पॉल फ्लोरी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
पॉल जॉन फ्लोरी
Flory1.jpg
जन्म 19 जून 1910
Sterling, Illinois
मृत्यु सितम्बर 9, 1985(1985-09-09) (उम्र 75)
Big Sur[*]
राष्ट्रीयता अमेरिकी
शिक्षा प्राप्त की ओहायो राज्य विश्वविद्यालय
व्यवसाय scientist
पुरस्कार Guggenheim Fellowship[*], Charles Goodyear Medal[*], रसायन शास्त्र में नोबेल पुरस्कार, Elliott Cresson Medal[*], Willard Gibbs Award[*], Perkin Medal[*], नेशनल मेडल ऑफ सांइस

पॉल जॉन फ्लोरी (जून १९,१९१० - सप्टेंबर ९, १९८५) अमेरिका के रसायनशास्त्री थे जिन्हें पॉलिमर और अणुओं के क्षेत्र मे योगदान के लिये नोबेल पुरस्कार मिला। विलयनों के अन्दर बहुलकों के व्यवहार का अध्ययन करने वालों में वे अग्रणी थे। उन्हें १९७४ में नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया था।

आरम्भिक जीवन[संपादित करें]

१९२७ में एल्गिन के उच्च एल्गिन स्कुल में, इलिनोइस से स्नातक होने के बाद, फ्लोरि ने १९३१ में मैनचेस्टर कॉलेज ( इंडियाना ) ( अब मैनचेस्टर विश्वविद्यालय)में से स्नातक की डिग्री प्राप्त की और 1934 में ओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी से पीएच.डी. की।

कैरियर और पॉलिमर विज्ञान[संपादित करें]

बहुलक विज्ञान के क्षेत्र में फ्लोरी ने जल्द से जल्द काम ड्यूपॉन्ट एक्सपेरिमेंटल स्टेशन में पोलिरॉजेशन(polymerization) को कैनेटीक्स के क्षेत्र में किया गया था। संक्षेपण पोलिरॉजेशन( polymerization ) में उन्होंने चैलेंज किया कि,जैसे मॉक्रोमोलिक्युल (macromolecule ) बढ़ी रूप में बढ़ती जायेगी वैसे ही जेट में कमी होती जायेगी, इस धारणा को चुनौती दी है , और जेट का आकार को स्वतंत्र दिया। उन्होंने यह तर्क लगाया है कि,वह वर्तमान चेन की संख्या में तेजी कमी होती जा रही हैं और आकार बढ़ता गया। इसके अलावा polymerization में , वह गतिज समीकरणों में सुधार लाये और बहुलक आकार के वितरण को समझने को और उसकी कठिनाइयों को दूर करने के लिए श्रृंखला हस्तांतरण की महत्वपूर्ण अवधारणा शुरू की।

१९३८ में, कारोथरस ( Carothers ) के 'मृत्यु के बाद, फ्लोरी सिनसिनाटी विश्वविद्यालय में बेसिक साइंस अनुसंधान प्रयोगशाला में चले गये। वहाँ उन्होंने दो से अधिक कार्य समूहों के साथ यौगिकों के पोलिरॉजेशन (polymerization)और बहुलक नेटवर्क/जैल के सिद्धांत के लिए एक गणितीय सिद्धांत विकसित किया है।

