ड्रैगन नृत्य

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
Dragon Dance

Chinese draak.jpg

पारम्परिक चीनी: 舞龍
सरलीकृत चीनी: 舞龙

ड्रैगन नृत्य (सरलीकृत चीनी: 舞龙; परंपरागत चीनी: 舞龍; पिनयिन: wǔ lóng) चीनी संस्कृति में पारंपरिक नृत्य एवं प्रदर्शन का एक रूप है। सिंह नृत्य की तरह इसे भी सबसे ज्यादा उत्सव समारोह में देखा जाता है। कई चीनी लोग 1970 के दशक में शुरू होने वाले चलन के एक हिस्से के रूप में एक जातिगत पहचान के एक चिह्न के रूप में अक्सर "ड्रैगन के वंशज " (龍的傳人 या 龙的传人, lóng de chuán rén) शब्द का इस्तेमाल करते हैं। एक अन्य व्युत्पत्ति (農的傳人) अर्थात् शेनोंग के वंशज से हुई है जो चीनी लोगों का पहला पौराणिक राजा था जिसने उनलोगों कृषि, क़ानून और चिकित्सा, सभ्यता की नींव के बारे में बताया।

नृत्य में, लोगों का एक दल खंभों पर ड्रैगन लिए रहता है - जो चीनी ड्रैगन की एक छवि है। एक ड्रैगन की रचना ज्यादा से ज्यादा 50 लोगों से की जा सकती है।[1] नृत्य दल एक घुमावदार और लहरदार तरीके से इस नदी आत्मा की कल्पित गतिविधियों की नक़ल करता है। प्रदर्शन के दौरान प्रदर्शित की जाने वाली गतिविधियां परंपरागत रूप से शक्ति और गरिमा का प्रदर्शन करने वाले ड्रैगन की ऐतिहासिक भूमिकाओं का प्रतीक हैं। ड्रैगन नृत्य दुनिया भर में चीनी नगरों में विश्वव्यापी स्टार पर आयोजित होने वाले चीनी नव वर्ष समारोह की एक विशिष्टता है।

ऐसी मान्यता है कि ड्रैग लोगों के लिए सौभाग्य लेकर आता है जो उनकी गुणवत्ता में दिखाई देता है जिसमें महान शक्ति, गरिमा, प्रजनन (सेक्स), बुद्धि और कल्याण शामिल है। ड्रैगन का स्वरूप भयावह[कृपया उद्धरण जोड़ें] होने के साथ-साथ साहसी भी है लेकिन इसका एक उदार स्वाभाव है और इसलिए अंत में यह शाही अधिकारी का प्रतिनिधित्व करने वाला एक प्रतीक बन गया।

इतिहास[संपादित करें]

ड्रैगन नृत्य पोशाक का सिर
अप्रैल में सैन फ्रांसिस्को में 2008 ग्रीष्मकालीन ओलंपिक मशाल दौड़ के दौरान सिंह नृत्य के साथ ड्रैगन नृत्य का भी प्रदर्शन किया गया है

सिंह नृत्य की उत्पत्ति बौद्ध विद्या और अनुष्ठान के साथ भारत में हुई थी। वर्तमान चीनी संस्कृति में सिंह नृत्य का लोकप्रिय रूप चीन में विकसित होने के बावजूद जापान सहित एशिया के कई देशों ने कई सदियों में सिंह नृत्य की अपनी अलग शैलियों को विकसित किया है।

ड्रैगन नृत्य की उत्पत्ति खुद हान राजवंश के दौरान हुई थी और इसकी शुरुआत ड्रैगन में काफी विश्वास रखने वाले और उसका सम्मान करने वाले चीनी लोगों द्वारा की गई थी। ऐसी मान्यता है कि इसकी शुरुआत कृषि एवं फसल संस्कृति के एक हिस्से के रूप में हुई थी और इसके साथ ही साथ इसकी उत्पत्ति बिमारियों को ठीक करने और रोकने के एक तरीके के रूप में हुई थी। सांग राजवंश के दौरान यह पहले से ही एक लोकप्रिय कार्यक्रम था जहां यह एक लोक गतिविधि बन गई थी और सिंह नृत्य की तरह यह भी सबसे ज्यादा उत्सव समारोहों में दिखाई देता था।[2]

