पेरिन जम्सेत्जी मिस्त्री

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

पेरिन जम्सेत्जी मिस्त्री (१९१३-१९८९) एक भारतीय वास्तुकार थी, जिन्हें भारत में एक वास्तुकार के रूप में अर्हता प्राप्त करने वाली पहली महिला के रूप में जाना जाता है।[1]

जीवन[संपादित करें]

उनका जन्म एक पारसी परिवार,[2] में हुआ था एवं उनकी शिक्षा इंग्लैंड में क्रॉयडॉन उच्च विद्यालय से हुई। बॉम्बे वापिस आने के पश्चात उन्होंने १९३६ में सर जम्सेत्जी जीजेभॉय कला के स्कूल में दाखिला लेकर वास्तुकला में डिप्लोमा प्राप्त किया। वह अपने पिता की वास्तुकारों की फर्म में १९३७  में शामिल हुई और अंततः उसकी भागीदार बन गयी। [3]

उनके काम में शामिल है कारमाइकल रोड पर बनाया गया सर बेह्रामजी का बंगला और सेंट स्टीफन चर्च

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Perin Mistri
  2. Jesse S. Palsetia, The Parsis of India: preservation of identity in Bombay city, BRILL, 2001, p.148
  3. Zerbanoo Gifford, The golden thread: Asian experiences of post-Raj Britain, Pandora Press, 1990, p.32