चंडीगढ़ राज्य एड्स नियंत्रण सोसाइटी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

चंडीगढ़ राज्य एड्स नियंत्रण सोसाइटी केंद्र-शासित क्षेत्र चंडीगढ़ में एड्स नियंत्रण, जागरण तथा रक्त बैंकों की देखरेख का काम करती है। चंडीगढ़ में 10.54 लाख की आबादी (2010 जनगणना) है। जनसंख्या का घनत्व प्रति स्कवैर किलोमीटर 9252 व्यक्ति है। जनसंख्या में लिंग-अनुपात प्रति हजार पुरुषों में 818 महिलाओं का है। शहरी क्षेत्रों में रहनेवालों की जनसंख्या का प्रतिशत 89.8% है और ग्रामीण आबादी 10.2% है। क्षेत्र में साक्षरता की दर 81.9% है। चंडीगढ़ में युवाओं में एचआइवी प्रसार 2003 में 0.5% था परन्तु 2006 में कमी आई है और तब से यह 0.25% बना रहा है।[1]

गुल पनाग चंडीगढ़ राज्य एड्स नियंत्रण सोसाइटी के समर्थन से सद्भावना राजदूत[संपादित करें]

गुल पनाग चंडीगढ़ राज्य एड्स नियंत्रण सोसाइटी के समर्थन से 2004 में सद्भावना राजदूत बनाई गयीं थीं

भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई, उत्तर क्षेत्र) ने अभिनेत्री गुल पनाग को 2004 में अपने एड्स जागरुकता अभियान का ' सद्भावना राजदूत ' नियुक्त किया है। परिसंघ की विज्ञप्ति के अनुसार इस परियोजना को चंडीगढ़ राज्य एड्स नियंत्रण सोसाइटी एवं स्वास्थ्य मंत्रालय के सहयोग से लागू किया गया था। इस परियोजना के तहत चंडीगढ़ के लोगों विशेषकर औद्योगिक श्रमिकों को एड्स संबंधी विषयों पर जागरुक किया गया था। सीआईआई (उत्तर क्षेत्र) इस अभियान को पूरे उत्तर क्षेत्र में चलाया गया था।[2]

विश्व एड्स दिवस समारोह[संपादित करें]

विश्व एड्स दिवस पर चंडीगढ़ में रक्त एकत्र करने के लिए एक मोबाइल वैन सेवा उपलब्ध की गई है जिसके साथ ही राज्य एड्स नियंत्रण सोसाइटी दो दिवसीय सम्मेलन आयोजित करके लोगों को इस बारे में जागरूक करती है। इन सम्मेलनों के पहले दिन रक्त सुरक्षा, जानपदिक रोग विज्ञान और निगरानी, सहायता, देखभाल, उपचार और सामाजिक- मेडिको कानूनी मुद्दों से संबंधित मुद्दों पर विचार- विमर्श किया जाता है।[3]

चंडीगढ़ में उपलभ्द रक्त सेवाएँ[संपादित करें]

राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन (नाको) ने चंडीगढ़ को ब्लड ट्रांसफ्यूजन सेवाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ बताया है। इस शहर को यहां के स्वैच्छिक रक्तदान अभियानों के लिए जाना जाता है। शहर में चार लाइसेंसधारी ब्लड बैंक हैं, जो स्वैच्छिक दान द्वारा 80 प्रतिशत रक्त संग्रहित करते हैं। चंडीगढ़ में प्रतिदिन 115 यूनिट रक्त संग्रहित किया जाता है।[4]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "HIV/AIDS". CSACS. मूल से 9 जुलाई 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9July 2012. |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  2. "गुल पनाग CII की सद्भावना राजदूत". Nav Bharat Times. मूल से 6 अप्रैल 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9July 2012. |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  3. "रक्त एकत्र करने के लिए मोबाइल वैन लांच". Jagran. मूल से 24 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9July 2012. |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  4. "चंडीगढ़ के मॉलों में रक्त संग्रह केंद्र खोलने की योजना". One India Hindi. अभिगमन तिथि 9July 2012. |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)