तन्त्र विज्ञान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
समाज के बारे में तन्त्रात्मक विचार

तन्त्र विज्ञान (Systems science) या तन्त्र सिद्धान्त (सिस्टेम्स थिअरी), एक अन्तरविषयक क्षेत्र है तन्त्रों की प्रकृति का अध्ययन पर अध्ययन करती है। ये तन्त्र प्रकृति के हो सकते हैं, समाज के हो सकते हैं या विज्ञान के हो सकते हैं। तन्त्र विज्ञान, ऐसे अन्तरविषयी आधार विकसित करता है जिनका उपयोग इंजीनियरी, जीवविज्ञान, आयुर्विज्ञान, समाज विज्ञान आदि अनेकानेक क्षेत्रों में किया जा सकता है। [1]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Philip M'Pherson (1974, p. 229); as cited by: Hieronymi, A. (2013), Understanding Systems Science: A Visual and Integrative Approach. Syst. Res.. doi:10.1002/sres.2215. He defined systems science as "the ordered arrangement of knowledge acquired from the study of systems in the observable world, together with the application of this knowledge to the design of man-made systems."