चोकिंग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

चोकिंग सांस लेने में उत्पन्न हुई अप्राकृतिक बाधा है। दम घुटने की इस प्रक्रिया में कोई बाहरी वस्तु जैसे की: भोजन का टुकड़ा या अन्य कोई कठोर वस्तु फँस जाती है। इसके कारण ग्रसनी और श्वास नलियों में वायु की आपूर्ति बंद हो जाने से मृत्यु हो जाती है।[1] चोकिंग के कारण मनुष्य न ही कुछ बोल सकता है और न ही चिल्ला सकता है जिससे उसकी मदद का रास्ता भी बंद हो जाता है और उसकी मृत्यु हो जाती है। सामान्य रूप से चोकिंग के कारण मृत्यु का खतरा छोटे बच्चों और वृद्धों में अधिक होता है। चोकिंग होने पर ऑक्सीजन की कमी के कारण मुह नीला हो जाता है और व्यक्ति बेहोश हो जाता है। ऐसे में किसी की भी मदद न मिलने के कारण उसकी मृत्यु हो जाती है।[2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Ross, Darrell Lee; Chan, Theodore C (2006). Sudden Deaths in Custody. ISBN 978-1-59745-015-7.
  2. Yadav SP, Singh J, Aggarwal N, Goel A (September 2007). "Airway foreign bodies in children: experience of 132 cases" (PDF). Singapore Med J. 48 (9): 850–3. PMID 17728968