१९४० में उन्होंने कहा कि वह बहुलक मिश्रण के लिए एक सांख्यिकीय यांत्रिक सिद्धांत विकसित करेंगे ,जहाँ मानक तेल डेवलपमेंट कंपनी का एक प्रकार का वृक्ष, न्यू जर्सी प्रयोगशाला में शामिल होंगे। १९४३ में उन्होंने बहुलक बुनियादी बातों पर एक समूह के प्रमुख के रूप था जिसे वे गुडइयर की अनुसंधान प्रयोगशालाओं में शामिल होने के लिए छोड़ दिया। १९४८ पिटर Debye , वसंत कॉर्नेल यूनिवर्सिटी में रसायन विज्ञान विभाग के तत्कालीन अध्यक्ष के रूप में, वार्षिक बेकर व्याख्यान देने के लिए फ्लोरी को आमंत्रित किया। इसके बाद उन्होंने उसी वर्ष के पतन में संकाय के साथ एक स्थान की पेशकश की थी। उन्होंने कहा कि ,वे कार्नेल में अल्फा ची सिग्मा के ताउ अध्याय में आमंत्रित किया गया था; जिसे १९४९ [३] वह सविस्तार औरकॉर्नेल यूनिवर्सिटी प्रेस द्वारा १९५३ में प्रकाशित किया गया था, जो अपने प्रसिद्ध रचना, पॉलिमर रसायन विज्ञान के सिद्धांतों में अपने बेकर व्याख्यान परिष्कृत कॉर्नेल में प्रसिद्ध किया। यह जल्दी से पॉलिमर के क्षेत्र में सभी श्रमिकों के लिए एक मानक पाठ बन गया था, और अभी भी व्यापक रूप से इस दिन के लिए प्रयोग किया जाता है। फ्लोरि पोलिमर के लिये १९३४ में, वर्नर कुहन द्वारा उन्होंने अपना अवधारणा की सुरुवात की। अपवर्जित मात्रा कि एक लंबी श्रृखला अणु का एक हिस्सा पहिले से ही एक ही अणु के दुसरे हिस्से के कब्जे में है तो उस स्थान पर कोई भी अणु कब्जा नही कर सकता , इस विचार को उन्होंने दर्शाता है। अपवर्जित मात्रा आगे के अलाव(औसत पर) वे वहाँ कोइ बहर रखा मात्रा कि तुलना में होने के लिये एक समाधान में एक बहुलक श्रृखला के सिरों का कारण बनता है तभी वह उसका हिसा बन सकता है। एक मात्रा को बहर रखा गया है,मान्यता के समाधान के लिये एक महत्वपुर्ण वैचारिक सफलता प्रदान कि लंबी श्रृखला के अणुओं का विश्लेषण करने में एक महत्वपुर्ण कारक था,और दिन के puzzling प्रयोगात्मक परिणामों कि व्याख्या करने के लिये नेतृत्व किया। यह भी थीटा बिंदु कि अवधारणा के नेतृत्व में, बाहर रखा मात्र का प्रभाव बनता है जिसमें एक प्रयोग किया जा सकता है;जिस पर शर्तों के सेट निष्प्रभावी किया गया है। थीटा बिंदु पर, चेन आदर्श श्रृंखला विशेषताओं में बदल जाती है- बाहर रखा मात्रा से उत्पन्न होने वाली बातचीत लंबी दूरी में समाप्त हो जाते हैं , प्रयोगकर्ता अधिक आसानी से इस तरह के संरचनात्मक ज्यामिति, बंधन रोटेशन क्षमता, और निकट के बीच स्त्रिक से बातचीत के रूप में कम दुरी की सुविधाओं के लिये उपाय करने की इजाजत दी। फ्लोरी सही ढंग से बाहर रखा मात्रा बातचीत थीटा बिंदु पर प्रयोग करके निष्प्रभावी रहे थे तो बहुलक पिघला देता में चेन आयाम आदर्श समाधान में एक श्रृंखला के लिये गणना आकार होता है कि पहचान की। उसकी उपलब्धियों के अलावा अच्छा समाधान में एक बहुलक का संभावित आकार की गणना के लिए एक मूल विधि है; जिससे उन्हें अपने हग्गिंनस समाधान सिद्धान्त में, फ्लोरी प्रतिपादक की व्युत्पत्ति में और समाधान में पॉलिमर के आंदोलन की उन्हें मदत मिलती है।

फ्लोरी सम्मेलन[संपादित करें]

बढे बढे अणुओं में परमानुओं की स्थिति वैक्टर मॉडलिंग में यह सामान्यीकृत कार्तीय निर्देशांक (एक्स,वार्ड,जेड) से परिवर्तित करने लिये बहुत आवश्यक है। शामिल चर को परिभाषित करने के लिये फ्लोरी सम्मेलन आम तौरपर कार्यरत है। एक उदाहरण के लिये ,एक पेप्टाइन बंधन(bond) एक्स ,वाई द्वारा वर्णित किया जाता है,इस बंधन या तो फ्लोरी सम्मेलन में हर एक परमाणु का झेड पदों के लिये इस्तमाल किया जा सकता है। बंधन l_i लंबाई यहाँ एक पता होना चाहिये ; बंधन \ theta_i कोण, और dihedral कोणों \ phi_i। सामान्यकृत निर्देशांक से एक सदिश रुपांतरण का लागु करने के लिये फ्लोरी सम्मेलन का उपयोग कर कर ही ३ आयामी संरचन का वर्णन करेंगे.