चूंकि ड्रैगन लोगों को महान सम्मान की भावना प्रदान करता है, इसलिए इसे अक्सर पवित्र ड्रैगन कहा जाता है। प्राचीन चीन के सम्राट खुद को ड्रैगन मानते थे। ड्रैगन शाही अधिकारी का प्रतीक भी है। यह अलौकिक शक्ति, अच्छाई, प्रजनन, सतर्कता और गरिमा का प्रतीक है।

किंग राजवंश में, फूचोव प्रान्त के ड्रैगन नृत्य दल को पेकिंग में अपने नृत्य का प्रदर्शन करने के लिए आमंत्रित किया गया था और किंग सम्राट ने उनकी काफी तारीफ़ की जिससे वह दल बहुत मशहूर हो गया।

प्रदर्शन[संपादित करें]

मेलबोर्न के चाइनीज यूथ सोसाइटी के सदस्य चीनी नव वर्ष के मौके पर एक बुनियादी "पेंचकश" चाल का प्रदर्शन करते हुए

ड्रैगन नृत्य का प्रदर्शन एक कुशल दल द्वारा किया जाता है जिसका काम स्थिर शरीर में जान डालना है। ड्रैगन खुद खंभों पर आधारित एक लंबे सांप की आकृति वाली काया है जिसे प्रत्येक खंड पर छल्लों की श्रृंखला को जोड़कर और अंत में सजावटी सिर और पूंछ वाले टुकड़ों को जोड़कर संयुक्त किया जाता है। परंपरागत रूप से, ड्रैगनों को लकड़ी से बनाया जाता था, जिसके अंदर की तरफ बांस के छल्ले होते थे जिसे शानदार कपड़ों से ढंक दिया जाता था, लेकिन आधुनिक युग में लकड़ी और भारी सामग्रियों की जगह एल्यूमिनियम और प्लास्टिक जैसी हल्की सामग्रियों का इस्तेमाल किया जाता है।[2]

अधिक कलाबाजी वाले मॉडलों के लिए ड्रैगनों की लम्बाई लगभग 25 से 35 मीटर तक हो सकती है और सबसे बड़े, परेड और अनुष्ठानिक शैलियों के लिए इसकी लम्बाई 50 से 70 मीटर तक हो सकती है क्योंकि ड्रैगन से जुड़ी पौराणिक कथा के अनुसार ड्रैगन जितना लंबा होगा वह उतना अधिक सौभाग्य लाएगा. ड्रैगन का आकार और लम्बाई उपलब्ध मानव शक्ति, वित्तीय शक्ति, सामग्री, कौशल और मैदान के आकार पर निर्भर करती है। इसकी लम्बाई के आम तौर पर 9 से 15 खंड होते हैं लेकिन कुछ ड्रैगनों के ज्यादा से ज्यादा 46 खंड भी हो सकते हैं।

एक छोटा सा संगठन एक बहुत लंबे ड्रैगन को संचालित करने की हिम्मत नहीं जुटा सकता क्योंकि इसमें बहुत ज्यादा मानव शक्ति, बहुत ज्यादा खर्च और विशेष कौशल की जरूरत पड़ती है जिसका प्रबंध करना मुश्किल है। ड्रैगन के लिए प्रस्तावित शरीर की सामान्य लम्बाई और आकार 112 फीट (34 मीटर) होता है और वह 9 प्रमुख खण्डों में विभाजित होता है। प्रत्येक मामूली (पसलियों की तरह) खंड की दूरी 14 इंच होती है; इसलिए शरीर में 81 छल्ले होते हैं। इतिहास से पता चलता है कि ड्रैगन नृत्य का प्रदर्शन कई तरीकों, प्रकारों और रंगों में किया जाता है। ड्रैगन के मुख्य रंग के लिए कभी-कभी हरे रंग का चयन किया जाता है जो अत्यधिक पैदावार का प्रतीक है। अन्य रंगों में शामिल है: पीला रंग जो पवित्र साम्राज्य का प्रतीक है, सुनहरा या चांदी जैसा रंग जो समृद्धि का प्रतीक है, लाल रंग जो उत्तेजना का प्रतिनिधित्व करता है जबकि इसके शल्कों और पूंछ के लिए हर बार अधिकतर सुन्दर चांदी रंग और जगमगाहट का इस्तेमाल किया जाता है जो खुशी के माहौल का एहसास दिलाता है। चूंकि ड्रैगन नृत्य का प्रदर्शन रोज नहीं किया जाता है इसलिए ड्रैगन के कपड़े को उतार लेना पड़ता है और अगले प्रदर्शन से पहले एक बार फिर से उसे अच्छी तरह रंगना पड़ता है।

