किक (direct free kick) या पेनाल्टी किक (penalty kick) सजा के रूप में मिलती है अप्रत्यक्ष मुफ्त किक (indirect free kick) के द्वारा अन्य प्रकार के फौल की सजा होती है.[1]

पेनाल्टी क्षेत्र के भीतर अपराध करने से

खिलाड़ी को पेनाल्टी

किक मिलती है.

रेफरी खिलाड़ी या किसी खिलाड़ी के बदले में आए खिलाड़ी को रेफरी दंड के रूप में उसके दुर्व्यवहार (misconduct) के लिए (पीला कार्ड (yellow card)) या मैदान के बाहर भेज सकता है (लाल कार्ड (red card))एक ही खेल में दूसरी बार पीला कार्ड मिलने का अर्थ है रेड/लाल कार्ड का मिलना और उसके बाद मैदान से बाहर.यदि एक खिलाड़ी को बाहर निकाल दिया जाता है तो उसके स्थान में कोई दूसरा खिलाड़ी नही आ सकता है.दुर्व्यवहार कभी भी हो सकता है, और जब अपराधों में दुर्व्यवहार का गठन हुआ है और सूचीबद्ध है,इसकी परिभाषा बहुत व्यापक है.विशेष रूप से "ख़राब व्यवहार" जैसा अपराध अधिकतर मैचों में दिखलाई देती है जो खेल की भावना का उल्लंघन करती है, भले ही वे विशिष्ट अपराध के रूप में सूचीबद्ध नही है.किसी खिलाड़ी, किसी खिलाड़ी के बदले में आए खिलाड़ी या वैकल्पिक खिलाड़ी के बदले आए खिलाड़ी को रेफरी येल्लो/पीला कार्ड या रेड/लाल कार्ड दिखा सकता है.गैर खिलाड़ी जैसे प्रबंधक और सहायक कर्मचारी को येल्लो/पीला या रेड/लाल कार्ड नहीं दिखाया जा सकता लेकिन यदि वे एक जिम्मेदार ढंग से स्वयं को संचालित करने में असफल रहे तो उन्हें तकनीकी क्षेत्र से निष्कासित किया जा सकता है.[1]

खेल को रोकने के बजाये रेफरी अपराध करने वाले टीम के विरोधी टीम को फायदा दे सकता है तथा खेल को जारी रख सकता है."लाभ के साथ खेलना" के रूप में यह जाना जाता है.रेफरी वापस खेल में बुला सकता है और यदि प्रत्याशित लाभ छोटी अवधी के भीतर नही होती है, तो मूल अपराध के लिए दण्डित कर सकता है आम तौर पर यह चार से पाँच सेकंड लेती है.यहाँ तक की खेलते समय फायदा होने की वज़ह से अगर अपराध का दंड सुनिश्चित नहीं हो पाती लेकिन अगले पड़ाव तक दुर्व्यवहार करने वाले खिलाड़ी को सजा मिल सकती है.

ऑफ़ साइड (offside) का कानून सबसे ज्यादा जटिल है.ऑफ़ साइड नियम आगे के खिलाड़ी गेंद के बिना दूसरा बचाव खिलाड़ी के आगे नही जा सकता ( विरोधी टीम के गोल रेखा के एकदम समीप) (जहाँ गोल कीपर को भी शामिल कर सकते हैं)[35]

प्रबंध निकाय[संपादित करें]

फेडरेशन इंटरनेशनल दफुटबॉल असोसिएशन (Fédération Internationale de Football Association) (फीफा), फुटबॉल की मान्यता प्राप्त अंतरराष्ट्रीय नियंत्रण संस्था (और सहायक खेल जैसे फुटसल (futsal) और समुद्र तटीय फुटबॉल (beach soccer)) है.फीफा मुख्यालय जुरिच में स्थित है.

फीफा के साथ छः क्षेत्रीय संगठन जुड़े हुए हैं; ये हैं;

राष्ट्रीय संघ अलग अलग देशों के भीतर फुटबॉल का निरीक्षण करती है.ये फीफा और उनके महाद्वीपीय संघों के साथ संबद्ध रहे हैं.

