डिजिटल मार्केटिंग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search


डिजिटल मार्केटिंग इंटरनेट पर डिजिटल तकनीकों का उपयोग करने वाले उत्पादों या सेवाओं का विपणन है, जिसमें मोबाइल फोन ऐप्स के माध्यम से, प्रदर्शन विज्ञापन और किसी भी डिजिटल माध्यम का उपयोग शामिल है। डिजिटल मार्केटिंग चैनल इंटरनेट पर आधारित सिस्टम हैं जो डिजिटल नेटवर्क द्वारा निर्माता से टर्मिनल उपभोक्ता तक उत्पाद मूल्य को बना सकते हैं, बढ़ा सकते हैं और प्रसारित कर सकते हैं।[1]

खोज इंजन अनुकूलन (एसईओ), खोज इंजन विपणन (एसईएम), सामग्री विपणन, प्रभावित विपणन, सामग्री स्वचालन, अभियान विपणन, डेटा-संचालित विपणन, ई-कॉमर्स विपणन, सोशल मीडिया विपणन, सोशल मीडिया जैसे डिजिटल विपणन के तरीके अनुकूलन, ई-मेल प्रत्यक्ष विपणन, प्रदर्शन विज्ञापन, ई-पुस्तकें, और ऑप्टिकल डिस्क और गेम आम हो गए हैं। डिजिटल मार्केटिंग गैर-इंटरनेट चैनलों तक फैली हुई है, जो डिजिटल मीडिया, जैसे कि टेलीविज़न, मोबाइल फोन (एसएमएस और एमएमएस), कॉलबैक और ऑन-होल्ड मोबाइल रिंग टोन प्रदान करते हैं। गैर-इंटरनेट चैनलों का विस्तार ऑनलाइन मार्केटिंग से डिजिटल मार्केटिंग को अलग करता है, ऊपर उल्लिखित विपणन विधियों के लिए एक और कैच-ऑल टर्म।

इतिहास[संपादित करें]

कुछ लोगों का कहना है कि पहले डिजिटल बाज़ारिया गुग्लिल्मो मार्कोनी थे, क्योंकि उन्होंने रेडियो का आविष्कार किया था। लेकिन दूसरों के अनुसार डिजिटल मार्केटिंग के युग की शुरुआत 1971 में हुई जब रे टॉमलिंसन ने खुद को पहला ईमेल भेजा, क्योंकि उस समय कोई और ईमेल वापस नहीं आया था। डिजिटल मार्केटिंग के इतिहास का एक बेहतर शुरु 1990 से शुरू हुआ क्योंकि जब खोज इंजन का जन्म हुआ था। इसे आर्ची कहा जाता था। 1993 में, पहला क्लिक करने योग्य बैनर लाइव हो गया। वेबसाइटों पर विज्ञापन के लिए हॉटवायर्ड खरीदे गए बैनर विज्ञापन नामक कंपनी। ऑनलाइन विज्ञापन आ गया था। 1994 में, याहू आविष्कार किया गया था। जब लोगों ने जानकारी के लिए वेब खोजना शुरू किया।

जरूरत[संपादित करें]

आज के समय में जहा लोगो की पसंद हर सेकंड बदलती है वहां हमें मार्केटिंग के तरीके भी वही अपनाने चाहिए जिन्हे हम लोगो की पसंद के हिसाब से किसी भी समय बदल सकें। क्योंकि इससे एक तो मार्केटर का पैसा बचेगा और ज़्यादा टार्गेटेड ऑडियंस भी मिलेगी और जिससे आपके बिज़नेस का ROI भी बढ़ेगा। जैसे के हम पहले मार्केटिंग में हम स्ट्रेटेजी बनाते थे और उस पर अमल करते थे और इंतज़ार करते थे कुछ दिनों का और लोगो के रिएक्शन से जज करते थे के हमारी मार्केटिंग सफल हुई या नहीं परन्तु अब हमे इतने दिन इंतज़ार की कोई ज़रुरत नहीं क्युकी हम रियल टाइम में लोगो का रिस्पांस ट्रैक कर सकते है और हर दिन नयी स्ट्रेटेजी के हिसाब से अपनी मार्केटिंग स्ट्रेटेजीज में बदलाव कर सकते हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "इंटरनेट मीडिया के सही इस्तेमाल से आपको मिल सकता फायदा, बता रहे युवा लेखक अंशुमन भगत". Dainik Jagran. अभिगमन तिथि 2021-11-18.