द्विधातु पट्टी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
द्विधातु पट्टी का चित्र जिसमें यह दिखाया गया है कि ताप वृद्धि के कारण इस पट्टी के दोनों धातुओं के असमान प्रसार के कारण पट्टी किनारे की तरफ अपेक्षाकृत बहुत अधिक मुड़ जाती है।
किसी तापमापी से निकाली गयी द्विधातु पट्टी पर जब लाइटर से ऊष्मा देते हैं तो तापवृद्धि के कारण इसकी कुण्डली खुलने लगती है और लाइटर को बन्द कर देने पर पुनः कुण्डली अपनी मूल अवस्ता में आने लगती है।

द्विधातु पट्टी (bimetallic strip) दो धातुओं से मिलकर निर्मित पट्टी होती है। यह ताप परिवर्तन को यांत्रिक विस्थापन में बदल देती है। इस प्रकार यह कई युक्तियों में ताप की अधिकतम मान को नियंत्रित करने के काम आती है, जैसे कपड़ा प्रेस करने वाली विद्युत इस्तरी में। इसके कार्य करने का सिद्धान्त यह है कि समान मात्रा में ताप बढ़ने पर दो भिन्न धातुओं में तापीय प्रसार अलग-अलग होता है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]