तुकोजी होल्कर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
तुकोजी राव होल्कर
'महाराज (इंदौर के शासक) '
Tukoji Rao Holkar.png
Tukoji Rao Holkar
शासनावधि1795 - 1797
उत्तरवर्तीकाशी राव होल्कर
जन्म1723
निधन15 August 1797
पितातनुजी होल्कर
धर्महिन्दू

तुकोजीराव होल्कर प्रथम (1767-1797) अहिल्याबाई होल्कर का सेनापति थे तथा उनकी मृत्यु के बाद होल्करवंश के शासक बन गये।पेहले उन्होने पेशावर जितने मे आपना पुरा योगदान दिया और अटक के किले मे २.५ साल ठेहरकर हिंदवी स्वराज्य कि अफगाणी दुशामणो अहमदशाह अब्दाली से रक्षा करी ,दक्षिण मे टिपू सुलतान को युद्ध मे हराकर मराठा साम्राज्य कि पुनः एकबार नीव रखकर मराठा साम्राज्य खडा किया

आरम्भिक समय[संपादित करें]

बाजीराव प्रथम के समय से ही 'शिन्दे' तथा 'होल्कर' मराठा साम्राज्य के दो प्रमुख आधार स्तंभ थे। राणोजी शिंदे एवं मल्हारराव होलकर शाहू महाराज के सर्वप्रमुख सरदारों में से थे, लेकिन इन दोनों परिवारों का भविष्य सामान्य स्थिति वाला नहीं रह पाया। राणोजी शिंदे के सभी उत्तराधिकारी सुयोग्य हुए जबकि मल्हारराव होलकर की पारिवारिक स्थिति दुर्भाग्यपूर्ण हो गयी। उनके पुत्र खंडेराव के दुर्भाग्यपूर्ण अंत के पश्चात अहिल्याबाई होल्कर के स्त्री तथा भक्तिभाव पूर्ण महिला होने से द्वैध शासन स्थापित हो गया। राजधानी में शासिका के रूप में अहिल्याबाई होल्कर थी तथा सैनिक कार्यवाहियों के लिए उन्होंने तुकोजी होलकर को मुख्य कार्याधिकारी बनाया था। कोष पर अहिल्याबाई अपना कठोर नियंत्रण रखती थी तथा तुकोजी होलकर कार्यवाहक अधिकारी के रूप में उनकी इच्छाओं तथा आदेशों के पालन के लिए अभियानों एवं अन्य कार्यों का संचालन करते थे । अहिल्याबाई भक्ति एवं दान में अधिक व्यस्त रहती थी तथा सामयिक आवश्यकताओं के अनुरूप महिला ओ की सेना को उन्नत बनाने पर विशेष ध्यान दे रही थी। तुकोजी होलकर अत्यधिक महत्वाकांक्षी थे । आरंभ में मराठा अभियानों में वह महाद जी के साथ सहयोगी की तरह रहे । तब तक उनकी स्थिति भी अपेक्षाकृत सुदृढ़ रही। बालक पेशवा माधवराव नारायण की ओर से बड़गाँव तथा तालेगाँव के बीच ब्रिटिश सेना की पराजय, रघुनाथराव के समर्पण तथा मराठों की विजय में महादजी के साथ तुकोजी होलकर का भी संतोषजनक भाग था।


अवनति के पथ पर[संपादित करें]

