नैतिक संकट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अर्थशास्त्र में, नैतिक संकट (अंग्रेज़ी: moral hazard) तब होता है जब कोई व्यक्ति स्वयं बीमाकृत (insured) होने पर अधिक जोखिम उठाता है, खासकर किसी दूसरे जोखिम लेने वाले व्यक्ति को देखकर। व्यक्ति ऐसा इसलिए कर पाता है क्योंकि कोई और उन जोखिमों की लागत का वहन कर रहा होता है। इसका एक उदाहरण वह परिदृश्य हो सकता है जहां वित्तीय लेनदेन होने के बाद एक पार्टी कोई ऐसा बदलाव करे जो कि दूसरे के कार्य में प्रतिबंध डाले।

एक पार्टी इस बारे में निर्णय लेती है कि कितना जोखिम लेना है, जबकि दूसरी पार्टी लागतों को वहन करती है- अगर परिणाम बुरा आए, तो जोखिम लेने वाली पार्टी उससे अलग बर्ताव करने लगती है जैसा वह तब करती जब जोखिम उसे स्वयं उठाना पड़ता।

नैतिक जोखिम एक प्रकार की सूचना विषमता के तहत भी हो सकता है, जहां लेनदेन के लिए जोखिम लेने वाली पार्टी जोखिम के परिणाम भुगतने वाली पार्टी की तुलना में अपने इरादों के बारे में अधिक जानती है। मोटे तौर पर, नैतिक संकट तब हो सकता है जब पार्टी अपने कार्यों या इरादों के बारे में अधिक जानकारी के साथ कम जानकारी वाली पार्टी के दृष्टिकोण से अनुचित व्यवहार करने की प्रवृत्ति रखती है या उसे कहीं से ऐसा करने का प्रोत्साहन मिल रहा हो।

संदर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

  • Dewan, Shaila (February 26, 2012). "Moral Hazard: A Tempest-Tossed Idea". The New York Times. मूल से 22 सितंबर 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 फ़रवरी 2020.
  • Gladwell, Malcolm (August 29, 2005). "द मोरल हैज़र्ड मिथ" । द न्यू यॉर्कर ।
  • "मोरल हज़ार्ड के बारे में ऐसा क्या है?" । Press.illinois.edu
  • "इनसाइड द मेलडाउन", पीबीएस के फ्रंटलाइन एपिसोड एक केंद्रीय विषय के रूप में विचार का उपयोग करता है