धान की भूसी का तेल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

धान की भूसी का तेल, धान के जर्म (अंकुराणु) एवं अन्दर की भूसी से निकाला जाता है। इसका धूम्र बिन्दु बहुत अधिक है (254 °C) जिसके कारण इसका प्रयोग उच्च-ताप पर भोजन बनाने के लिये किया जाता है। बहुत से एशियाई देशों में इसका प्रयोग पाचक-तेल (कुकिंग आयल) जैसे किया जाता है।

धान की भूसी में अनेक प्रकार की वसायें (फैट) पाये जाते हैं जिसमें से ४७% मोनोसचुरेटेड, ३३% पॉलीसैचुरेटेड, तथा २०% सैचुरेटेड होते हैं। धान की भूसी में वसीय अम्लों की उपस्थिति निम्न सारणी में दी गयी है-

वसीय अम्ल प्रतिशत
Palmitic 15.0%
Stearic 1.9%
Oleic 42.5%
Linoleic 39.1%
Linolenic 1.1%
Arachidic 0.5%
Behenic 0.2%

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

  • "Rice Bran Oil health benefits, research abstracts, article links and manufacturer information".