नृत्य को सफल बनाने के लिए ड्रैगन के विभिन्न हिस्सों का सही संयोजन और उचित समयबद्धता बहुत जरूरी है। चंद प्रदर्शकों की छोटी सी गलती की वजह से सारा का सारा प्रदर्शन बर्बाद हो सकता है। नृत्य को अत्यंत सफल बनाने के लिए ड्रैगन के सिर को ड्रम की समयबद्धता के साथ शरीर के शेष हिस्से के साथ तालमेल बैठाने में सक्षम होना चाहिए। बड़े समारोहिक और परेड शैली वाले ड्रैगनों के लिए सिर का वजन अधिक से अधिक 12 कटी (14.4 किलोग्राम, लगभग 32 पाउंड) हो सकता है। ड्रैगन की पूंछ की भी एक महत्वपूर्ण भूमिका होती है क्योंकि इसे भी सिर के आंदोलनों के साथ तालमेल बैठना पड़ता है। पांचवें खंड को मध्य भाग माना जाता है और समय-समय पर शारीरिक आंदोलनों में परिवर्तन होने की वजह से प्रदर्शकों को काफी सतर्क रहना चाहिए।

हालांकि प्रतियोगिता वाले प्रदर्शनों में ड्रैगन के शरीर और चाल के प्रदर्शन के लिए विनिर्देशनों के संचालन के नियम काफी सख्त होते हैं और इसलिए इन कार्यक्रमों के लिए बनाए जाने वाले और प्रभावशाली मंच कार्यक्रमों में दिखाए जाने वाले ड्रैगनों को बनाते समय गति और चपलता पर विशेष ध्यान दिया जाता है ताकि प्रदर्शन दल इसके साथ अधिक से अधिक करामत दिखा सकें. इन ड्रैगनों में सिर इतना छोटा और हल्का होता है कि उसे आसानी से चारों तरफ आंदोलित किया जा सके और इसका वजन कम से कम 3 किलोग्राम होना चाहिए और शरीर के शेष हिस्सों का निर्माण बेंत के साथ हल्के एल्यूमिनियम से किया जाता है और ज्यादातर छल्लों के लिए बहुत पतले पीवीसी ट्यूबों का इस्तेमाल किया जाता है। नृत्य प्रदर्शन आम तौर पर तालवाद्य सेट के साथ 8 से 10 मिनट में किया जाता है।[2]

चीनी राष्ट्रीय दिवस के सप्ताह भर चलने वाले समारोह के दौरान सितम्बर 2002 में चीन के चोंगकिंग में डबल ड्रैगन नृत्य का प्रदर्शन

डबल ड्रैगन नृत्य, जो शायद ही कभी पश्चिमी प्रदर्शनियों में दिखाई देता है, में ड्रैगनों को लपेटे हुए नर्तकों की दो मंडलियां होती हैं। नौ ड्रैगनों की एक सम्पूर्ण सारणी वाले नृत्यों का दिखाई देना और भी दुर्लभ है जो कि एक "परिपूर्ण" संख्या है। ऐसे नृत्यों में विभिन्न संगठनों के प्रतिभागी बहुत बड़ी संख्या में भाग लेते हैं और इस तरह के नृत्यों का प्रदर्शन केवल अधिक से अधिक समुदाय के तत्वावधान में ही संभव है।

ड्रैगन नृत्य की पद्धतियों को प्रदर्शकों द्वारा अधिग्रहित कौशलों और अनुभवों के अनुसार निर्देशित किया जाता है। ड्रैगन नृत्य की पद्धतियों में से कुछ इस प्रकार हैं: "क्लाउड केव", "वर्लपूल", ताई-चाई पद्धति, "थ्रेडिंग द मनी", "लूकिंग फॉर पर्ल" और "ड्रैगन इनसर्कलिंग द पिल्लर". "ड्रैगन चेजिंग द पर्ल" आंदोलन के माध्यम से यह दिखाया जाता है कि ड्रैगन लगातार ज्ञान की तलाश में है।

