फ़ादि

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
माडागास्कर का झंडा:'फ़ादि' माडागास्कर की संस्कृति में कई प्रकार की चीज़ों पर लगी वर्जना (मनाही) को बोलते हैं

फ़ादि (Fady) माडागास्कर द्वीप-देश की संस्कृति में कई प्रकार की चीज़ों पर लगी वर्जना (मनाही) को बोलते हैं।[1] फ़ादि का विषय लोग, स्थान, क्रियाएँ और वस्तुएँ हो सकती हैं और वे माडागास्कर में स्थान-से-स्थान भिन्न होती हैं। कई फ़ादि मालागासी संस्कृति में पूर्वज-पूजा से सम्बन्धित होते हैं और माना जाता है कि इनके उल्लंघन से अलौकिक शक्तियाँ अप्रसन्न हो सकती हैं। फ़ादि मालागासी जातीय पहचान में महत्वपूर्ण हैं और समाज को जोड़ने के लिये भी लाभदायक माने जाते हैं।[1] मालागासी भाषा में "कृप्या" और "क्षमा करें" के लिये "आज़ाफ़ादि" (azafady) कहते हैं, जिसका अर्थ है कि "मैं जो कर रहा हूँ यह मेरे लिये फ़ादि न हो"।[2]

उदाहरण[संपादित करें]

फ़ादि के कुछ उदाहरण इस प्रकार हैं और यह कार्य सभी मालागासी संस्कृति में सख़्त मना हैं -

  • किसी समाधी की ओर ऊँगली से इशारा करना
  • गर्भवती महिलाओं द्वारा ईल मछली का खाना
  • नवजात शिशु को सुन्दर न कहना

पालान[संपादित करें]

मालागासी समाज में स्थान व काल के अनुसार नये फ़ादि लगातार बनते गये हैं। किसी भी नये कार्य या व्यापार को आरम्भ करने से पहले "जोरो" (joro) नामक भोग चढ़ाया जाता है जिस से यह साबित होता है कि उस कार्य से फ़ादि-उल्लंघन नहीं होगा। फ़ादि तोड़ने को "ओता फ़ादि" (ota fady) कहते हैं और यदि किसी से जाने या अनजाने में "ओता फ़ादि" हो जाये तो उसे पलित समझा जाता है और "मालोतो" (maloto) नाम से सम्बोधित कर के उस से दूर रहा जाता है। समाज उसकी ओर घृणा से देखता है और उसे समाज को ख़तरे में डालने का ज़िम्मेदार ठहराया जाता है। माडागास्कर में आये पर्यटकों को भी फ़ादि प्रतिबन्धों का सम्मान करने की सलाह दी जाती है।[3][4]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Meanings in Madagascar: Cases of Intercultural Communication," Øyvind Dahl, Greenwood Publishing Group, 1999, ISBN 9780897896429
  2. "Madagascar: The Eighth Continent : Life, Death and Discovery in a Lost World," Peter Tyson, Bradt Travel Guides, 2013, ISBN 9781841624419
  3. Razafimpahanana, Bertin (1970). "Les Fady ou Tabous à Madagascar: Étude sociologique et Psycho-sociologique" (PDF). Annales de l’Université de Madagascar (in French) 11: 115–26.
  4. Ruud, Jørgen (1960). Taboo: a Study of Malagasy Customs and Beliefs. New York: Humanities Press. OCLC 4820312.