नबकृष्ण देब

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
राजा नबकृष्ण देब
जन्म 10 अक्टूबर, 1833
मृत्यु 22 दिसंबर, 1896 कोलकाता,ब्रिटिश भारत
व्यवसाय राजा

नबकृष्ण देब, जिन्हें राजा नबकृष्ण देब के नाम से भी जाना जाता है (10 अक्टूबर, 1833 - 22 दिसंबर, 1896), शोभाबाजार शाही परिवार के संस्थापक थे। 1856 में, उन्होंने और रॉबर्ट क्लाइव [1] ने कलकत्ता के नवनिर्मित शोभाबाजार राजबाड़ी में पहली दुर्गा पूजा की शुरुवात की थी, जो कलकत्ता शहर की सबसे पुरानी दुर्गा पूजा है। [2] उन्होंने कई कलाकारों और समाज के विभिन्न वर्गों के विकास में योगदान दिया है।

रॉबर्ट क्लाइव की उपस्थिति में शोभाबाजार राजबाड़ी में दुर्गा पूजा
वर्तमान में शोभाबाजार राजबारी की दुर्गा पूजा

जीवनी[संपादित करें]

नवकृष्ण देव का जन्म 10 अक्टूबर 1833 को हुआ था। उनके पिता रामचरण देव थे। कम उम्र में अपने पिता की मृत्यु के बाद, उन्होंने अपनी माँ की देखरेख में उर्दू, फ्रेंच,अरबी और अंग्रेजी भाषाओं का अध्ययन किया।

प्रभाव[संपादित करें]

दुर्गा पूजा[संपादित करें]

1757 में प्लासी की लड़ाई में जीत के बाद, राजा नवकृष्ण ने शोभाबाजार के महल में लॉर्ड क्लाइव के सम्मान में दुर्गा पूजा की। तब से हर साल शोभाबाजार राजबाड़ी में दुर्गा पूजा का आयोजन किया जाता है।

मृत्यु[संपादित करें]

22 दिसंबर 1897 को, नवकृष्ण जब अपने घर में सोफे पर लेटे थे तब अचानक उनकी मृत्यु हो गई।

दीर्घा[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. বন্দ্যোপাধ্যায়, দেবাশিষ, বনেদি কলকাতার ঘরবাড়ি, দ্বিতীয় মুদ্রণ ২০০২, পাতা. ১০১-১০২, প্রকাশকঃ আনন্দ প্রকাশক, আইএসবিএন ৮১-৭৭৫৬-১৫৮-৮
  2. Cotton, H.E.A, p. 72