ड्रैगन एक के बाद एक प्रत्येक खंड को तालमेल के साथ हिलाते डुलाते हुए लहरदार तरीके से चलता है। हालाँकि इस हिलाने डुलाने की प्रक्रिया में ड्रैगन का बुनियादी आन्दोलन शामिल है लेकिन अधिक जटिल ढाँचों का क्रियान्वयन दल की रचनात्मकता तक ही सीमित है। आम तौर पर प्रदर्शित की जाने वाली पद्धतियों और चालों में ड्रैगन के शरीर को घूमने और मुड़ने लायक बनाने के लिए सर्पिल ढाँचों का संचालन शामिल है। इसकी वजह से प्रदर्शक ड्रैगन के शारीरिक खण्डों पर या उसके माध्यम से कूदकर दृश्य प्रदर्शन को और बेहतर बनाने की कोशिश करते हैं। अन्य उन्नत कलाबाजियों में विभिन्न पेंचकशनुमा घूर्णन चालें और अधिक कलाबाजीपूर्ण चालें शामिल हैं जहाँ ड्रैगन के आंदोलनों की ऊंचाई में वृद्धि प्रदर्शक एक दूसरे के पैरों पर और कन्धों पर खड़े हो जाते हैं।[2]

ड्रैगन नृत्य के प्रदर्शन के लिए प्रदर्शक दल कई तत्वों और कौशलों का समावेश करता है; यह कुछ हद तक एक आर-पार वाली गतिविधि होती है जहां एक खेलकूद करने वाले दल के प्रशिक्षण और मानसिकता को एक प्रदर्शन कला मंडली के नाट्य कौशल और अन्तः प्रेरणा को एक साथ मिला दिया जाता है। बुनियादी कौशलों को आसानी से सीखा जा सकता है लेकिन एक सक्षम प्रदर्शक बनने के लिए तब तक तनमन से प्रशिक्षण लेना पड़ता है जब तक आंदोलन आपका दूसरा स्वाभाव न बन जाए और जटिल ढांचों पर नियंत्रण हासिल किया जा सकता है - जो केवल एक अकेले सदस्य के कौशल पर ही नहीं बल्कि पूरे दल की एक साथ आन्दोलन करने की एकाग्रता पर भी निर्भर करता है।[2]

साहित्य में[संपादित करें]

लॉरेंस फर्लिंगेटी की "द ग्रेट चाइनीज ड्रैगन" नामक कविता ड्रैगन नृत्य से प्रेरित थी जिसे उनके 1961 के संकलन स्टार्टिंग फ्रॉम सैन फ्रांसिस्को में प्रकाशित किया गया था। ग्रेगरी स्टीफेंसन का कहना है कि ड्रैगन "... 'जीवन की शक्ति और रहस्य' का प्रतिनिधित्व करता है जो एक ऐसा सच्चा दृष्टिकोण है जिससे 'सांसारिक दुनिया में हर जगह पारभासी अध्यात्म दिखाई देता है।'"[3][3] अर्ल लवलेस के "द ड्रैगन कांट डांस" नामक उपन्यास में वेस्ट इंडीज के सामाजिक परिवर्तन और इतिहास पर खोजबीन करने के लिए कार्निवल नृत्य की विषय वस्तु का इस्तेमाल किया गया है।[4]

नोट्स[संपादित करें]

  1. "Longest Chinese-style Dragon Journeys to Olympics". मूल से 16 जुलाई 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2010-02-08.
  2. चीनी ड्रैगन नृत्य के इतिहास और प्रदर्शन की एकत्रित जानकारी और संग्रह.
  3. "Ferlinghetti, Lawrence (Vol. 111) - Introduction". eNotes.com. मूल से 17 अगस्त 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2010-02-18.
  4. Daryl Cumber Dance (1986). Fifty Caribbean writers: a bio-bibliographical critical sourcebook. Greenwood Publishing Group. पृ॰ 282. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0313239398.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

साँचा:Chinese New Year