प्रायोगिक सूक्ष्मतरंग इलेक्ट्रॉनिक अभियांत्रिकी तथा अनुसंधान संस्था

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

प्रायोगिक सूक्ष्मतरंग इलेक्ट्रॉनिक अभियांत्रिकी तथा अनुसंधान संस्था (Society for Applied Microwave Electronics Engineering & Research / समीर / SAMEER) टाटा मूलभूत अनुसंधान संस्थान (टीआईएफआर), मुंबई में स्थापित विशेष माइक्रोवेव उत्पाद इकाई (एसएमपीयू) की एक शाखा है। इसकी स्थापना मुंबई में माइक्रोवेव इंजीनियरिंग एवं विद्युतचुम्बकीय इंजीनियरिंग प्रौद्योगिकी के क्षेत्रों में अनुसंधान एवं विकास कार्य को पूरा करने के लिए एक व्यापक अधिदेश के साथ तत्कालीन इलेक्ट्रॉनिकी विभाग, भारत सरकार के अंतर्गत एक स्वायत्त अनुसंधान एवं विकास प्रयोगशाला के रूप में की गई थी।

समीर (SAMEER) मुंबई की स्थापना 1984 में की गई थी। 1987 में चेन्नई के तत्कालीन इलेक्ट्रॉनिकी विभाग (डीओई) के इलेक्ट्रोमैग्नेटिक केंद्र का समीर (SAMEER) में विलय कर दिया गया था। समीर, कोलकाता की स्थापना 1994 में मिलीमीटरवेव प्रौद्योगिकी में अनुसंधान एवं विकास के लिए की गई थी। इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पादों की सीई मार्किंग हेतु ईएमआई/ईएमसी सुविधा के बढ़ाने के लिए समीर के नवी मुंबई परिसर में एक नए केंद्र की स्थापना की जा रही है।

दूरदर्शिता (विज़न)[संपादित करें]

  • माइक्रोवेव / आरएफ इलेक्ट्रॉनिक्स एवं इलेक्ट्रोमैग्नेटिक्स के क्षेत्रों में अनुप्रयोग उन्मुख अनुसंधान में उत्कृष्टता प्राप्त करना।

मिशन[संपादित करें]

  • अपनी विशेषज्ञता के क्षेत्रों में अनुसंधान एवं विकास गतिविधियों का संचालन।
  • प्रौद्योगिकी एवं उपयोगकर्ता की आवश्यकता द्वारा संचालित उत्पाद के विकास में संलग्न होना।
  • योग्यता के क्षेत्रों में विशेषज्ञता विकसित करना।
  • व्यवसायिक प्रभाग बनाना और इसे लंबे समय के लिए वाणिज्यिक रूप से व्यवहार्य बनाना।
  • बहु-विषयक संस्था बनना और आरएफ (Rf) तथा माइक्रोवेव क्षेत्रों के लिए विविध एप्लिकेशनों को संचालित करना।
  • योग्यता के क्षेत्रों में प्रशिक्षण एवं परामर्श का कार्य करना।
  • अपनी जनशक्ति को निरंतर प्रशिक्षित करके तेजी से बदल रही प्रौद्योगिकी के साथ तालमेल बनाए रखना।
  • उपयुक्त प्राधिकरण और जवाबदेही के साथ सभी स्तरों पर लोगों को सशक्त बनाने वाला एक गैर-पदानुक्रमित संस्थान बनना।

समीर द्वारा विकसित उत्पाद[संपादित करें]

  • भारत का पहला एमएसटी रडार जो दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा रडार है।
  • कैंसर उपचार के लिए भारत का पहला स्वदेश में विकसित रैखिक त्वरक
  • आरएफ/माइक्रोवेव के माध्यम से टेक्सटाइल, खाद्य, सिरेमिक, रसायन, फार्मा, रबर के अनुप्रयोगों के लिए ऊर्जा कार्यसाधक शोषक/तापीय प्रणाली।
  • अस्पताल के खतरनाक अपशिष्ट के लिए माइक्रोवेव विसंक्रमण प्रणाली।
  • कोड डिवीजन मल्टीपल एक्सेस [सीडीएमए] रिसीवर।
  • उपयोगकर्ता एजेंसी के लिए माइक्रोवेव डेटा लिंक सिस्टम [एमडीएलएस]
  • ब्रॉड-बैंड स्लीव मोनोपोल एंटीना
  • बेतार आवृत्ति होपिंग यूएचएफ डेटा लिंक।

समीर द्वारा संस्थापित कार्य[संपादित करें]

  • भारत का पहला ऑप्टो इलेक्ट्रॉनिक उपकरण डिजाइन एवं इंजीनियरिंग सुविधा केंद्र।
  • अंतरिक्ष इलेक्ट्रॉनिक्स हार्डवेयर विकास के लिए वर्ग दस हज़ार वाला स्वच्छता कक्ष (clean room) सुविधा।
  • सीई मार्किंग के लिए पूर्ण विकसित ईएमआई/ ईएमसी परीक्षण एवं मूल्यांकन सुविधा।
  • आरएफ/ माइक्रोवेव एंटीना मापन परीक्षण सुविधा।
  • थर्मल डिजाइन एवं इंजीनियरिंग सुविधा।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]