दार्जिलिंग मेल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(दार्जिलिंग मेल 2343 से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search

दार्जिलिंग मेल, भारत के पूर्वी क्षेत्र में ऐतिहासिक गाड़ियों के से एक है जो आजादी के पूर्व के दिनों से चल रहा है। यह न्यू जलपाईगुड़ी (सिलीगुड़ी) को दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे को जोड़ता है। यह कोलकाता-सिलीगुड़ी मार्ग और हल्दीबाड़ी स्लिप की एक प्रमुख ट्रेन है।

इतिहास[संपादित करें]

ईस्ट बंगाल से होकर जाना[संपादित करें]

ब्रिटिश काल के दौरान उत्तर बंगाल के लिए सभी कनेक्शन ईस्ट बंगाल के माध्यम से थे।

1878, कोलकाता से सिलीगुड़ी तक का रेल मार्ग दो चरणो में था। पहले चरण मे कलकत्ता स्टेशन (बाद में सियालदह नाम) से दमूकडीह घाट की 185 किमी की यात्रा, जो पद्मा नदी के दक्षिणी किनारे पर पड़ता था एवं यह पूर्वी बंगाल स्टेट रेलवे में था। फिर दूसरे चरण की यात्रा नौका में नदी के उस पार जा कर स्टार्ट होती थी, जो पद्मा के उत्तरी तट पर सरघात से सिलिगुड़ी तक की मीटर गेज लाइन पर 336 किमी की यात्रा थी।

1.8 किमी लम्बा हार्डिंग पुल, 1912 मे पद्मई नदी मे अस्तित्व मे आया।[1] 1926 में इस ब्रिज का उतरी भाग मीटर गेज से ब्रॉड गेज परिवर्तित हुआ एवं इसी के साथ संपूर्ण कलकत्ता सिलीगुड़ी मार्ग ब्रॉड गेज बन गया।2 इस तरह जो रूट बना वो थी, सियालदह-रानाघाट-भेरँरा-हार्डिंग पुल-ईस्वर्दी-संताहार-हिली-परबतीपुर-निलफमारी-हल्दीबाड़ी-जलपाईगुड़ी-सिलीगुड़ी।

दार्जिलिंग मेल विभाजन से पहले के दिनों में इस मार्ग पे दौड़ती थी। भारत के विभाजन के बाद कुछ वर्षों के बाद भी यही मार्ग जारी रहा। यह असम मेल से जुड़ती थी जो विभाजन से पहले के दिनों में गुवाहाटी से संताहार तक जाती थी।[2][3]

नाव से गंगा पार करना[संपादित करें]

1947 में भारत के विभाजन के साथ, कोलकाता और सिलीगुड़ी को जोड़ने में सबसे बड़ी बाधा यह थी की गंगा के पार, पश्चिम बंगाल या बिहार में कोई पुल नही था। सिलीगुड़ी के लिए एक आम तौर पर स्वीकार्य मार्ग साहिबगंज लूप और सक्रगली था कभी कभी साहिबगंज घाट से भी था।

फरक्का बैराज के माध्यम से दौड़ना[संपादित करें]

1960 के दशक में जब फरक्का बैराज का निर्माण किया जा रहा था तब एक अधिक क्रांतिकारी परिवर्तन किया गया था। भारतीय रेलवे ने कोलकाता से एक नई ब्रॉड गेज रेल लिंक बनाया जो न्यू जलपाईगुड़ी को जोड़ता था।[4]

2,240 मीटर (7,350 फुट) लंबा फरक्का बैराज, गंगा के दोनो किनारो को जोड़ती एवं यह एक रेल मार्ग के साथ सड़क मार्ग भी थी।

समय सारिणी[संपादित करें]

# Code Stn

Name

Arr. Dep. Halt Dist. Day
1 SDAH Sealdah First 22.05 0 0 1
2 BWN Barddhaman

Jn

23.36 23.39 3 101 1
3 BHP Bolpur

Shantiniketan

00.28 00.31 3 153 2
4 MLDT Malda

Town

04.15 04.25 10 335 2
5 KNE Kishanganj 06.15 06.17 2 480 2
6 NJP New

Jalpaiguri Jn

08.00 Last 0 567 2

इसके विपरीत 12344 दार्जिलिंग मेल का समय तालिका निम्न हैं:

# Code Stn

Name

Arr. Dep. Halt Dist. Day
1 HDB Haldibari First 16.45 0 0 1
2 JPG Jalpaiguri 17.20 17.22 2 22 1
3 MOP Mohitnagar 17.30 17.31 1 28 1
4 RQJ Raninagar

Jalpaiguri

17.42 17.44 2 31 1
5 BLK Belakoba 18.03 18.04 1 39 1
6 ABFC Ambari

Falakata

18.14 18.15 1 49 1
7 NJP New

Jalpaiguri Jn (RL)

18.45 20.00 75 57 1
8 KNE Kishanganj 21.09 21.11 2 145 1
9 MLDT Malda

Town

23.45 23.55 10 290 1
10 BHP Bolpur

Shantiniketan

03.12 03.15 3 472 2
11 BWN Barddhaman

Jn

04.08 04.11 3 523 2
12 SDAH Sealdah 06.00 Last 0 624 2

सियालदह से खुलने वाली 12343 एक्सप्रेस रात के 10.05 मिनिट मे खुलती हैं एवं दूसरे दिन सुबह 8 बजे न्यू जलपाईगुड़ी पहुँचती हैं, 567 किलो मीटर का कुल सफर यह 9.55 घंटे मे तय करती हैं।[5]

एक श्रद्धांजलि[संपादित करें]

दार्जिलिंग मेल सामान्य तौर पर निर्विघ्न दौड़ती है एवं यह कभी-कभार ही झटके देती हैं। [6][7][8]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "हार्डिंग ब्रिज". बांग्लापीडीआ. अभिगमन तिथि ३० जुलाई २०१५.
  2. जयदीप दत्ता एंड हर्ष वर्धन. "ट्रेन ऑफ़ फेम एंड लोकस विथ ए नाम,पार्ट २". आईआरएफसीए. अभिगमन तिथि ३० जुलाई २०१५.
  3. "जियोग्राफी - इंटरनेशनल". आईआरएफसीए. अभिगमन तिथि ३० जुलाई २०१५.
  4. "भारत: सिलीगुड़ी और न्यू जलपाईगुड़ी में जंक्शनों के जटिल इतिहास". आईआरएफसीए. अभिगमन तिथि ३० जुलाई २०१५.
  5. "दार्जिलिंग मेल समय सारिणी". क्लियरट्रिप.कॉम. अभिगमन तिथि ३० जुलाई २०१५.
  6. "दार्जिलिंग मेल हॉरर रन ट्रेन सियालदह तक पहुँचता है 11 घंटे देर से". कोलकाता, भारत: द टेलीग्राफ, १२ मार्च २००८. २००८-०३-१२. अभिगमन तिथि ३० जुलाई २०१५.
  7. "मैन डेड ओन दार्जिलिंग मेल". कोलकाता, भारत: द टेलीग्राफ, ३० मार्च २०१०. २०१० ०३-३०. अभिगमन तिथि ३० जुलाई २०१५. |date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  8. "दार्जिलिंग मेल के बारे में अभिलेखीय जानकारी". टाइम्स ऑफ इंडिया. अभिगमन तिथि ३० जुलाई २०१५.