प्रमुख अन्तर राष्ट्रीय प्रतियोगिता[संपादित करें]

फीफा द्वारा आयोजित विश्व कप (World Cup) एक प्रमुख अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल प्रतियोगिता है. चार साल में एक बार इस प्रतियोगिता का आयोजन होता है.190 से भी ज्यादा राष्ट्रीय टीम अर्हत प्रतियोगिता में महाद्वीपीय संघ के फाइनल में स्थान पाने के लिए भाग लेते हैं चार साल में एक बार आयोजित होने वाले इस प्रतियोगिता में बतीस टीम भाग लेती है और यह तक़रीबन चार सप्ताह तक चलती है.[36]2006 का फीफा विश्व कप (2006 FIFA World Cup) जर्मनी में हुआ था; 2010 का विश्व कप दक्षिण अफ्रीका (South Africa) में huwa tha.[37]

लोस एंजिल्स (Los Angeles) के 1932  के खेलों को छोड़कर 1900, से  प्रत्येक ग्रीष्मकालीन ओल्य्म्पिक खेल (Summer Olympic Games) में फुटबॉल प्रतियोगिता (football tournament) होती हैविश्व कप से पहले ओलम्पिक ( विशेष कर के 1920 दौरान) की विश्व कप में यही स्थिति थी. मूल रूप से यह खेल अव्यवसायी है,[13] बहरहाल, 1984 के ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक से (1984 Summer Olympics)पेशेवर खिलाड़ियों को अनुमति दी गई, यद्यपि कुछ प्रतिबंधों के बावजूद मज़बूत पक्षों के द्वारा क्षेत्र रक्षण से अपने देशों की रक्षा वर्तमान में, २३ स्तर के नीचे ओलम्पिक पुरूष प्रतियोगिता/टूर्नामेंट खेला गया है.पिछले ओलम्पिक में [38] प्रत्येक टीम के ज्यादा उम्र के खिलाड़ियों की संख्या सीमित थी लेकिन 2008 के ओलम्पिक में यह प्रथा समाप्त हो गई.ओलम्पिक प्रतियोगिता को आम तौर पर विश्व कप की तरह वही प्रतिष्ठा और महत्त्व नहीं दिया जाता.1996; में महिला प्रतियोगिता को सम्मिलित किया गया; पुरूष प्रतियोगिताओं के विपरीत बिना आयु प्रतिबन्ध के पूर्ण अंतरराष्ट्रीय मैच महिला ओलम्पिक टूर्नामेंट खेला गया.इसके कारण इसे अंतरराष्ट्रीय सम्मान मिला और महिला विश्व कप की तुलना फीफा से किया गया. (FIFA Women's World Cup)

विश्व कप के बाद महाद्वीपीय प्रतियोगिता सबसे महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल प्रतियोगिता है, जिसका आयोजन प्रत्येक महाद्वीप संघ के द्वारा होता है और जिसमें राष्ट्रीय टीमों के बीच संघर्ष/प्रतियोगिता होती है.ये हैं यूरोपीय चैंपियनशिप (European Championship) (यु ई ऍफ़ ऐ ) कोपा अमेरिका (Copa América) (सी ओ एन एम् बी ओ एल ) राष्ट्रीय अफ्रीकन कप (African Cup of Nations) (सी ऐ ऍफ़), एशिया कप (Asian Cup) (ऐ ऍफ़ सी), सी ओ एन सी ऐ सी ऐ ऍफ़ गोल्ड कप (CONCACAF Gold Cup) ( सी ओ एन सी ऐ सी ऐ ऍफ़ ) और ओ ऍफ़ सी राष्ट्रीय कप (OFC Nations Cup) (ओ ऍफ़ सी)क्लब फुटबॉल का सबसे सम्मानजनक प्रतियोगिता महाद्वीपीय चैंपियनशिप है, जिसमें आम तौर पर राष्ट्रीय चम्पिओनों के बीच प्रतियोगिता होती है, उदाहरण के लिए यूरोप में यु ई ऍफ़ ऐ चैंपियंस लीग (UEFA Champions League), और दक्षिण अमेरिका में कोपा लिबर्ता डोर्स द अमेरिका (Copa Libertadores de América). प्रत्येक महाद्वीपीय प्रतियोगिता का विजेता फीफा क्लब विश्व कप (FIFA Club World Cup)[39] में भाग लेता है.

घरेलु प्रतियोगिता[संपादित करें]

स्पेनिश सेस्क फेब्रेगास (Cesc Fàbregas) ( सफ़ेद कमीज़, शस्त्रागार (Arsenal)) और ब्राजीलियन एंडरसन (Anderson) (लाल कमीज़, मेनचेस्टर यूनाइटेड) इंग्लिश प्रेमिएर लीग (Premier League) में खेलते हैं.

