झांसा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सन् १८३५ में अमेरिकी पत्रिका "द सन" में यह झांसा छपा की प्रसिद्ध खगोलशास्त्री जॉन हर्शल ने दूरबीन से चंद्रमा पर बसने वाले प्राणी देख लिए हैं जो मानवोंचमगादड़ों का मिश्रण हैं। यह झूठ था - न तो चंद्रमा पर ऐसे कोई प्राणी थे और न ही जॉन हर्शल ने ऐसी कोई भी चीज़ दिखने का कोई दावा करा था।

झांसा (hoax) ऐसा झूठ होता है जो जानबूझ कर सत्य प्रतीत होने के लिए गढ़ा गया हो। इसका उद्देश्य किसी को ठगना, मज़ाक बनाना या अन्य कुछ हो सकता है।[1][2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. MacDougall, Curtis D. (1958). Hoaxes. Dover. p. 6. ISBN 0-486-20465-0.
  2. Brunvand, Jan H. (2001). Encyclopedia of Urban Legends. W. W. Norton & Company. p. 194. ISBN 1-57607-076-X.