द्रव हिलियम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

द्रव अवस्था में स्थित हिलियम को द्रव हिलियम (liquid helium) कहते हैं। मानक दाब पर बहुत कम ताप (लगभग 4K = −269 °C) तक ले जाने पर ही हिलियम द्रव अवस्था में आ पाती है। द्रव हिलियम का उपयोग अतिचालकता प्राप्त करने के लिये किया जाता है, जैसे अतिचालक चुम्बकों के लिये। द्रव हिलियम एक विचित्र विलक्षण वाला एक असामान्य पदार्थ होता है इसके विचित्र लक्षण निम्न है 1. द्रव हीलियम एक ही रंग हीन पारदर्शी और उच्च सुवाष्पय होता है। 2. द्रव हीलियम का न तो कोई त्रिक बिंदु होता है और ना ही सामान्य ताप पर इसका कोई गलनांक बिंदु होता है। 3. इसके क्रांतिक ताप, क्रांतिक दाब, बॉयल ताप, व्युत्क्रमण और क्वथनांक क्रमश: 5.25K, 2.26atm, 17K, 34K व 4.25K होते है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]