प्रत्येक देश का गवर्निंग निकाय लीग प्रणाली (league system) संचालित करता है सामान्य रूप से इसके कई प्रभाग (division)होते हैं जिसमें टीम को पुरे काल में परिणाम के आधार पर अधिक अंक मिलते हैं.टीम द्वारा प्राप्त किए अंकों के अनुसार उनको एक तालिका (table) में रखा जाता है.राउंड रोबिन प्रतियोगिता/टूर्नामेंट (round-robin tournament) में सामान्यतः प्रत्येक टीम अन्य सभी टीमों के साथ अपने राज्य तथा राज्यों के बाहर प्रत्येक मौसम में खेलते हैं. मौसम के अंत में शीर्ष टीम को चैम्पियन घोषित किया जाता है.कुछ शीर्ष टीमों को एक उच्च प्रभाग में भेज दिया (promoted) जाता है और एक या एक से अधिक टीमों को नीचे के प्रभाग में रवाना (relegated) कर दिया जाता है. देशों के लीग में जो टीम शीर्ष पर जाकर हार जाती है निम्नलिखित मौसम में अंतरराष्ट्रीय क्लब प्रतियोगिता में खेलने के योग्य हो सकते हैं या खेल सकते हैं. लैटिन अमेरिका (Latin America) के लीग के इस प्रणाली में कुछ मुख्य अपवाद होते हैं, जो फुटबॉल चैंपियनशिप को दो भागों में विभक्त करता है जिसका नाम है अपेर्तुरा और क्लौसुरा (Apertura and Clausura) जिसमें प्रत्येक चैम्पियन को सम्मानित किया जाता है.

देशों के बहुमत से एक या एक से अधिक प्रतियोगिता कप के साथ लीग प्रणाली की पूर्ति करता करता है.इनका आयोजन दस्तक-बाहर (knock-out) के आधार पर होता है, तथा प्रत्येक मैच का विजेता अगले राउंड/दौर में जाता है; और हारने वाली टीम प्रतियोगिता में फिर भाग नहीं ले सकती.

कुछ देशों में के शीर्ष प्रभाग में ज्यादा मंहगे स्टार खिलाड़ियों की सुविधा रहती है; छोटे देशों और निम्न प्रभागों में द्वितीये श्रेणी के अंशकालिक खिलाड़ी हो सकते हैं.यूरोपियन लीग के पॉँच शीर्ष- सेरिएया (Serie A) (इटली) ला लीगा (La Liga) (स्पेन) प्रेमिएर लीग (Premier League) (इंग्लैंड),[40] बन्देस्लिगा (Bundesliga) (जर्मनी) और लिगुए (Ligue 1) (फ्रांस)- विश्व के सबसे आकर्षित तथा सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी हैं.

इस खेल का नाम[संपादित करें]

1863, में फुटबॉल असोसिएशन/संस्था द्वारा इंग्लैंड में फुटबॉल के नियमों को सुव्यवस्थित किया गया, और उस समय फुटबॉल केअन्य रूपों (other forms of football) विशेष कर रग्बी फुटबॉल (rugby football) खेला जाता था इसीलिए असोसिएशन फुटबॉल को अलग करने के लिए गढा गया. सोक्कर शब्द का उद्भव इंग्लैंड में हुआ, 1880s में पहली बार "असोसिएशन" शब्द का गवाँरु रूप दिखाई दिया, और इंग्लैंड के कप्तान चार्ल्स रेफोर्ड-ब्रोव्न (Charles Wreford-Brown) को अक्सर इसका श्री दिया जाता था.[41]

आज यह खेल जहाँ सबसे लोकप्रिय है आमतौर पर उन देशों में फुटबॉल कोड के नाम से जाना जाता है जिन देशों में यह अलग कोड से लोकप्रिय है, सामान्यतः उसे सोक्कर कहा जाता है, और वास्तव में सयुंक्त राष्ट्र और कनाडा के गवर्निंग निकाय का आधिकारिक नाम है फीफा विश्व खेल का गवर्निंग निकाय ने पारिभाषित किया है कि अपने विधियों[42] के कारण यह असोसिएशन फुटबॉल है, लेकिन फीफा और अंतरराष्ट्रीय ओलम्पिक समिति (International Olympic Committee) के द्वारा फुटबॉल शब्द का प्रयोग सबसे अधिक हुआ है.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. (webarchive)
  2. (webarchive)
  3. (webarchive)
  4. सन्डे टाईम्स (The Sunday Times) ने फुटबॉल के इतिहास की व्याख्या की है. रीड अंतर्राष्ट्रीय पुस्तकें लिमिटेड 1996. p.11 ISBN 1-85613-341-9
  5. प्रतियोगिता के इतिहास में प्रतियोगी टीमों की संख्या बदलती रही है.अभी हाल में 1998 (1998), 24 से 32. का बदलाव था

बाहरी सम्बन्ध/लिंक्स[संपादित करें]