द्विपद गुणांक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
द्विपद गुणांकों को मेरुप्रस्तार या पास्कल त्रिकोण के रूप में व्यवस्थित किया जा सकता है।

गणित में, द्विपद प्रमेय के प्रसार में जो धनात्मक पूर्णांक आते हैं, उन्हें द्विपद गुणांक (binomial coefficient) कहते हैं।

उदाहरण के लिये, 2 ≤ n ≤ 5 के लिये द्विपद प्रमेय का स्वरूप इस प्रकार है:

अतः

१, २, १ ;
१, ३, ३, १ ;
१, ४, ६, ४, १ ;
१, ५, १०, १०, ५, १ आदि द्विपद गुणांक हैं।

द्विपद गुणांकों के उपयोग[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]