चॉल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मुम्बई में एक चॉल का दृश्य

चॉल (मराठी : चाळ) शहर मुम्बई में जगह की कमी और भीड़भाड़ के कारण एक खास तरह की बनाई गईं इमारतें हैं। ये इमारतें बहुमंजिला होती हैं , जिनमें एक-एक कमरे वाली आवासीय इकाइयाँ बनाई जाती थीं। इमारत के सारे कमरों के सामने एक खुला बरामदा या गलियारा होता है और बीच में दालान होता है।

इतिहास[संपादित करें]

चॉल की शुरुआत लगभग १८वीं सदी में हुईं थी उस समय भारत पर ब्रिटिश का राज था। जनसंख्या की अधिकता के कारण चॉलों का निर्माण करवाया गया।

सुविधाएँ[संपादित करें]

चॉल में कई सुविधाएँ होती है। यहाँ पर एक साथ कई परिवार अपने सुख-दु:ख को बांटकर एक साथ रहते हैं तथा सभी लोग एक-दूसरे के सुख-दु:ख में भागीदार होते थे। [1][2]

सन्दर्भ[संपादित करें]