तियानानमेन चौक विरोध प्रदर्शन, १९८९

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

१९८९ में बीजिंग के तियानानमेन चौक पर छात्रों के नेतृत्व में विशाल विरोध प्रदर्शन हुआ था जिसे नगरवासियों से भारी समर्थन मिला। इस प्रदर्शन से चीन के राजनीतिक नेतृत्व के बीच आपसी मतभेद खुलकर बाहर आ गये थे। इस विरोध प्रदर्शन को बलपूर्वक दबा दिया गया और बीजिंग में मार्शन लॉ लागू कर दिया गया। ३-४ जून १९८९ को इस चौक पर सेना ने नरसंहार किया। इन प्रदर्शनों का जिस तरह से हिंसक दमन किया गया ऐसा बीजिंग के इतिहास में कभी नहीं हुआ था। आज तक इस हिंसक दमन की आलोचना की जाती है और बार बार इस प्रदर्शन में मारे गए छात्रों के परिजनों की आवाज सामने आती है।

सरकारी आंकड़ों के अनुसार 200 लोग मारे गए और लगभग 7 हजार घायल हुए थे। किन्तु मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के अनुसार हजारों लोग मारे गए थे।

नामकरण[संपादित करें]

चीनी पारंपरिक रूप से महीने और दिन के नाम या घटनाओं के बाद की घटनाओं के बाद की तारीख। इस प्रकार, दरार के लिए आम चीनी नाम "जून फोर्थ इंसीडेंट" (चीनी: common 事件; पिनयिन: liìs: shìjiàn) है। नामकरण तियानमेन स्क्वायर में हुए दो अन्य महान विरोधों के प्रथागत नामों के अनुरूप है: मई 1919 का चौथा आंदोलन और 1976 का अप्रैल पांचवां आंदोलन। जून चौथा उस दिन को संदर्भित करता है जिस दिन पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने तियानमेन स्क्वायर को साफ किया था। हालांकि, प्रदर्शनकारियों का वास्तविक संचालन 3 जून की शाम को शुरू हुआ। जून चौथे आंदोलन (六四 ì; liì-sù yùndòng) और '89 लोकतंत्र आंदोलन (民运 b; bā-jǔǔ mínyùn) जैसे नामों का उपयोग एक घटना का वर्णन करने के लिए किया जाता है।[1]

पृष्ठभूमि[संपादित करें]

बोलुआन फनझेंग और आर्थिक सुधार[संपादित करें]

1976 में चेयरमैन माओत्से तुंग की मौत  के बाद चार की गैंग की गिरफ्तारी से क्रांति सांस्कृतिक का अंत हुआ। माओ द्वारा प्रायोजित उस आंदोलन ने देश के मूल रूप से विविध आर्थिक और सामाजिक ताने-बाने को गंभीर नुकसान पहुंचाया। देश गरीबी में घिर गया था क्योंकि आर्थिक उत्पादन धीमा हो गया था। राजनीतिक विचारधारा आम लोगों के जीवन के साथ-साथ कम्युनिस्ट पार्टी के आंतरिक कामकाज में भी सर्वोपरि थी।[2]

सितंबर 1977 में, डेंग शियाओपिंग ने सांस्कृतिक क्रांति की गलतियों को सुधारने के लिए बोलुआन फैन्झेंग ("अराजकता से आदेश लाने") के विचार का प्रस्ताव रखा। 11 वीं केंद्रीय समिति के तीसरे प्लेनम में, दिसंबर 1978 में, डेंग चीन के वास्तविक नेता के रूप में उभरा। उन्होंने चीनी अर्थव्यवस्था (सुधार और उद्घाटन) में सुधार के लिए एक व्यापक कार्यक्रम शुरू किया। कई वर्षों के भीतर, वैचारिक पवित्रता पर देश के फोकस को भौतिक समृद्धि प्राप्त करने के लिए एक ठोस प्रयास द्वारा बदल दिया गया।

परिचय[संपादित करें]

चीन की राजधानी बीजिंग में तियानानमेन चौक पर तीन और चार जून 1989 को सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हुए। चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी ने प्रदर्शन का निर्दयतापूर्वक से दमन किया। चीन की सेना ने बंदूकों और टैंकरों के जरिए शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे निशस्त्र नागरिकों का दमन किया। ये लोग बीजिंग के इस मशहूर चौक पर सेना को रोकने की कोशिश कर रहे थे। यहां छात्र सात सप्ताह से डेरा जमाए बैठे थे।

ये विरोध प्रदर्शन अप्रैल 1989 में चीन की कम्यूनिस्ट पार्टी के पू्र्व महासचिव और उदार सुधारवादी हू याओबांग की मौत के बाद शुरू हुए थे। हू चीन के रुढ़िवादियों और सरकार की आर्थिक और राजनीतिक नीति के विरोध में थे और हारने के कारण उन्हें हटा दिया गया था। छात्रों ने उन्हीं की याद में मार्च आयोजित किया था।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "Tiananmen killings: Were the media right?" (अंग्रेज़ी में). 2009-06-02. अभिगमन तिथि 2021-02-12.
  2. "Tiananmen Birthed China's Impossible Balancing Act". Time. अभिगमन तिथि 2021-02-12.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]