बाद के वर्ष[संपादित करें]

उन्होंने कहा कि, शारीरिक रूप से , सैद्धांतिक और प्रायोगिक दोन्हों १९६१ में स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में प्रोफेसर को स्विकार किया; १९६६ में वहाँ जैक्सन-ल्कडी प्रोफेसर बने और उनके मौलिक उपलब्धियों के लिये उन्होंने कह कि,१९७४ में रसायन विज्ञान के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। १९७५ में वहाँ से सेवानिवृत अणुओं की रसायान विज्ञान में । उन्होंने कहा कि उनकी सेवानिवृत्ति के बाद सक्रिय बने रहे, और कुछ वर्षों के लिए आईबीएम के लिए विचार-विमर्श किया। वह और उसकी पत्नी (अब मृतक) एमिली कैथरीन ताबोर तीन बच्चों सुसान , मेलिंडा और जॉन था। सुसान दो बच्चों, एलिजाबेथ और मरियम है। एलिजाबेथ तीन बच्चों, कैटी ग्रीर, मार्गरेट ग्रीर, और सैम ग्रीर है। पॉल जे फ्लोरी मेलिंडा ३ बच्चों Susanna , जेरेमी और चार्ल्स और ३ पोते है १९८५ में कैलिफोर्निया, बिग सुर में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। उन्होंने मरनेतक अल्फा ची सिग्मा फेम हॉल २००२ में शामिल किया गया था। फेम के अल्फा ची सिग्मा का पहचान करने के लिये और विज्ञान और रसायन शास्त्र का पेश के उनके योगदान को प्रचारित करने के लिये १९८२ में स्थापित किया गया था। हॉल ऑफ फेम किसी भी सदस्य द्वारा बनाया जा सकता हैं। एक नामांक प्रस्तुत करने के लिये ,ग्रैड वीजीर् को संपर्क कर सकते है। फेम के मुल हाल में सात सदस्य शामिल है। वर्तमान में, सुप्रिम कांउसिल प्रतियोगिताओं के साथ दो नय नए सद्स्यों को द्विवार्शिक कॉन्क्लेव में बनाया जा रहा हैं जो शामिल कर सकता है। हॉल ऑफ़ा फेम कि प्रशाषन कि लागत अल्फा ची सिग्मा शिक्षा फाउंडेशन द्वारा वहन किया जा सकता हैं। फ्लोऱी को पोलिमर से पहचाने जाते हैं।

पुरस्कार[संपादित करें]

उन्हें कई सारे पुरस्कार मिले हैं- १९७४ में उन्हें रसायन विज्ञान में नोबेल पुरस्कार मिला और उसी साल में उन्हें नेशनल मेडल ऑफ सांइस, प्रिस्टली पदक भी उन्हें मिला हैं। १९७७ में उन्हें पर्किन पदक मिला था। १९७१ में इलियन क्रेषन पदक मिला और १९६९ में पिटर दिबे पुरस्कार मिला था। १९६८ में गुडइयर पुरस्कार मिला।

बिब्लीयोग्राफी[संपादित करें]

  • फ्लोरि,पॉल.(१९५३) पोलिमर विज्ञान के सिद्धांतो,कार्नेल यूनिवर्सिटी प्रेस ISBN.०-८०१४-०१३४-८।
  • फ्लोरि,पॉल.(१९६९) शृंखला अणूओं कि साख्यींकीय यात्रिकी.इन्टरसाइन्स ISBN०-४७०-२६४९५-०। रेसिड्यु १९८९ ISBN १-५६९९०-०१९-१.
  • फ्लोरि,पॉल.(१९८५) पॉल जे फ्लोरि के चयनित वर्क्स। स्टैनफोर्ड युनिवर्सीटी प्रेस। ISBN ०-८०४७-१२७७-८।

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कडीयाँ[संपादित करें]