दयाल सिंह कॉलेज, करनाल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
दयाल सिंह कॉलेज करनाल

स्थापितमई ३, १९१०
मान्यता/सम्बन्धता:कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय कुरुक्षेत्र
प्रधानाचार्य:डॉ. चंद्रशेखर
अवस्थिति:करनाल, भारत
परिसर:करनाल
जालपृष्ठ:dsckarnal.org

दयाल सिंह कॉलेज, करनाल, हरियाणा में एक स्नातकोत्तर महाविद्यालय है।[1] यह सरदार दयाल सिंह मजीठिया द्वारा १९१० में स्थापित किया गया था,[2] जिन्होंने दयाल सिंह कालेज, लाहौर और दयाल सिंह कॉलेज, दिल्ली की भी स्थापना की थी। यह दयाल सिंह कॉलेज ट्रस्ट सोसाइटी दिल्ली द्वारा प्रबंधित है।[3]

इतिहास[संपादित करें]

करनाल स्थित दयाल सिंह कॉलेज उत्तरी भारत का एक उत्कृष्ट शैक्षणिक संस्थान है जिसमे विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास के लिए सभी प्रकार की सुविधायिएँ उपलब्ध हैं। यह महाविद्यालय हरियाणा का एक उत्कृष्ट सहशिक्षण संस्थान है। यह दयाल सिंह कॉलेज ट्रस्ट सोसाइटी दिल्ली द्वारा प्रबंधित है। इस संस्थान का सृजन इसके संस्थापक सरदार दयाल सिंह मजीठिया जी की उदारता और परोपकारी उत्साह के कारण हुआ। महान मनःसृष्ट  सरदार दयाल सिंह मजीठिया जी ने देश के कोने कोने तक ज्ञान और सूचना के प्रसार के अपने एक मात्र लक्ष्य को पूरा करने के लिए अपनी सारी संपत्ति तीन न्यासों (ट्रस्ट) में बाँट दी - दयाल सिंह कॉलेज ट्रस्ट सोसाइटी, दयाल सिंह लाइब्रेरी ट्रस्ट और द ट्रिब्यून ट्रस्ट[4]। सरदार दयाल सिंह मजीठिया जी की वसीहत के खंड ७ के अनुसार दयाल सिंह कॉलेज ट्रस्ट सोसाइटी ने लाहौर में महाविद्यालय की स्थापना की. तत्पश्चात करनाल एवं दिल्ली में भी महाविद्यालय स्थापित किये गए। लाहौर में एक संस्थान से आरम्भ हो कर यह अब एक बहुअयामी एवं बहुसंस्थानिक श्रंखला बन चुकी है।[5]

यह महाविद्यालय करनाल शहर के बीच में स्थित है। यद्यपि महाविद्यालय की स्थापना १९१० में लाहौर में हुई थी किन्तु भारत विभाजन के बाद पंजाब विश्वविद्यालय के संस्थापक कुलपति एवं यू.जी.सी. के संस्थापक सदस्य माननीय दीवान आनंद कुमार जी के अथक प्रयासों से इसका सितम्बर १६, १९४९ को करनाल में पुनःस्थापन हुआ। महाविद्यालय का आरम्भ कला संकाय से हुआ और धीरे-धीरे यह विज्ञान और वाणिज्य में सीखने का एक प्रतिष्ठित केंद्र बन गया। स्नातक पाठ्यक्रमों के अलावा, मेडिकल, गैर-चिकित्सा, आनुवांशिकी, इलेक्ट्रॉनिक्स, जैव प्रौद्योगिकी, कंप्यूटर विज्ञान और वाणिज्य के अलावा महाविद्यालय, अंग्रेजी, हिंदी, राजनीति विज्ञान एवं फॉरेंसिक विज्ञान में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम चलाता है।

शिक्षा के साथ-साथ खेल और सह पाठयक्रम गतिविधियों के क्षेत्र में भी इस महाविद्यालय ने उचचतम उपलब्धियां अर्जित की हैं‍‌‍‌। आधुनिक शिक्षा प्रदान करने के साथ साथ, संस्था का उद्देश्य चरित्र निर्माण, संस्कार, नैतिक मूल्यों, और सामाजिक सेवा और महिलाओं के विकास कार्यक्रमों में सक्रिय भागीदारी के माध्यम से अपने छात्रों का समग्र विकास करना है.

कॉलेज सबसे आधुनिक और अद्यतन प्रयोगशालाओं, पूरी तरह से कम्प्यूटरीकृत और ७७३९० किताबों के संग्रह के विशाल पुस्तकालय के साथ- साथ एक नव स्थापित भाषा प्रयोगशाला के साथ सुसज्जित है। अंततः छात्रों को उच्चतम स्तर की शिक्षाप्रदान करने और उनका यथोचित मानसिक विकास करने के लिए यहाँ का शिक्षक मंडल पूर्णतया समर्पित है। इसके अलावा महाविद्यालय खेल और सांस्कृतिक गतिविधियों, एन. सी. सी., एन. एस. एस, इत्यादि जैसी विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से छात्रों को सशक्त करता है। महाविद्यालय का  बहुत सक्रिय प्लेसमेंट सेल छात्रों की विभिन्न बहुराष्ट्रीय कंपनियों से अपनी पसंद की कंपनी में स्थान तलाश करने में मदद करता है। यह महाविद्यालय शिक्षा के क्षेत्र में अपनी सेवाओं और योगदान करने के लिए यू. जी. सी. के राष्ट्रीय मूल्यांकन और प्रत्यायन परिषद द्वारा "एक ग्रेड" की मान्यता प्राप्त है।

विभाग[संपादित करें]

पाठ्यक्रम [संपादित करें]

स्नातक

महाविद्यालय में निम्नलिखित विषयों में स्नातक शिक्षा उपलब्ध है:

  • बी. एस. सी.  
  • बी. कॉम.
  • बी. ए.
  • बी. सी. ए.
स्नातकोत्तर

महाविद्यालय में निम्नलिखित विषयों में स्नातकोत्तर शिक्षा उपलब्ध है:

  • एम. ए. हिंदी 
  • एम. ए. अंग्रेजी.
  • एम. ए. राजनीति शास्त्र
  • एम. एस. सी. रसायनशास्त्र
  • ५ वर्षीय एकीकृत एम. एस. सी. विधि विज्ञान

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. dsckarnal.org
  2. कॉलेज के बारे में
  3. http://www.dsc.du.ac.in/topics.aspx?mid=Profile
  4. http://www.dspl.org.in/About%20Us.html
  5. दयाल सिंह कॉलेज, करनाल

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]