पाण्डुलिपिविज्ञान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
भगवद्गीता की १९वीं शताब्दी की एक पाण्डुलिपि

पाण्डुलिपिविज्ञान (Manuscriptology) पुरातत्त्वशास्त्र की एक शाखा है जिसमें प्राचीन तालपत्र पाण्डुलिपियों, कागज पर लिखी दुर्लभ पाण्डुलिपियों, पुरालेखविद्या (Epigraphy) तथा जल के भीतर के पुरातत्त्व का अध्ययन किया जाता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]