सन् 1780 में तुकोजी महादजी से अलग हो गये । उसके बाद महादजी ने राजनीतिक क्षेत्र में भारी उन्नति प्राप्त की तथा तुकोजी का स्थान काफी नीचा हो गया। लालसोट के संघर्ष के बाद 1787 में महादजी द्वारा सहायता भेजे जाने के अनुरोध पर नाना फडणवीस ने पुणे से अली बहादुर तथा तुकोजी होलकर को भेजा था; परंतु वहा पहुँचकर भी महादजी का और तुकोजी का वैमनस्य उत्पन्न हो गया । तुकोजी जीते गये प्रांतों में हिस्सा चाह रहे थे और स्वभावतः महादजी का कहना था कि यदि हिस्सा चाहिए तो पहले विजय हेतु व्यय किये गये धन को चुकाने में भी हिस्सा देना चाहिए। परंतु महादजी ने अहिल्याबाई से लिया हुआ कर्ज चुकाया नही था इसिलिये तुकोजी का केहना था आप पेहले मातेश्वरी से लिया हुआ कर्ज चुका ओ . अहिल्याबाई तथा तुकोजी जो प्रायः समवयस्क थे कभी समान मतवाले होकर नहीं रह पाये। परंतु वो कभी अहिल्याबाई के शब्दो के आगे नही गये

तुकोजी होल्कर के चार पुत्र थे-- काशीराव, मल्हारराव, विठोजी तथा यशवंतराव। इनमें से प्रथम दो पेहली बिवी के पुत्र थे तथा अंतिम दो दुसरे बिवी के थे

पराभव का आरम्भ[संपादित करें]

तुकोजी और महादजी का वैमनस्य और बढने लगा परिणामस्वरूप महादजी ने उसका सर्वनाश करने का निश्चय किया। 8 अक्टूबर 1792 को महादजी की ओर से गोपाल राव भाऊ ने सुरावली नामक स्थान पर होलकर पर आकस्मिक आक्रमण किया। अनेक सैनिक मारे गए परंतु खुद तुकोजी होलकर बंदी होने से बच गया। यद्यपि बापूजी होलकर तथा पाराशर पंत के प्रयत्न से इस प्रकरण में समझौता हो गया, परंतु इंदौर में अहिल्याबाई तथा तुकोजी के पुत्र मल्हारराव द्वितीय को यह अपमानजनक लगा। उसने थोडी सी सेना तथा धन लेकर अपने पिता के शिविर में पहुँचकर समझौते तथा बापूजी एवं पाराशर पंत के परामर्श का उल्लंघन कर महादजी के बिखरे अश्वारोहियों पर आक्रमण आरंभ कर दिया। गोपालराव द्वारा समाचार पाकर महादजी ने आक्रमण का आदेश दे दिया।

लाखेरी के युद्ध में भीषण पराजय[संपादित करें]

लाखेरी में हुए इस युद्ध के बारे में माना गया है कि इतना जोरदार युद्ध उत्तर भारत में कभी नहीं हुआ था। होल्कर के अश्वारोही दल की संख्या लगभग 25,000 थी। उनके साथ करीब 2,000 डुड्रेनेक की प्रशिक्षित पैदल सेना थी, जिसके पास 38 तोपें थीं। महादजी के प्रतिनिधि गोपालराव 20,000 अश्वारोही, 6,000 प्रशिक्षित पैदल तथा फ्रेंच शैली की उन्नत 80 हल्की तोपें लेकर होल्कर के सामने डट गया। प्रथम टक्कर 27 मई 1793 को हुई उसमे तुकोजी कि जीत हुई तथा निर्णायक युद्ध 1 जून 1793 को हुआ। महादजी के अनुभवसिद्ध प्रबंधक जीवबा बख्शी तथा दि बायने की चतुर रण शैली के कारण होल्कर की समस्त सेना का लगभग सर्वनाश हो गया।

तुकोजी होल्कर का पराभव हो गया और वह इंदौर लौट गये ।

अन्त[संपादित करें]

1795 में निजाम के विरुद्ध मराठों के खरडा के युद्ध में अत्यंत वृद्धावस्था में उसने भाग लिया था। 1795 ई० में अहिल्याबाई का देहान्त हो जाने पर तुकोजी ने इंदौर का राज्याधिकार ग्रहण किया। अपनी अंतिम अवस्था में तुकोजी पुणे में ही रहा। 15 अगस्त 1797 को पुणे में ही तुकोजी का निधन हो गया।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]