ग्रसन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
जुलाई 1997 में वीडियो से लिया किया गया दृश्य , चमकीला रोहिणी तारा भोर के समय चंद्रमा के अंधेरे भाग पर फिर से प्रकट हुआ है।

ग्रसन (अंग्रेजी: occultation) तब होता है जब किसी पिण्ड और प्रेक्षक (दर्शक) के बीच में अन्य पिण्ड आकर उसे पूरी तरह से छुपा ले ।

यदि निकट वाला पिण्ड पीछे वाले पिण्ड को पूरी तरह से नहीं छुपाता है, तो घटना को संक्रमण कहा जाता है। संक्रमण और ग्रसन दोनों को आम तौर पर अधिरोधन कहा जा सकता है; और यदि ग्रसन या संक्रमण के कारण दर्शक पर छाया पड़ती है तो उसे ग्रहण कहते हैं।[1][2]

17 अप्रैल 2021 का यह टाइम लैप्स वीडियो : चंद्रमा द्वारा मंगल के ग्रसे जाने (ग्रसन होने) के बाद अर्धचंद्राकार चंद्रमा के चमकीले भाग पर फिर से प्रकट होता है।


शब्द सन्दर्भ[संपादित करें]

इस घटना के लिए ग्रास , भेदन जैसे शब्दों का प्रयोग हुआ है। जबकि शब्दावली आयोग के शब्द संग्रह में इसके लिए उपगूहन शब्द दिया गया है, जो समझने में कठिन प्रतीत होता है। [3]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

चन्द्रपात

ग्रहण युग

ग्रहण वर्ष

ग्रहण ऋतु

ग्रहण

ग्रसन

चान्द्र अयन

आभासी चंद्र दोलन

चंद्रकला

कक्षीय पात

प्रच्छाया , उपछाया और अग्रछाया

समान्तरीय किरणपुंज

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Jean Meeus: Transits. Richmond, Virginia: Willmann-Bell, Inc., 1989, ISBN 0-943396-25-5
  2. Jean Meeus: Astronomical Tables of the Sun, Moon and Planets. Richmond, Virginia: Willmann-Bell, Inc., 1995, ISBN 0-943396-45-X
  3. वैज्ञानिक शब्दावली आयोग. "Occultation". csttpublication.